25 साल में पहली बार कांग्रेस का लोहागढ़, अभिजीत कुमार बने मेयर

कांग्रेस और भाजपा के खेमे की बाड़ेबंदी का जो सच मंगलवार दोपहर मतदान के बाद खुलकर सामने आया, उसने हर किसी को हैरत में डाल दिया।

By: rohit sharma

Published: 27 Nov 2019, 02:14 AM IST

भरतपुर. कांग्रेस और भाजपा के खेमे की बाड़ेबंदी का जो सच मंगलवार दोपहर मतदान के बाद खुलकर सामने आया, उसने हर किसी को हैरत में डाल दिया। क्योंकि कांग्रेस के प्रत्याशी अभिजीत कुमार ने 37 मतों के अंतर से भाजपा प्रत्याशी शिवानी दायमा को करारी शिकस्त दी है। अभिजीत को 65 में से 51 वोट मिले तो शिवानी को 14 मत मिले। इस तरह भाजपा के आठ व समर्थित दो पार्षदों ने क्रॉस वोटिंग की है। जब परिणाम सामने आया तो भाजपा के निकाय चुनाव पर्यवेक्षक पूर्व मंत्री वासुदेव देवनानी भी इस सच का सामना करने से बचते नजर आए।


नगर निगम के चुनाव में इस बार भाजपा के 22, निर्दलीय 22, बसपा के तीन व कांग्रेस के 18 पार्षद जीतकर आएथे। 19 नवंबर को मतगणना के बाद से ही दावा किया जा रहा था कि कांग्रेस के जयपुर में स्थित जामडोली में कैंप में 50 से अधिक पार्षद शामिल हैं। इसमें भाजपा के भी छह से 10 पार्षदों के शामिल होने की बात सामने आई थी, लेकिन एक दिन पूर्व ही भाजपा नेताओं के व्हिप जारी करने व पार्टी के प्रति वफादारी निभाने पर आगामी समय में इसका परिणाम देने की बात कर दो पार्षदों को वापस बुलाने में सफलता मिल गई। सबसे बड़ी बात यह है कि भरतपुर के 25 साल के इतिहास में पहली बार कांग्रेस के हाथ में शहरी सरकार सरकार सौंपी गई है। सुबह पौने 10 बजे से ही कैबीनेट मंत्री विश्वेंद्र सिंह बिजलीघर चौराहे पहुंचे, जहां गाड़ी से उतरने के बाद पैदल ही कांग्रेस के प्रत्याशी अभिजीत कुमार के साथ नगर निगम के गेट पर पहुंचे। उधर, जब भाजपा के निकाय चुनाव के पर्यवेक्षक एवं पूर्व मंत्री वासुदेव देवनानी पार्टीके पार्षदों का दल साथ लेकर नगर निगम के गेट के पास पहुंचे तो कैबीनेट मंत्री ने उन्हें भी माला पहनाई।

भाजपा की कलह उजागर हुई: विश्वेन्द्र


केबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने कहा कि आज भाजपा की धज्जियां उड़ चुकी हैं। प्रदेश स्तर पर तो कलह चल ही रही है। अब भरतपुर जिले में भी भाजपा में कलह उजागर हो चुकी है। 25 साल से यहां भाजपा का कब्जा था। हमारे 18 पार्षद जीतकर आएथे, उनके 22 थे। फिर भी हमने 51 वोटलेकर जीत दर्जकी है। शहर की बहुत सारी समस्याएं हैं। अब उनके निराकरण का जिम्मा कांग्रेस के बोर्ड का है। सबसे ज्यादा मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री का धन्यवाद दूंगा कि उन्होंने मेरी, डॉ. सुभाष गर्गव भजनलाल जाटव की सिफारिश पर सही प्रत्याशी को चुना।

rohit sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned