सड़कों पर दौड़ रहे यमदूत, रोज एक मौत

जिले में आएदिन हो रहे सड़क हादसों ने पुलिस को चिंता में डाल दिया है। हाल ये है कि ऐसा कोई दिन नहीं गुजर

By: मुकेश शर्मा

Published: 24 Apr 2016, 11:50 PM IST

भरतपुर।जिले में आएदिन हो रहे सड़क हादसों ने पुलिस को चिंता में डाल दिया है। हाल ये है कि ऐसा कोई दिन नहीं गुजर रहा, जिस दिन हादसा नहीं हुआ हो। एक अनुमान के अनुसार जिले में प्रति माह करीब पचास दुर्घटनाएं सामने आ रही हैं। अगर बीते तीन माह (जनवरी से मार्च) के अंाकड़ों पर गौर करें तो जिले में सड़क हादसों में 87 लोग जान गवा चुके हैं। जो गत वर्ष की अपेक्षा सत्रह अधिक हैं। हादसों से चिंतित वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने थाना प्रभारियों को लापरवाह तरीके से वाहन चलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

जिले में यह हैं दुर्घटना स्थल


जयपुर हाई-वे पर कई स्थान दुर्घटना स्थल के रूप में चिह्नित हैं। इसमें ऊंचा नगला, सारस चौराहा, शीशम तिराहा, लुधावई, सेवर तिराहा, हंतरा, पहरसर, डहरा गांव आदि स्थान हैं। इसके अलावा कुम्हेर रोड पर अनोखी होटल, कंजौली तिराहा, मथुरा रोड पर हनुमान तिराहा व मथुरा बाइपास भी आएदिन लोग दुर्घटनाओं का शिकार होते रहते हैं।

गत वर्ष से बढ़े मामले

सड़क दुर्घटनाओं में बीते तीन मााह में गत वर्ष की अपेक्षा बढ़ोतरी हुई है। जिले में मार्च तक कुल 168 हादसों में कुल 87 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 127 घायल हुए। जबकि वर्ष 2015 में 140 सड़क हादसे सामने आए थे। इनमें 70 लोगों की जान गई थी और 119 घायल हुए थे। वहीं, वर्ष 2014 में पहले तीन महीनों में सर्वाधिक दुर्घटनाएं सामने आई। उस वर्ष तीन माह में 174 सड़क हादसे हुए ओर 91 लोग अकाल मौत का ग्रास बने तथा 148 लोग घायल हुए थे।

हाई-वे पर सर्वाधिक दुर्घटनाएं


जिले से गुजर रहे राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 11 पर सर्वाधिक दुर्घटनाएं सामने आ रही हैं। यहां पर तेज रफ्तार वाहन आएदिन हादसों का शिकार हो रहे हैं। वहीं, हाई-वे से जुड़ी एप्रोच रोड खतरनाक साबित हो रही हैं। इन मार्गों पर अचानक रफ्तार से वाहन आने से कई बार गंभीर सड़क दुर्घटनाएं सामने आई हैं। इसके अलावा थोड़े से लालच में लोग गलत दिशा में चलते हुए अगले मोड़ तक चले जाते हैं, जो कई बार दुर्घटना का कारण बनी हैं। इसके अलावा हाई-वे पर डिवाइडर में अनाधिकृत रूप से बनाए कट भी जानलेवा साबित हो रहे हैं। अचानक इन कटों में से दुपाहिया व साइकिल सवारों के आने से सामने से आ रहा वाहन दुर्घटना का शिकार हो जाता है।

हादसों में कमी लाने पर जोर

प्रदेशभर में हादसों को लेकर पुलिस मुख्यालय के अधिकारी चिंतित है। यही वजह है कि इस वर्ष पुलिस ने प्राथमिकताओं में सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने का निर्णय किया है। वरिष्ठ अधिकारी  सुरक्षित वाहन संचालन पर जोर दे रहे हैं। इसी के तहत पिछले दिनों जिला मुख्यालय पर यातायात कर्मी सहित परिवहन विभाग के कर्मचारियों की कार्यशाला आयोजित हुई थी। इधर, शहर में दो स्थानों पर ट्रेफिक लाइट लगाकर बेतरतीब तरीके से चलने वाले यातायात को व्यवस्थित करने के प्रयास हो रहे हैं।

 सड़क हादसों में इस वर्ष बढ़ोतरी हुई है, यह चिंता की बात है। सड़क पर चलने वाले सभी व्यक्तियों को सावधानी बरतनी होगी, चाहे वह राहगीर हो या वाहन चालक। थाना प्रभारियों को लापरवाह चालकों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।राहुल प्रकाश,पुलिस अधीक्षक
मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned