Bharatpur News: सरकारी और निजी कॉलेजों के बीच परेशान हो रहे विद्यार्थी

भरतपुर. एमएसजे कॉलेज के विद्यार्थियों को इस बार दोहरे विकास शुल्क की मार झेलनी पड़ रही है। पहले तो विद्यार्थियों ने संबंधित महाविद्यालयों में परीक्षा आवेदन के समय विकास शुल्क जमा कराया और अब निजी कॉलेजों में परीक्षा के दौरान कॉलेज संचालक इन्हीं विद्यार्थियों से फिर से विकास शुल्क के नाम पर 200-300 रुपए वसूल रहे हैं।

By: shyamveer Singh

Published: 04 Apr 2019, 01:00 AM IST

भरतपुर. एमएसजे कॉलेज के विद्यार्थियों को इस बार दोहरे विकास शुल्क की मार झेलनी पड़ रही है। पहले तो विद्यार्थियों ने संबंधित महाविद्यालयों में परीक्षा आवेदन के समय विकास शुल्क जमा कराया और अब निजी कॉलेजों में परीक्षा के दौरान कॉलेज संचालक इन्हीं विद्यार्थियों से फिर से विकास शुल्क के नाम पर 200-300 रुपए वसूल रहे हैं। इसको लेकर बुधवार को बृज विश्वविद्यालय के छात्र नेता विनीत सिनसिनी, एमएसजे कॉलेज के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष सुरेन्द्र सांतरुक व अंकु तेरहियां के नेतृत्व में विद्यार्थियों ने विश्वविद्यालय परिसर में विरोध प्रदर्शन किया और विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक डॉ. अरुण कुमार पाण्डेय को ज्ञापन देकर संबंधित महाविद्यालयों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।


परीक्षा केन्द्र बदला तो वसूली का खेल शुरू
इस बार लोकसभा चुनावों के चलते एमएसजे कॉलेज को परीक्षा केन्द्र नहीं बनाया गया है। ऐसे में एमएसजे कॉलेज के करीब सात हजार विद्यार्थियों के लिए निजी कॉलेजों को परीक्षा केन्द्र बनाया गया है, जहां पर परीक्षा देने पहुंच रहे विद्यार्थियों से फिर से विकास शुल्क लिया जा रहा है। छात्रों ने बताया कि शहर के जेके कॉलेज व बाबा लक्ष्मणदास कॉलेज में विकास शुल्क के नाम पर 200-200 रुपए वसूले गए हैं।

 

ज्ञापन में सुरेन्द्र सांतरुक ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा बनाए गए अधिकतर परीक्षा केन्द्रों (निजी कॉलेज) पर कॉलेज संचालक परीक्षार्थियों से विकास शुल्क के नाम पर 200-300 रुपए की अवैध वसूली कर रहे हैं। कुछ संचालक छात्रों से वसूल कर विकास शुल्क की रसीद काट रहे हैं, तो कुछ संचालक बिना रसीद दिए छात्रों से फीस ले रहे हैं। जबकि विश्वविद्यालय द्वारा सभी राजकीय व निजी कॉलेजों को परीक्षा करवाने व अन्य सुविधा उपलबध कराने के लिए खर्चा दिया जाता है। छात्र नेता विनीत फौजदार ने ज्ञापन में लिखा है कि अगर विश्वविद्यालय प्रशासन ने इस पर 24 घंटे में कठोर कदम नहीं उठाया, तो विश्वविद्यालय के खिलाफ तालाबन्दी कर विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। इस मौके पर तेजपाल ताखा, विनय सोलंकी, कृपाल गोपाल नगला, विकास फौजदार, थानवेन्द्र राजपूत, दलवीर अबार, बबलू, पंकज बरताई, समय सोगरवाल, आकाश हाथी, देवेन्द्र पैंघोर, प्रदीप पैंघोर आदि छात्र मौजूद रहे।

shyamveer Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned