लॉटरी निकलने से पहले ही निकली लॉटरी, आवेदनों से आए 38 करोड़

नवीन शराब ठेकों के लिए लॉटरी निकलने से पहले ही आबकारी विभाग की लॉटरी निकल पड़ी है। विभाग की शराब ठेकों के आवेदनों से करीब 38 करोड़ रुपए से अधिक राजस्व आय हो चुकी है।

By: rohit sharma

Published: 03 Mar 2019, 11:58 AM IST

भरतपुर. नवीन शराब ठेकों के लिए लॉटरी निकलने से पहले ही आबकारी विभाग की लॉटरी निकल पड़ी है। विभाग की शराब ठेकों के आवेदनों से करीब 38 करोड़ रुपए से अधिक राजस्व आय हो चुकी है। वहीं, जिन आवेदनकर्ताओं की लॉटरी निकलेगी, उनसे अमानत राशि बाद में ली जाएगी। इस बार विभाग ने नियमों में बदलाव करते हुए आवेदन के साथ अमानत राशि नहीं ली है। शराब ठेकों की लॉटरी 5 मार्च को यूआईटी ऑडिटोरियम में जिला कलक्टर की निगरानी में निकाली जाएंगी। आबकारी निरीक्षक अरुण अग्रवाल ने बताया कि शराब ठेकों के लिए पहले अंतिम तिथि 26 फरवरी थी, जिसे विभाग ने बाद में बढ़ाकर 1 मार्च कर दिया था लेकिन बाद में इसका एक दिन और बढ़ाकर 2 मार्च शाम 6 बजे तक कर दिया था। उन्होंने बताया कि दोपहर तक विभाग को करीब 13 हजार 642 से आवेदन मिल चुके हैं। शाम तक इनकी संख्या कुछ और बढऩे की उम्मीद है।

 

उन्होंने बताया कि आवेदनों की जांच के बाद कुछ आवेदनों की संख्या रविवार तक मालूम हो सकेगी। उन्होंने बताया कि आवेदनकर्ता फार्म केवल शाम 6 बजे तक जमा करा सकेगा लेकिन उसकी हार्ड कॉपी रविवार तक कार्यालय में ली जाएगी। विभाग को दोपहर तक करीब 1 हजार 642 आवेदन मिल चुके थे। प्रत्येक आवेदन फार्म की राशि 28 हजार रुपए है। इनसे विभाग को करीब 38 करोड़ 19 लाख 76 हजार रुपए मिल चुके हैं। हालांकि, ये राशि कुल फार्म जमा होने के बाद और बढ़ेगी। विभाग को गत लॉटरी में करीब 11 हजार 500 फार्म मिले थे। जिले में आबकारी विभाग की ओर से देशी समूह के 112 और अंग्रेजी की 31 दुकानों के लिए लॉटरी निकाली जाएगी। आवेदन की अंतिम तिथि और उनकी जांच के चलते शनिवार को अवकाश के बाद भी आबकारी विभाग खुला रहा। कार्यालय में सभी अधिकारी व कर्मचारी आवेदनों की जांच करने में लगे हुए थे। कार्यालय रविवार को भी खुला रहेगा। अंतिम दिन जमा हुए आवेदनों की हार्ड कॉपी रविवार तक जमा होंगी।

rohit sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned