संक्रमण के खतरे में निभा रहे दायित्व..

भरतपुर. चिकित्सकों व मरीजों के बीच मुख्य कड़ी लैब टैक्नीशियनों की है, जो इस समय जान जोखिम में डालकर कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के नमूने लेने में जुटे हैं।

By: pramod verma

Updated: 09 Apr 2020, 07:29 PM IST

भरतपुर. चिकित्सकों व मरीजों के बीच मुख्य कड़ी लैब टैक्नीशियनों की है, जो इस समय जान जोखिम में डालकर कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के नमूने लेने में जुटे हैं। ये भी चिकित्सकों की तरह कर्मवीर बनकर जोखिम उठाते हुए कत्र्तव्य की जिम्मेदारी निभा रहे हैं, अगर चिकित्सक की लिखी जांच इनके हाथों में न पहुंचे तो नेगेटिव और पॉजिटिव का परिणाम निकालना असंभव है। इसलिए कर्मवीरों में चिकित्सक व लैब टैक्नीशियन एक-दूसरे के पूरक हैं। अपने कत्र्तव्य के प्रति सावचेत लैब टैक्नीशियनों ने अब तक 500 से अधिक मरीजों के थ्रोट स्वेव लिए हैं। इनमें से जिले में पांच सैम्पल पॉजिटिव आए हैं। इसकी पुष्टि जयपुर से की गई।

इसलिए मेडिकल कॉलेज से संबद्ध आरबीएम अस्पताल की लैब व क्वारंटाइन होम, आइसोलेशन आदि में लैब टैक्नीशियन भी दिन-रात वायरस के संक्रमण के नमूनों को हाथों में लेकर जांच में जुटे हैं। ये संक्रमित मरीजों के गले से भाव लेकर (थ्रोट स्वेव) के नमूने लेकर जयपुर भेज रहे हैं। वहां से पुष्टि होने पर ही नेगेटिव या पॉजिटिव का परिणाम सामने आता है। इसके चलते लैब टैक्नीशियन महामारी के संकट से लडऩे के लिए दिन-रात एक कर अपना फर्ज निभा रहे हैं।


महामारी की गंभीरता को देखते हुए लगभग 65 लैब टैक्नीशियन सैम्पल लेने में लगे हैं। इसके तहत मेडिकल कॉलेज से 20, आरबीएम व जनाना से 26, सैटेलाइट से 02, प्रताप कॉलोनी व पुलिस लाइन से 1-1 टैक्नीशियन कार्य में लगे हैं। वहीं स्थिति को देखते हुए सीएमएचओ ने ब्लॉक के अस्पतालों में कार्यरत लगभग 15 लैब टैक्नीशियनों को मुख्यालय पर लगाया है। इसे लेकर अखिल राजस्थान लैब टैक्नीशियन एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष बच्चनसिंह मदेरणा का कहना है कि सुरक्षा के पूरे संसाधनों के साथ स्वेव के सैम्पल लिए जाते हैं। हालांकि संक्रमण की आशंका बनी रहती है फिर भी लैब टैक्नीशियन इस जंग को लडऩे को तत्पर हैं।

भरतपुर में सीएमएचओ डॉ. कप्तानसिंह का कहना है कि कोरोना के संक्रमण की स्थिति को देखते हुए मुख्यालय पर और लैब टैक्नीशियन लगाए हैं। चिकित्सक जहां दिन-रात लगे हैं, वहीं लैब टैक्नीशियन अपना फर्ज निभा रहे हैं। टैक्नीशियन भी इस संकट में मुख्य कड़ी है, जो सैम्पल ले रहे हैं।

pramod verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned