scriptgood time all day | 19 साल बाद इस बार धनतेरस पर त्रिपुष्कर योग, दिनभर शुभ मुहूर्त | Patrika News

19 साल बाद इस बार धनतेरस पर त्रिपुष्कर योग, दिनभर शुभ मुहूर्त

-खरीदारी को बेहद शुभ: भगवान धन्वंतरि पूजन का भी विशेष दिन

भरतपुर

Published: November 02, 2021 09:14:59 am

भरतपुर. अब गुरू पुष्य नक्षत्र के बाद ठीक तीन दिन बाद एक और सबसे बड़ा शुभ मुहूर्त आने वाला है। वह होगा दो नवंबर को बाजारों में धन वर्षा और भगवान धन्वंतरि के पूजन का दिन मतलब धनतेरस। हर किसी को इस शुभ संयोग का इंतजार रहता है। इसलिए हर सेक्टर के बाजार चहकने के लिए महीनेभर पहले से कारोबारी तैयारी रखते हैं। ज्योतिषियों की मानें तो कई वर्षों बाद त्रिपुष्कर योग में इस बार धनतेरस मनेगा, जो दुर्लभ संयोग बना रही है।
ज्योतिषी मानते हैं कि ऐसा पहली बार जिस तरह गुरू पुष्य नक्षत्र में तीन प्रमुख अमृत योग, रवि योग और सर्वार्थ सिद्धि योग का संयोग था। वैसा ही लाभदायी, फलदायी संयोग में धनतेरस मनने वाली है। क्योंकि इस तिथि पर त्रिपुष्कर योग 19 वर्षों बाद बना है। कोरोनाकाल के लंबे समय में धीमी पड़ी अर्थव्यवस्था की दृष्टि से पटरी पर दौडऩे वाला सिद्ध हो सकता है। दीपावली से पहले धनतेरस ऐसी तिथि होती है, जब हर कोई अपनी-अपनी अर्थ क्षमता से वस्तुओं की खरीदारी करके ही धन धान्य की देवी महालक्ष्मी की पूजा करता है। शुभ मुहूर्त भी ऐसा कि दिनभर मंगलकारी मुहूर्त रहेगा। यानि कि धनतेरस पर जो चाहें, जिस समय अपनी मनचाही वस्तुओं की खरीदारी कर सकते हैं। पं. मनु मुदगल ने बताया कि त्रिपुष्कर योग के शुभ मुहूर्त में किए गए कार्य फलदायी और सिद्ध होते हैं। इसलिए सबसे अधिक खरीदारी का महत्व है। इसी दिन रोग-दोष संतापों को दूर करने वाले देवता भगवान धन्वंतरि की पूजा उत्साह दोगुना कर देती है। क्योंकि घर-घर में नई-नई वस्तुएं आती हैं।
19 साल बाद इस बार धनतेरस पर त्रिपुष्कर योग, दिनभर शुभ मुहूर्त
19 साल बाद इस बार धनतेरस पर त्रिपुष्कर योग, दिनभर शुभ मुहूर्त
पांच दिन पंच दीपावली महोत्सव की शुरुआत

पं. राममोहन शर्मा ने बताया कि दीपावली त्योहार मनाने की शुरुआत दरअसल धनतेरस की खरीदारी के साथ ही होती है। यानी कि जमकर खरीदारी के साथ शाम को घर-घर 13 दीपों से घर-घर कोना-कोना जगमग लक्ष्मी माता की अगुवाई में की जाती है। इस तिथि पर घर-परिवार के सुख-समृद्धि और रोष-दोष्ज्ञ संतापों से मुक्ति के लिए आयुर्वेद के जनक भगवान धन्वंतरि की पूजा का विशेष महत्व है, क्योंकि धन्वंतरि जयंती होती है। इस बार यह जरूरी है कि एक तो कोरोना की मार और ऊपर से महंगाई का सबसे बड़ा टीका सबके सामने है।
संयोग रहेगा विशेष फलदायी

-इस दिन स्वर्ण, चांदी के आभूषण, इलेक्ट्रॉनिक्स, ऑटो मोबाइल्स, जमीन, मकान, वाहन खरीदना काफी शुभ माना गया है।

-मोती शंख या दक्षिणावर्ती शंख को अपनी दुकान या प्रतिष्ठान में स्थापित करने से व्यापार में तरक्की होती है।
-चांदी का छोटा सा एक चौकोर टुकड़ा या कटोरी का पूजन कर श्रीसूक्त का पाठ करें। इससे आर्थिक संकट दूर होता है।

-इस दिन भगवान विष्णु, माता लक्ष्मी की उपासना और श्रीयंत की खरीदी समृद्धि लाती है।
-बच्चों के उपनयन संस्कार और उसके बाद उसे पहली बार विद्याभ्यास के लिए गुरुकुल भेजा जाता है।

-इस दिन नए व्यापार और व्यवसाय की शुरुआत करना भी श्रेष्ठ माना जाता है।

-तंत्र-मंत्र की सिद्धि एवं जड़ी-बूटी ग्रहण का कार्य भी किया जाता है। इस दिन साधना में सफलता प्राप्त होती है।
-जन्मकुंडली में स्थित कोई ग्रह दूषित हो रहा है तो यह दिन दुष्प्रभाव दूर करने का सबसे उत्तम दिन माना गया है।

यह खरीदें

सोने की संपन्नता का प्रतीक माना गया है, लेकिन धनतेरस के दिन हर आदमी सोने की वस्तु को नहीं खरीद पाता है। ऐसे में स्टील की वस्तु की जगह आप पीतल के बर्तन खरीद सकते हैं।
चांदी का सिक्का

धनतेरस पर यदि आप चांदी की ज्वेलरी नहीं खरीद सकते तो एक बार चांदी का सिक्का अवश्य खरीद कर लाना चाहिए।

दरिद्रता दूर करती है झाडू

झाडू से हम घर की सफाई करते हैं, लेकिन वास्तव में झाडू को दरिद्रता दूर करने का प्रतीक माना जाता है। इसलिए धनतेरस पर झाडू जरूर खरीद कर लाना चाहिए।
समृद्धि का प्रतीक है अक्षत

अक्षत या चावल घर में किसी भी प्रकार की क्षति नहीं होने देता है। इसे बहुत ही शुभ माना जाता है। धनतेरस के दिन अक्षत जरूर लाना चाहिए।
घर में खुशहाली लाते हैं धनिया के बीज

धनतेरस पर बाजार से धनिया के बीज खरीद कर लाने चाहिए। इन्हें दीपावली के दिन पूजा करते समय मां लक्ष्मी को अर्पित करना चाहिए। इनमें से बचे कुछ बीजों को गमले या घर के बगीचे में बो देना चाहिए। मान्यता है कि इन बीजों से उगने वाली धनिया पत्तियां घर में समृद्धि और खुशहाली का प्रतीक मानी जाती है।
दान भी करें

वैसे तो पूरे कार्तिक माह को ही दान-पुण्य करने का पवित्र महीना माना जाता है, लेकिन धनतेरस के दिन भी दान का अलग ही महत्व होता है।

नया खाता खोलें
धनतेरस पर आप नया बैंक अकाउंट खोल सकते हैं। यह कारोबारियों के लिए अहम दिन है। शाम को होने वाली लक्ष्मी पूजा कारोबारियों के लिए शुभ मानी जाती है।

यह नहीं खरीदें

धनतेरस के दिन धारदार वस्तुएं खरीदने से बचें। इस दिन चाकू, कैंची, पिन, सूई या कोई धारदार सामान खरीदने से परहेज करना चाहिए। इसके अलावा लोहे की वस्तुएं नहीं खरीदने की सलाह भी ज्योतिषियों ने दी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कततत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal LoanNew Maruti Alto का इंटीरियर होगा बेहद ख़ास, एडवांस फीचर्स और शानदार माइलेज के साथ होगी लॉन्चVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!प्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टइन 4 राशि की लड़कियां अपने पति की किस्मत जगाने वाली मानी जाती हैंToyoto Innova से लेकर Maruti Brezza तक, CNG अवतार में आ रही है ये 7 मशहूर गाड़ियां, जानिए कब होंगी लॉन्च

बड़ी खबरें

गोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफासुरक्षा एजेंसियों की भुज में बड़ी कार्यवाही, 18 लाख के नकली नोटों के साथ डेढ़ किलो सोने के बिस्किट किए बरामदUP Assembly Elections 2022 : टिकट कटा तो बदली निष्ठा, कोई खोल रहा अपने नेता की पोल तो कोई दे रहा मरने की धमकीUP Assembly Elections 2022 : बसपा की दूसरी लिस्ट में 3 महिलाएं, 22 मुस्लिम चेहरें शामिल, देखिए पूरी लिस्टपीएम मोदी ने की जिला अधिकारियों से बात, बोले- आजादी के 75 साल बाद भी कई जिले रह गए पीछे, अब हो रहा अच्छा कामनेता प्रतिपक्ष की डीजीपी को चेतावनी, धरियावद थाने का स्टाफ नहीं हटाया तो धरने पर बैठूंगाजम्मू-कश्मीरः शोपियां एनकाउंटर में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, एक आतंकी ढेरअस्पताल में भर्ती लता मंगेशकर की सेहत को लेकर खबरें वायरल, टीम ने जारी किया बयान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.