मेडिकल कॉलेज से जुड़े पर्चा लीक के तार, प्राचार्य बोले अफवाह

- छुट्टी लेकर गई छात्रा का नाम आ रहा सामने

By: Meghshyam Parashar

Updated: 15 Sep 2021, 01:25 PM IST

भरतपुर. नीट परीक्षा का पर्चा लीक होने का खुलासा होने के बाद इसके तार भरतपुर मेडिकल कॉलेज से जुडऩे का दावा किया जा रहा है। इस प्रकरण में भरतपुर मेडिकल कॉलेज की एक छात्रा के शामिल होने की बात शामिल आ रही है। इस छात्रा के एक सप्ताह की छुट्टी की पुष्टि मेडिकल कॉलेज ने की है। इस मामले में पुलिस ने छात्रा की गिरफ्तारी के दावे किए हैं। वहीं छात्रा के परिजनों ने उसके घर पर होने का दावा किया है। हालांकि मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य ने इसे मिलते-जुलते नामों के कारण अफवाह बताया है।
पुलिस के अनुसार भांकरोटा के एक कॉलेज से रविवार दोपहर 2.30 बजे पेपर खुलते ही सात मिनट में 2.37 बजे सीकर पहुंचाया गया। सीकर की एक कोचिंग के शिक्षकों ने डेढ़ घंटे में प्रश्न पत्र हल कर वापस जयपुर के उसी कॉलेज में 4.30 बजे पहुंचा दिया। यहां एक छात्रा ने नकल कर 200 में से 172 प्रश्न हल भी कर दिए। पुलिस ने पूरे मामले में अभ्यर्थी छात्रा सहित आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस का दावा है कि पेपर भांकरोटा स्थित राजस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी सेंटर (आरआइईटी) से लीक हुआ था। वहीं नीट/जेईई में पास कराने के नाम पर वसूली करने वाले गिरोह के 9 जनों को कोटा व जयपुर से गिरफ्तार किया है। आरोपियों में पीएमटी का सैकंड टॉपर, चिकित्सक व राजनीति में भाग्य आजमा चुका कोटा का कोचिंग सेंटर संचालक डॉ. राजन राजगुरू भी शामिल हे। इसके अलावा देहरादून, बनारस, भरतपुर के मेडिकल-वेटनरी कॉलेज के छह छात्र-छात्राएं व दो दलाल शामिल हैं।
नीट परीक्षा में अन्य अभ्यर्थी के स्थान पर परीक्षा देते हुए एक छात्रा को गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार की गई छात्रा भरतपुर मेडिकल कॉलेज की है। जानकारी के अनुसार छात्रा कॉलेज से अपने छोटे भाई की किडनी फेलियर के नाम पर एक सप्ताह की छुट्टी लेकर घर गई थी। छात्रा का एक छोटा भाई बाड़मेर के मेडिकल कॉलेज से मेडिकल की पढ़ाई कर रहा है। इस मामले में मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. रजत श्रीवास्तव ने बताया कि छात्रा भरतपुर मेडिकल कॉलेज की टॉपर विद्यार्थी है। छात्रा के पिता ने दावा किया है कि उनकी बेटी घर पर ही है, जबकि पुलिस कह रही है कि उन्होंने छात्रा को गिरफ्तार कर लिया है। अकादमी प्रभारी डॉ. मोना ने बताया कि छात्रा छह सितंबर को भरतपुर मेडिकल कॉलेज से एक सप्ताह की छुट्टी लेकर घर गई थी। छुट्टी लेने की वजह उसने अपने छोटे भाई का किडनी फेलियर होना बताया था। इसके चलते इमरजेंसी में छुट्टी लेकर गई थी।

छात्रा का मोबाइल स्विच ऑफ, पिता ने जताई अनविज्ञता

प्राचार्य ने बताया कि छात्रा का मोबाइल स्विच ऑफ है। उसके पिता से बात हुई है। छात्रा के पिता इस पूरे प्रकरण से पूरी तरह से अनभिज्ञता जताई है। प्राचार्य ने बताया कि पिता ने छात्रा के घर पर होने की बात कही है, जबकि पुलिस छात्रा को गिरफ्तार करने की बात कह रही है। प्राचार्य ने दावा किया है कि छात्रा मेडिकल कॉलेज की टॉपर छात्रा है और यह कन्फ्यूजन सिर्फ मिलते-जुलते नाम की वजह से हुआ है। उन्होंने कहा कि इस बच्ची के खिलाफ यह अफवाह जैसी बात है।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned