हमारे हौसलों से ही हारेगा कोरोना

-पिता-पुत्र ने जीती कोरोना से जंग

By: Meghshyam Parashar

Updated: 02 May 2021, 05:49 PM IST

भरतपुर. कोरोना संक्रमित होने के बाद इसे हल्के में लेने की भूल कतई नहीं करें। सावधानी से सतर्क रहकर हम कोरोना जैसी महामारी को हरा सकते हैं। समय पर दवा और उचित खान-पान के साथ बीमारी से बिना घबराए हौसलों के सहारे इस जंग में जीत निश्चित है। यह कहना है कृष्णा नगर निवासी त्रिलोकचंद जैन (53) का। दोनों डोज लगने के बाद भी संक्रमित हुए जैन एवं उनका बेटा अब पूरी तरह स्वस्थ हैं।
आरबीएम में मेल नर्स प्रथम के पद पर कार्यरत जैन बताते हैं कि मैंने वैक्सीन की दोनों डोज लगवा ली थीं। इसके बाद भी 20 अप्रेल को मुझे लक्षण महसूस हुए। इस पर मैंने खुद का एवं बेटे निशांत जैन (22) का टेस्ट कराया तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई, लेकिन संक्रमित होने के बाद भी मैं पूरी तरह संयमित रहा और बीमारी को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के साथ ही यह ठान लिया था कि कोरोना को हराना है। इसके लिए घर पर ही होम पिता-पुत्र आइसोलेट हो गए और निश्चित समय पर चिकित्सक की सलाह पर दवाओं का सेवन किया। साथ ही पूरी निष्ठा के साथ सरकारी गाइडन लाइन का पालन किया। इसका नतीजा यह रहा कि हमारी रिपोर्ट 28 अप्रेल को नेगेटिव आ गई। जैन कहते हैं कि यदि संक्रमित हो भी जाएं तो कतई घबराएं नहीं और सकारात्मक सोच के साथ बीमारी से लड़े। निश्चित रूप से जीत आपकी होगी।

खान-पान का रखें बेहद ख्याल

जैन कहते हैं कि बीमारी के समय खान-पान का पूरी तरह से ख्याल रखें। लिक्विड अधिक मात्रा में लें और गर्म पानी पीने के साथ ही गर्म पानी के गरारे करें। भय को अपने अंदर कतई हावी नहीं होने दें। ताजा और पौष्टिक भोजन लें, इससे शरीर की सभी जरुरतें पूरी हो सकें। जैन कहते हैं कि घर में रहकर भी हमने गाइड लाइन का सख्ती से पालन किया। इसका परिणाम यह रहा कि परिवार का अन्य कोई सदस्य संक्रमित नहीं हो सका।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned