भगवान भरोसे चल रहा अस्पताल

जिला कलक्टर रवि जैन अस्पताल का आकस्मिक निरीक्षण पहुंचे तो अफरा-तफरी मच गई। निरीक्षण में मिली

By: मुकेश शर्मा

Published: 22 Dec 2015, 11:28 PM IST

भरतपुर।जिला कलक्टर रवि जैन अस्पताल का आकस्मिक निरीक्षण पहुंचे तो अफरा-तफरी मच गई। निरीक्षण में मिली खामियों पर जिला कलक्टर ने संयुक्त निदेशक डॉ. प्रशांत कुमार से लेकर कम्पाउण्डर तक जमकर खिंचाई की। अस्पताल में चिकित्सकों के मनमर्जी से छुट्टी लेने के मामले में जिला कलक्टर बेहद खफा दिखे। उन्होंने यहां तक कहा कि चिकित्सक अवकाश लेकर घरों पर प्रैक्टिस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राजकीय सेवा में होने के कारण चिकित्सकों की पहली जिम्मेदारी मरीजों की सेवा करना है। उन्होंने कहा कि चिकित्सक घर पर प्रैक्टिस के लिए काम कर रहे हैं या राज्य सरकार की नौकरी कर रहे हैं। निरीक्षण के दौरान अस्पताल में फैली अव्यवस्था को लेकर स्टॉफ को लताड़ लगाई।

चादर व कंबल रखा मिले : वार्डों में बिस्तर पर गंदे चादर मिलने पर भी उन्होंने नाराजगी जताई। उन्होंने खराब हो चुके गद्दों को हटाने के लिए कहा। निरीक्षण के दौरान पंखों की सफाई के निर्देश दिए। इसके अलावा जंग खा रहे पलंग व अन्य सामानों पर रंग-रोगन करवाने के लिए कहा।

ये मिले छुट्टी पर : निरीक्षण के दौरान चिकित्सालय की ओपीडी का निरीक्षण कर चिकित्सकों की उपस्थिति की जांच की इस दौरान अनुपस्थित डॉ. हेमेन्द्र राजौरिया उप नियंत्रक, डॉ. मुकेश गुप्ता, डॉ. विवेक भारद्वाज, डॉ. कालीचरण बंसल, डॉ. आरडी. शर्मा, डॉ. संजय कासलीवाल, डॉ. संजय वर्मा, डॉ. पवन कुमार मित्तल एवं डॉ. राजेन्द्र कुमार गुप्ता अवकाश पर होने के कारण अनुपस्थित पाए गए। उन्होंने डॉ. राजेन्द्र कुमार गुप्ता के लम्बे अवकाश पर होने के कारण प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए कि उनका अवकाश निरस्त कर उन्हें पदस्थापन की प्रतिक्षा में रखा जाए। निरीक्षण के दौरान चिकित्सा विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. प्रशांत, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गोपाल शर्मा, कार्यवाहक प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुभाष बंसल, एनआरएचएम. के सहायक अभियंता सहित अन्य चिकित्सा अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

बिना स्वीकृति के ले रहे छुट्टी


निरीक्षण के दौरान ड्यूटी पर गिने-चुने चिकित्सक मिलने पर जिला कलक्टर ने कार्यवाहक पीएमओ डॉ.सुभाष बंसल व सीएमएसओ डॉ. गोपाल शर्मा से पूछा ये सब क्या हो रहा है। चिकित्सक बिना स्वीकृति के हाजिरी रजिस्टर में सीएल व पीएल डालकर चले जाते हैं। कोई देखने वाला नहीं है, ये सब नहीं चलेगा। उन्होंने कहा कि बिना स्वीकृति के छुट्टी पर जाने वालों की जांच कर कड़ी कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि वह चिकित्सकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए संयुक्त निदेशक का इतंजार नहीं करेंगे,  वह सीधी कार्रवाई करेंगे। उन्होंने साफ  कहा कि अस्पताल की वह स्वयं की निगरानी में प्रतिदिन मॉनिटरिंग करवाएंगे। दौरे के समय नवनियुक्त पीएमओ श्यामसुंदर भी छुट्टी पर थे।

कैम्प बाद में पहले आउटडोर

वार्ड में निरीक्षण के दौरान कृष्णा नगर निवासी प्रिंसी गुप्ता के परिजनों ने चिकित्सक के राउण्ड नहीं लेने की शिकायत मिली। डीएम ने सुबह 11.30 बजे तक चिकित्सक नहीं आने के संबंध में कार्यवाहक पीएमओ से जानकारी ली। पीएमओ बंसल ने बताया कि चिकित्सक कैम्प में है। डीएम ने जवाब पर नाराजगी जताते कहा कि चिकित्सक पहले मरीजों की जांच करें, उसके बाद भी किसी कैम्प में जाए। उन्होंने अनुपस्थित चिकित्सक डॉ.पवन तुरंत मौके पर बुलाने के निर्देश दिए। इसी तरह ओपीडी में एक चिकित्सक का कमरा बंद मिलने पर नाराजगी जताई।

इसलिए फेल हो रही सरकारी योजनाएं

बर्न वार्ड में भर्ती नदबई के हसनपुर गादौली निवासी कलुआराम जाटव (70) के परिजन से उन्होंने स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ लेने के संबंध में पूछा तो कोई जवाब नहीं मिला। बीपीएल मरीजों को स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ नहीं मिलने पर उन्होंने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि सरकार की योजनाओं के फेल होने के पीछे यही वजह है। न तो चिकित्सक कोई मरीज को जानकारी देते हैं न ही जिम्मेदार व्यक्ति ही रूचि ले रहे। स्वास्थ्य मार्ग दर्शक कर रहे हैं, बेहतर काम नहीं कर रहे तो किसी और उनके स्थान पर लगाओ।

संवेदनशीलता दिखाएं चिकित्सक


आउटडोर में निरीक्षण के दौरान टीकमचंद निवासी तूफानी नगला व उसकी पत्नी ने निशक्त:जन प्रमाण-पत्र नहीं बनाने की शिकायत की। जिस पर कार्यवाहक पीएमओ डॉ.बंसल ने कहा कि 40 फीसदी से कम विकलांगता होने की वजह से प्रमाण-पत्र नहीं बनाए जा सकते। जिस पर डीएम ने कहा कि चिकित्सक इस तरह के मामलों में संवेदनशीलता दिखाते कार्य करें, जिससे पीडि़त को समय रहते लाभ मिल सके।

जिला कलक्टर के निरीक्षण के बाद छुट्टी पर चल रहे नौ चिकित्सकों की छुट्टी निरस्त कर दी गई है। उनके निर्देशों की अनुपालना में यहां की व्यवस्थाओं को सुधारा जाएगा।   प्रशांत कुमार,सयुंक्त निदेशक, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, भरतपुर
मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned