185 वर्ष पुराने मंदिर के पास ही खोला ठेका, विरोध में बाजार बंद कर प्रदर्शन

-एक ही ठेके का पांच बार बदला स्थान, लेकिन विरोध बरकरार
-अब बासन गेट स्थित मंदिर के पास खोला है ठेका

By: Meghshyam Parashar

Published: 28 May 2020, 05:08 PM IST

भरतपुर. शहर में पिछले एक महीने से देशी शराब का एक ठेका जनता व आबकारी विभाग के बीच फुटबॉल बना हुआ है। हकीकत यह है कि पांच बार ठेके का स्थान बदला जा चुका है, लेकिन हर जगह कोई न कोई कारण सामने आने पर विवाद हो रहा है। अब पांचवीं बार आबकारी विभाग की ओर से बासन गेट स्थित 185 वर्ष पुराने गोपालजी मंदिर के पास ठेका खोलने की स्वीकृति दी गई। बुधवार को जैसे ही ठेकेदार माल लेकर पहुंचा तो महिला-पुरुषों के साथ मौके पर एकत्रित व्यापारियों ने हंगामा कर दिया। आबकारी विभाग व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए बाजार बंद कर दिया।
जानकारी के अनुसार लॉकडाउन के दौरान ठेका खोलने की स्वीकृति राज्य सरकार की ओर से जारी करने के बाद सबसे पहले यह ठेका कमला रोड स्थित बड़ा मोहल्ला में खोला गया। जहां महिलाओं ने विरोध किया कि इस ठेके के यहां खुलने से माहौल खराब हो जाएगा। इसके बाद सरदार मोहल्ले में भी यही समस्या सामने आई। तब बासन गेट के पास ही स्वीकृति देने पर वहां पर भी विवाद हो गया। इसके बाद बासन गेट के पास एक हलवाई की दुकान के सामने खोला तो मोहल्ले के लोगों ने फिर हंगामा कर दिया। हाल में ही इस ठेके को गोपालजी मंदिर से सटी दुकान में खोलने की स्वीकृति दी गई है। ठेका खुलने की सूचना पाकर मोहल्ले के लोग, व्यापारी व महिलाएं एकत्रित हो गए। जहां नारेबाजी कर हंगामा करना शुरू कर दिया। मामले का पता चलते ही आबकारी विभाग के जिलेभर के अधिकारी मौके पर पहुंचे। व्यापारियों ने ठेकेदार को दुकान में माल भरने से रोकने का प्रयास किया तो आबकारी विभाग के अधिकारियों ने उन्हें रोक दिया। करीब एक घंटे तक प्रदर्शन के बाद भी कोई सहमति नहीं बन सकी। अंत में प्रदर्शनकारियों ने एडीएम शहर डॉ. राजेश गोयल से मिलकर समस्या से अवगत कराया। इस दौरान कोतवाली थाना पुलिस, सीओ सिटी हवासिंह रायपुरिया, आबकारी विभाग की एसआई विद्या कुमारी, बयाना एसआई सतवीर सिंह, डीग एसआई धर्मेंद्र कुमार, व्यापार महासंघ के शहर अध्यक्ष भगवानदास बंसल, प्रवक्ता विपुल शर्मा, बंटू भाई, जयप्रकाश बजाज, अशोक शर्मा आदि उपस्थित थे।

अगर शराब खरीदने आए तो महिलाएं रोकेंगी राह...

व्यापार महासंघ के शहर अध्यक्ष भगवानदास बंसल ने बताया कि गोपालजी मंदिर प्राचीन है। यह जन आस्था से जुड़ा केंद्र है। अगर यहां शराब का ठेका संचालित किया जाता है तो आंदोलन जारी रखा जाएगा। उन्होंने बताया कि गुरुवार को भी विरोध प्रदर्शन के तहत तय किया गया है कि अगर ठेके पर कोई भी शराब खरीदने आएगा तो उसे रोका जाएगा। वहां मंदिर के पास शराब का विक्रय किसी भी कीमत पर नहीं होने दिया जाएगा।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned