खनन लीज पर कब्जा करने डकैतों को बुलाते हैं खनन माफिया

-अवैध खनन की आय में होता है गिरोह का बड़ा हिस्सा
-सूचना के बाद भी पुलिस व संबंधित विभाग नहीं करता कार्रवाई

बयाना. गढ़ीबाजना के गांव नगला क्षत्रिय सिंघनिया में अवैध खनन के लिए खनन लीज पर कब्जा करने व दबंगई दिखाकर उगाही का खेल लंबे समय से चल रहा है। खुद खनन माफिया की ओर से रसूख कायम करने के लिए डकैतों को बुलाया जाता है। इसकी जानकारी पुलिस व संबंधित विभाग के अधिकारियों के पास भी है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो पाती है। शुक्रवार को पुलिस ने दो इस मामले दो आरोपियों गिरफ्तार किया है अन्य आरोपियों की तलाश जारी रही। गढीबाजना पुलिस के साथ अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक सुरेश खींची, पुलिस उपाधीक्षक खींवसिंह राठौर, कोबरा टीम ने डांग क्षेत्र में कॉबिंग की। पुलिस ने बताया कि नगला क्षत्रिय में बुधवार रात को एक घंटे हुई जबरदस्त फायरिंग के मामले मे शुक्रवार को आरोपी ज्ञानी पुत्र निहाल, गुमान पुत्र निहाल को गिरफ्तार किया है। पुलिस उपाधीक्षक के अनुसार यह गिरोह कुख्यात डकैत भारत गुर्जर व रामविलास गुर्जर का है। ग्रामीणों ने पुलिस को बताया है कि यह डकैत गिरोह वहां के कुछ लोगों की ओर से आपसी लड़ाई व पत्थर की खानों पर अपना कब्जा करने के लिए बुलाए जाते है। यह गिरोह इस इलाके में पत्थर की खानों व अवैध खनन के कारोबार को लेकर आए दिन ऐसी ही वारदातें करता रहता है। पूर्व में भी कई बार इसी तरह ग्रामीणों के साथ मारपीट व फायरिंग, लूटपाट एवं फिरौती की वारदातें की। गढीबाजना थानाधिकारी कैलाश बैरवा ने बताया कि रामविलास व भारत के खिलाफ गढीबाजना, रुदावल, बाड़ी, बसेड़ी, कंचनपुर आदि थानों पर करीब आधा दर्जन मुकदमे दर्ज हैं।

डकैतों ने बना रखे हैं गांवों में एजेंट

इलाके में अवैध खनन का कारोबार जोरों पर है व अवैध 40 खानें है। इनसे माइनिंग की जाती है। आए दिन ऐसे झगड़े होते रहते है तथा अपराधी खनन माफियाओं से वसूली करते है। वसूली के लिए अपराधियों ने ग्रामीणों को एजेंट भी बना रखा है। घटना के बाद गढीबाजना पुलिस संबन्धित जानकारी देने की कन्नी काटती रही है। चूंकि पुलिस के नाक के नीचे इतना बड़ा मामला होना भी बड़ा सवाल खड़ा कर रहा है। इससे पूर्व भी रुदावल थाना क्षेत्र में गत दिनों बदमाशों ने घटना को अंजाम दिया था लेकिन पुलिस को वारदात के बाद कोई सफलता नहीं मिल सकी है। इतना ही नहीं यह भी सामने आया है कि वारदात के काफी देर बाद पुलिस मौके पर पहुंची थी।

इधर, अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई को नहीं मिला जाब्ता

इधर, पहाड़ी में अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई के लिए गठित कमेटी को जाब्ता तक नहीं मिल रहा है। जबकि जिला कलक्टर ने कमेटी गठन की तारीख से 15 दिन के अंदर कार्रवाई रिपोर्ट मांगी हुई है। जानकारी के अनुसार जिला कलक्टर ने तीन फरवरी को आदेश निकाला था। इसमें कहा था कि तहसील पहाड़ी, कामां एवं नगर में खनिज से भरे हुए ओवरलोड परिवहन को रोकने एवं अवैध खनन निर्गमन की प्रभावी रोकथाम के लिए 15 दिन के लिए सूचीबद्ध अधिकारी-कर्मचारियों का मुख्यालय पहाड़ी कर संयुक्त कमेटी का गठन किया गया है। कमेटी में खनि अभियंता तेजपाल गुप्ता, सहायक खनि अभियंता मुकेशचंद मंगल, सहायक खनि अभियंता सतर्कता मनोज कुमार मीना, अधीक्षक खनि अभियंता मुनीष शर्मा, खनि कार्यदेशक श्रेणी द्वितीय रजनीश मीना, खनि कार्यदेशक भीमसिंह को शामिल किया। इसमें प्रभावी कार्रवाई कर 15 दिन के बाद प्रत्येक सप्ताह उक्त कमेटी साप्ताहिक रूप से औचक निरीक्षण कर कार्रवाई से अवगत कराएगी। एसएमई तेजपाल गुप्ता ने बताया कि पूर्व में पुलिस अधिकारियों को पत्र लिखा गया था, उस समय उन्होंने कहा था कि चुनाव के कारण अभी समय लगेगा। अब दुबारा से पत्र लिख दिया गया है। बाकी कुछ कार्रवाई कर करीब 55 लाख रुपए जुर्माना वसूला गया है। अगर जाब्ता मिल जाता है तो बड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned