scriptMLA Awana's letter bomb | विधायक अवाना का लेटर बम: बसपा प्रदेशाध्यक्ष बोले...झांसे में नहीं आएगा दलित समाज | Patrika News

विधायक अवाना का लेटर बम: बसपा प्रदेशाध्यक्ष बोले...झांसे में नहीं आएगा दलित समाज

- विधायक के पत्र को बताया चुनावी स्टंट

भरतपुर

Published: June 20, 2022 01:46:36 pm

भरतपुर . बसपा के टिकट पर चुनाव जीतकर कांग्रेस का दामन थामने वाले नदबई विधायक व देवनारायण बोर्ड के अध्यक्ष जोगिन्दर सिंह अवाना पर अब बसपा ने निशाना साधा है। बसपा के प्रदेशाध्यक्ष भगवान सिंह बाबा ने रविवार को कहा कि अब दलित समाज विधायक अवाना के झांसे में नहीं आएगा। अवाना ने बसपा सुप्रीमो मायावती को कांग्रेस की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने के लिए कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखने को महज चुनावी स्टंट बताया है।
बसपा प्रदेशाध्यक्ष बाबा ने कहा कि विधायक अवाना को भलीभांति समझ में आ गया है कि उन्होंने पार्टी के साथ विश्वासघात किया है। ऐसे में दलित समाज उन्हें कभी माफ नहीं करेगा। अब पत्र लिखकर वह दलित समाज को लुभाना चाहते हैं, लेकिन अब दलित समाज उनके झांसे में आने वाला नहीं है। चुनाव नजदीक आते ही विधायक को वोटों का डर सता रहा है। ऐसे में वह महज सुर्खियां बटोरने और दलित समाज को लुभाने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन वह इन प्रयासों में कभी सफल नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि बसपा का 21 जून को नदबई में कार्यकर्ता सम्मेलन है। इसमें पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं को भी इस संबंध में बताया जाएगा, ताकि वह किसी भी तरह के बहकावे में नहीं आएं। अब विधायक चुनाव नजदीक आते ही दलित समाज को भ्रमित कर चालबाजी कर रहे हैं, लेकिन समाज अब भलीभांति उनके विश्वासघात को समझ चुका है। उल्लेखनीय है कि विधायक अवाना की विधायकी में दलित वोट बैंक का बड़ा योगदान रहा है। ऐसे में वह यह मांग उठाकर दलित वोटों को लुभाने की कोशिश में जुटे हैं। बाबा ने कहा कि बसपा सुप्रीमो मायावती खुद प्रधानमंत्री नहीं बनना चाहतीं। ऐसे में विधायक की यह मांग बेतुकी है।
विधायक अवाना का लेटर बम: बसपा प्रदेशाध्यक्ष बोले...झांसे में नहीं आएगा दलित समाज
विधायक अवाना का लेटर बम: बसपा प्रदेशाध्यक्ष बोले...झांसे में नहीं आएगा दलित समाज
यह है मामला

जिले के नदबई विधानसभा क्षेत्र के विधायक व देवनारायण बोर्ड राजस्थान के अध्यक्ष जोगिन्दर सिंह अवाना ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र भेजकर बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती को दलित नेत्री बताते हुए आगामी राष्ट्रीय चुनाव में कांग्रेस का उम्मीदवार घोषित करने की मांग की है। पत्र में उल्लेख किया है कि मायावती, जो कि बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। 1989 में बिजनौर लोकसभा से सांसद सदस्य रही हैं। 1994 में उत्तरप्रदेश से राज्यसभा सदस्य रहीं एवं 1995 में प्रथम भारतीय दलित महिला के रूप में उत्तरप्रदेश की मुख्यमंत्री रहीं। 1997, 2002 से 2003 व 2007 से 2012 तक चार बार उत्तरप्रदेश जैसे भारत के सबसे बड़े राज्य की मुख्यमंत्री रही हैं। मायावती ने अपने कुशल नेतृत्व से पूरे भारत के दलित समाज को एकत्रित कर कई विधायक, सांसद निर्वाचित कराए हैं। मायावती को आगामी राष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया जाता है तो संपूर्ण भारत का दलित समाज कांग्रेस पार्टी का ऋ णी रहेगा एवं दलित समाज कांग्रेस पार्टी का स्थाई मतदाता है। मायावती को राष्ट्रपति उम्मीदवार घोषित करने पर दलित समाज सदैव कांग्रेस पार्टी के पक्ष में रहकर भविष्य में कांग्रेस को भारत में मजबूत करेगा। इसलिए मायावती को राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी घोषित किया जाना चाहिए।
इधर, केबिनेट मंत्री बोले, रडार पर हैं अस्पताल

शहर में एक निजी अस्पताल में हुए कार्यक्रम में केबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने निजी अस्पतालों की कार्यप्रणाली पर प्रश्न चिह्न लगाया। सिंह ने समारोह में कहा कि कुछ निजी अस्पताल तो बेहतर कार्य कर रहे हैं, लेकिन कुछ जल्लादखाना बने हुए हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे अस्पताल मेरी नजर में हैं और राडार पर भी हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: फडणवीस को डिप्टी सीएम बनने वाला पहला CM कहने पर शरद पवार की पूर्व सांसद ने ली चुटकी, कहा- अजित पवार तो कभी...Udaipur Killing: आरोपियों के मोबाइल व सोशल मीडिया का डाटा एटीएस के लिए महत्वपूर्ण, कई संदिग्धों पर यूपी एटीएस का पहराJDU नेता उपेंद्र कुशवाहा ने क्यों कहा, 'बिहार में NDA इज नीतीश कुमार एंड नीतीश कुमार इज NDA'?कन्हैया की हत्या को माना षड्यंत्र, अब 120 बी भी लागूकानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या मामले पर नवनीत राणा ने गृह मंत्री अमित शाह को लिखी चिट्ठी, की ये बड़ी मांगmp nikay chunav 2022: दिग्विजय सिंह के गैरमौजूदगी की सियासी गलियारे में जबरदस्त चर्चाबहुचर्चित अवधेश राय हत्याकांड में बढ़ी माफिया मुख्तार की मुश्किलें, जाने क्या है वजह...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.