डेढ़ घंटे देरी से आए मेयर व डिप्टी मेयर, पार्षद नाराज होकर लौट गए

नगर निगम के मेयर अभिजीत कुमार ने सोमवार को कार्यभार ग्रहण किया। उन्होंने कार्यभार ग्रहण करने के बाद पार्षदों के साथ अनौपचारिक बैठक की।

भरतपुर.नगर निगम के मेयर अभिजीत कुमार ने सोमवार को कार्यभार ग्रहण किया। उन्होंने कार्यभार ग्रहण करने के बाद पार्षदों के साथ अनौपचारिक बैठक की। बैठक में पार्षदों ने वार्डों की समस्याओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसमें सबसे ज्यादा समस्या गंदगी, रोशनी, सीएफसीडी, जलभराव व सीवरेज प्रोजेक्ट को लेकर सामने आई। इस पर मेयर अभिजीत व डिप्टी मेयर गिरीश चौधरी ने जल्द ही इन समस्याओं को सूचीबद्ध कर पार्षदों के साथ मिलकर निराकरण के निर्देश दिए। उन्होंने अनौपचारिक बैठक में मेयर व डिप्टी मेयर ने पार्षदों से उनकी वार्डों में आ रही समस्याओं के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की।

मेयर ने कहा कि वार्ड में किसी भी परिस्थति में पार्षदों को जनता के साथ अच्छा व्यवहार बनाए रखना है। विकास कार्यों के साथ-साथ अच्छा व्यवहार बनाए रखना बहुत आवश्यक है। डिप्टी मेयर गिरीश चौधरी ने कहा कि सभी पार्षद वार्डों में सामने आ रही समस्याओं की सूची बनाकर रखें, ताकि उन समस्याओं को लेकर समय पर काम किया जा सके। इसी प्रकार नगर निगम के सभागार कक्ष में स्वायत शासन विभाग से आए अधिकारियों ने एलईडी को लेकर बैठक ली। इसमें आ रही समस्याओं के बारे में विस्तार से चर्चाकर उनका निराकरण करने की बात कही।


दो पार्षद बैठक छोड़कर निकले


नगर निगम के मेयर अभिजीत कुमार ने सोमवार को कार्यभार गृहण किया। इसको लेकर पार्षदों को भी बुलाया गया था। हालांकि नगर निगम के सभागार कक्ष में ही पार्षदों की अनौपचारिक बैठक बुलाना भी तय किया गया था, लेकिन सभागार कक्ष में स्वायत शासन विभाग के उपनिदेशक की ओर से एलईडी लाइट्स को लेकर बैठक करने के कारण पार्षद काफी देर तक बाहर ही खड़े रहे। इतना ही नहीं परेशान होकर कुछ पार्षद नगर निगम मेयर के कक्ष में जाकर बैठ गए तो कुछ बाहर खड़े होकर ही इंतजार करते रहे। दोपहर दो बजे यह अनौपचारिक बैठक नगर निगम सभागार में करना तय किया गयाथा, लेकिन करीब साढ़े तीन बजे तक पार्षद कभी अंदर तो कभी बाहर आकर मेयर और आयुक्त का इंतजार करते रहे। इतने में भाजपा के दो पार्षद श्यामसुंदर गौड़ व रूपेंद्र सिंह जघीना नाराजगी व्यक्त करते हुए वहां से चले गए। जबकि करीब 39 पार्षद वहां बैठकर मेयर के आने का इंतजार करते रहे। खास बात यह भी थी कि इंतजार करने वाले पार्षदों में से ज्यादातर महिला पार्षद खुद उपस्थिति नहीं थी, बल्कि उनके परिजन आए हुए थे। जब नाराजगी बढ़ती दिखी तो एक पार्षद ने आयुक्त को फोन कर दिया। जहां से आयुक्त ने फोन करने पर पार्षदों को अवगत कराया कि मां के बीमार होने के कारण वह पांच दिन के अवकाश पर आईहुईहैं। हालांकि मेयर अभिजीत कुमार व डिप्टी मेयर गिरीश चौधरी करीब साढ़े तीन बजे नगर निगम पहुंचे तो पार्षदों का भी इंतजार खत्म हुआ। इसके बाद उन्होंने किसी कार्यक्रम के कारण देरी से आना बताया और कहा यह अनौपचारिक बैठक सिर्फपार्षदों से परिचय प्राप्त करने के लिए बुलाई गई थी।

rohit sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned