यहां एक मोहल्ला और तीन पॉजिटिव ने फैला दिया संक्रमण का जाल

-समय पर नमूनों की रिपोर्ट नहीं आना भी बन रहा चिंता का विषय
-नए मरीजों में भी नजर नहीं आए खांसी-जुकाम व अन्य लक्षण
अपील...आप घरों में रहें आपकी सुरक्षा के लिए पुलिस, चिकित्साकर्मी, प्रशासन बाहर घूम रहा है

By: Meghshyam Parashar

Published: 18 Apr 2020, 09:05 PM IST

भरतपुर/बयाना। बयाना का कसाईपाड़ा मोहल्ला अब किसी की पहचान का मोहताज नहीं है। इस मोहल्ले में भले ही जो कुछ भी हुआ हो, लेकिन अब सभी को सावधानी बरतने की जरुरत हैं। चूंकि ऐसी परिस्थितियों में भी आपके लिए पुलिस, चिकित्साकर्मी, प्रशासन बाहर घूम रहा है, इसलिए आप घरों में ही रहें। चूंकि अकेले ही बयाना के एक मोहल्ले में पिछले 17 दिन के अंदर 78 केस आ चुके हैं। यह आमजन ही नहीं प्रशासन के लिए भी चिंता का विषय बन चुका है। गांव अलापुरी में छात्रावास में बने क्वारेंटाइन वार्ड में कसाई पाड़ा के करीब 300 लोगों को रखा गया है। संक्रमित लोगों को उपचार के लिए भरतपुर भेजा गया है। संक्रमितों की पड़ताल करने पर एक ही बात सामने आई है कि वैर के जिस जमाती के संपर्क में तीन लोग आए थे, उन्हीं के लगातार पड़ोसियों व परिजनों के संपर्क में आने से यह आंकड़ा बढ़ा है। हालांकि चिकित्सकों का कहना है कि नए मरीजों में खांसी-जुकाम व अन्य बीमारी के लक्षण सामने नहीं आए हैं। इनमें से देरी से लक्षण नजर आते हैं। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करता है। जिला कलेक्टर नथमल डिडेल व एसपी हैदर अली जैदी, सीएमएचओ डॉ. कप्तान सिंह, एएसपी सुरेश खींची, एएसपी परमालसिंह ने अलापुरी पहुंच कर हालातों का जायजा लिया। कफ्र्यू को लेकर जिला पुलिस अधीक्षक जैदी ने 100 पुलिस कर्मियों का जाब्ता बढ़ाने और सख्ती बरतने की बात कही। कसाई पाड़ा के एक किमी क्षेत्र को सील करने को लेकर भी चर्चा हुई। कस्वे की ओर आने व जाने वाले बॉर्डर के रास्तों को सील करने के निर्देश दिए। प्रशासनिक अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि इस कफ्र्यूू में अगर किसी ने कानून तोडऩे की कोशिश की तो उस पर पुलिस प्रशासन सख्ती से पेश आएगा। जिला कलक्टर ने बताया कि शनिवार शाम तक 24 घंटे में जिले में 41 कोरोना वायरस संक्रमित रोगी मिले हैं। इनमें रुस्तमपुर पीलाकाबास के एक संक्रमित रोगी को छोड़कर शेष सभी कसाईपाड़ा बयाना के निवासी हैं।

जानिए ऐसे एक-दूसरे से संक्रमित हुए लोग

कसाईपाड़ा में पहली बार तीन संक्रमित सात अपै्रल को मिले थे एवं 10 अपे्रल को एक अन्य संक्रमित मिला था जिनको उपचार के लिए जयपुर रैफ किया गया था। उन्होंने बताया कि कसाईपाड़ा में 13 अप्रेल को 11, 16 अपै्रल को 22, 17 अप्रेल देर रात्रि को तीन तथा 18 अप्रेल को 44 संक्रमित मिले जिनका उपचार जिला स्तर पर आरबीएम चिकित्सालय में किया जा रहा है। जिले में पहला कोरोना वायरस संक्रमित रोगी दो अप्रेल को कामां के जुरहरी में मिला था। जुरहरी में अब तक 2 संक्रमित मिले हैं। वैर के राजरापट्टी में एक, रुस्तमपुर पीलाकाबास में दो, पहाड़ी के जोधपुर ग्राम में एक तथा भरतपुर शहर के तिलक नगर में एक कोरोना वायरस संक्रमित मिला है।

पहले बॉर्डर पर और अब कोरोना से जंग...पूर्व सैनिक संघ ने संभाला मोर्चा

बयाना में लगातार बढ रहे कोरोना के कहर को देखते हुए पूर्व सैनिक संघ ने पुलिस का सहयोग करने और आमजन की सुरक्षा का जज्बा दिखाया है। शनिवार को पूर्व सैनिक संघ के अध्यक्ष बलराम कांमर के नेतृत्व में कस्वे के बाजारों और गलियों में वर्दी पहनकर कर फ्लैग मार्च निकाला। पूर्व सैनिक संघ अध्यक्ष कांमर ने बताया कि देश में चल रही महामारी कोरोना कोविड़-19 से भारत देश में लॉक डाउन लगा हुआ है। इससे राजस्थान के ज्यादातर सभी जिले प्रभावित है। इससे पूर्व सैनिक संघ के सदस्यों ने कस्बे में लगे कफ्र्यू को सख्त करने के लिए एवं पुलिस प्रशासन का सहयोग के लिए बाजार के मुख्य मार्गो से होकर फ्लैग मार्च निकाला है।

कैबीनेट मंत्री ने दी सूचना, एक संदिग्ध को पकड़ा

कैबीनेट मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने भरतपुर शहर में देर शाम शहर का राउंड लिया। इस दौरान विश्वप्रिय शास्त्री पार्क के पास एक युवक बैग लगाकर घूमता मिला। इस पर मंत्री ने एसपी को अवगत कराया। जांच कराने पर सामने आया कि युवक भीलवाड़ा से आया था और उत्तरप्रदेश के एटा जा रहा था। ऐसे में चिकित्सा विभाग को सूचना भेजकर उसे क्वारेंटाइन सेंटर भेजे जाने की बात सामने आई है।

संदिग्ध व्यक्ति को जांच के लिए भेजा भरतपुर

रारह. गांव ताखा में सरपंच कुशल पाल ने लोगों को कोरोना के खिलाफ लडऩे के लिए एवं कोरोना एडवाइजरी की पालना के लिए स्वयं सेवकों की टीम गठित की है जो घर-घर जाकर लोगों को जागरूक एवं गली मोहल्लों को सेनिटाइज कर रही है। गांव ताखा में ही कई दिन से गुप्त रूप से रह रहे कलसाड़ा बयाना निवासी एक व्यक्ति की सूचना मिली जिस पर ताखा सरपंच कुशल पाल सिंह ने रारह नायब तहसीलदार नवीन कुमार एवं रारह सीएससी प्रभारी करतार सिंह की मदद से जांच के लिए भरतपुर भेजा गया है ।

क्वारेंटाइन सेंटर पर लापरवाही का उठा मुद्दा, अफसर करते रहे इंकार

बयाना के कसाईपाड़ा के लोगों को जहां रखा गया है, वहां उन्हें एक कमरे में दो से तीन को रखने की बात प्रशासन ने कही है, लेकिन कुछ प्रत्यक्षदर्शियों का यह भी कहना है कि वे लोग प्रशासन की बात ही नहीं मानते हैं। अधिकारियों के जाते ही एक जगह आकर आपस में बात करने बैठ जाते हैं। ऐसे में बयाना के स्थानीय प्रशासन की लापरवाही की बात भी सामने आई है। इसके अलावा बयाना के एसडीएम का एक ऑडियो भी किसी से अभद्रता के साथ बात करने का वायरल हुआ है। ऐसे में लापरवाही को लेकर विवाद भी उठ रहा है। सोशल मीडिया पर यह मुद्दा उठ रहा है कि लापरवाही सामने आने के बाद प्रशासन कुछ और सेंटर बनाए हैं, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग की पालना कराते हुए क्वारेंटाइन किया जा सके। बताते हैं कि सेंटर पर एक ही जगह अधिक लोगों को रखा गया था। कुछ लोगों ने तो दबी जुबान में संक्रमण का कारण भी इसे बताया है। हालांकि जिला प्रशासन का कहना है कि वहां बहुत सावधानी बरती जा रही है। पूरा प्रशासन एक-एक व्यक्ति पर निगाह रख रहा है। जिला कलक्टर नथमल डिडेल ने बताया कि बयाना कसाईपाडा में शनिवार को मिले 41 कोरोना संक्रमित रोगी पहले से ही अलापुरी स्थित देवनारायण छात्रावास में क्वारेंटाइन में रखे गए हैं। बयाना में 7 अपै्रल को तीन संक्रमित रोगी मिलने के बाद से प्रशासन ने तत्काल कार्यवाही करते हुए कसाईपाड़ा एवं आसपास के क्षेत्र के लोगों को क्वारेंटाइन किया था तथा कसाईपाड़ा, मीराना मस्जिद और आदर्श नगर क्षेत्र के लगभग 600 लोगों के सैम्पल जांच के लिए जयपुर भिजवाए थे। यहां मिले सभी संक्रमित पहले से ही क्वारेंटाइन में हैं इसलिए इन लोगों से संक्रमण बयाना के अन्य हिस्सों में फैलने की आशंका नहीं के बराबर है।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned