scriptHad left the race, now committed suicide | अग्निपथ लागू होने के बाद छोड़ दी थी दौड़, अब किया सुसाइड | Patrika News

अग्निपथ लागू होने के बाद छोड़ दी थी दौड़, अब किया सुसाइड

-कबड्डी का राष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी रह चुका है मृतक
-चिकसाना के गांव बिलौठी की घटना

भरतपुर

Published: June 20, 2022 11:59:24 am

भरतपुर. कन्हैया काफी समय से सेना में जाने का सपना देख रहा था, परिजनों को उम्मीद थी कि इस बार सेना भर्ती रैली होगी तो कन्हैया दौड़ में अवश्य सफल होगा, लेकिन सोमवार को परिजनों का यह सपना भी टूट गया। क्योंकि कन्हैया ने हारकर जीवनलीला समाप्त कर ली। जिले के चिकसाना थाना क्षेत्र के गांव बिलौठी में सोमवार अलसुबह एक युवक ने गांव से बाहर खेत में पेड़ से फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। युवक बीते कई साल से सेना भर्ती की तैयारी कर रहा था। परिजनों ने बताया कि अग्निपथ योजना लागू होने के बाद से युवक ने दौड़ भाग करना छोड़ दिया और मायूस रहने लगा। मृतक युवक कबड्डी का राष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी था।
जानकारी के अनुसार बिलौठी गांव निवासी कन्हैया गुर्जर (22) पुत्र महाराज सिंह गुर्जर 12वीं कक्षा पास करने के बाद से ही सेना भर्ती की तैयारी में जुट गया था। पांच भाई और दो बहनों में सबसे छोटा कन्हैया सेना में भर्ती होना चाहता था। सभी भाई बहन और पिता का भी सपना था कि उनका भाई फौजी बने। परिजनों ने बताया कि जबसे अग्निपथ योजना की घोषणा हुई, तभी से कन्हैया ने दौड़ भाग करना बंद कर दिया। परिजनों के बार-बार समझाने पर भी वह सेना की तैयारी के लिए सुबह दौड़ करने नहीं जा रहा था। परिजनों ने बताया कि कन्हैया का कहना था कि अब सैनिक बनने का सपना पूरा नहीं हो पाएगा। चार साल बाद आकर भी जब कुछ और काम करना है तो अभी से क्यों ना किया जाए। सोमवार सुबह जब सभी परिजन जागे तो कन्हैया घर में नहीं था। सभी को चिंता हुई कि कई दिनों से वह दौड़ लगाने नहीं जा रहा है, फिर आखिर कहां गया। तलाश किया तो गांव से बाहर वह खेत में पेड़ से फांसी के फंदे से लटका हुआ मिला। मृतक युवक कन्हैया कबड्डी का राष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी था। वह राज्य स्तर पर कई पदक जीत चुका था। मृतक युवक का पिता किसान है और भाई मजदूरी करते हैं। सभी का सपना था कि कन्हैया फौज में भर्ती होकर देश की सेवा करे।
अग्निपथ लागू होने के बाद छोड़ दी थी दौड़, अब किया सुसाइड
अग्निपथ लागू होने के बाद छोड़ दी थी दौड़, अब किया सुसाइड
युवाओं के सुसाइड केस सबसे ज्यादा

अगर कुछ माह के आंकड़ों पर नजर डालें तो सामने आया कि अब युवाओं के सुसाइड केस सबसे ज्यादा सामने आ रहे हैं। डॉक्टरों का मानना है कि कोरोनाकाल के बाद युवाओं में तनाव की अधिकता इसका प्रमुख कारण है। बढ़ती बेरोजगारी, आर्थिक मंदी आदि भी कारण हो सकते हैं, लेकिन जरूरी यह है कि अगर कोई परिजन तनाव के दौर से गुजर रहा है तो सबसे पहले उससे बात करें और संबंधित डॉक्टर्स के पास लेकर जाएं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मीन राशि में वक्री होंगे गुरु, इन राशियों पर धन वर्षा होने के रहेंगे आसारइन राशियों के लोग काफी जल्दी बनते हैं धनवान, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानभाग्यवान होती हैं इन नाम की लड़कियां, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानऊंची किस्मत वाली होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, करियर में खूब पाती हैं सफलताधन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीweather update news..मौसम की भविष्यवाणी सटीक, कई जिलों में तूफानी हवा के साथ झमाझमस्कूल में 15 साल के लड़के से बनाए अननेचुरल संबंध, वीडियो भी बनाया

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: अब महाराष्ट्र के NCP-कांग्रेस विधायकों पर बीजेपी की नजर! सांसद नासिर हुसैन ने किया बड़ा दावाMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में नई सरकार की कवायद हुई तेज, दिल्ली में आज देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे के बीच हो सकती है मुलाकात1 जुलाई से महंगाई के नए कदम, जुलाई में भी जेब कटने का सिलसिला रहेगा जारी, हो रहे हैं 7 बड़े बदलावपीएम मोदी ने जापान के प्रधानमंत्री को तोहफे में दिए खास बर्तन, जानिए जी-7 के दूसरे दोस्तों को क्या किया गिफ्ट?पटना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला - 'अगर पीड़िता ने नहीं किया विरोध, तो इसका मतलब ये नहीं की रेप के लिए सहमति दी'Maharashtra Political Crisis: शिवसेना के दावे को एकनाथ शिंदे ने नकारा, बोले-अगर आपके संपर्क में विधायक हैं तो उनके नाम का करें खुलासाMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र के सियासी संकट के बीच BJP की शिकायत पर एक्टिव हुए राज्यपाल, MVA सरकार के फैसलों की मांगी डिटेल्सGST Council की 47वीं बैठक चंडीगढ़ में शुरू, दिख सकता है भरपूर एक्शन: Petrol-Diesel को जीएसटी में लाने समेत कई अहम फैसलों पर नजर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.