13 दिन से रेहान शर्मा लापता, पुलिस का सिर्फ एक जबाव...तलाश जारी

-अभी तक पुलिस के हाथ नहीं लगा एक भी साक्ष्य
-पुलिस का मानना है कि खुद ही घर छोड़कर निकला है बालक

By: Meghshyam Parashar

Published: 17 Sep 2020, 09:59 AM IST

भरतपुर. शहर के प्रताप कॉलोनी निवासी 15 वर्षीय बालक रेहान शर्मा का गुरुवार को 13 दिन गुजरने के बाद भी कुछ पता नहीं लग सका है। पुलिस अधिकारियों के पास अब भी सिर्फ एक ही जबाव है कि बालक की तलाश जारी है। हरियाणा व उत्तरप्रदेश भेजी गई टीमों के हाथ भी कुछ नहीं लगा है। इसके साथ इतना समय गुजरने के बाद अब परिजनों को चिंता सता रही है। क्योंकि परिजनों का तर्क है कि अगर भी मर्जी से गया होता तो अब तक कहीं न कहीं मिल ही जाता है। उसके पास तो राशि भी नहीं है। ऐसे में पिछले दिनों परिजनों के फोन पर रुपए मांगने के जो फोन आए थे, उससे अपहरण की आशंका लग रही है। हालांकि पुलिस का स्पष्ट तौर पर कहना है कि यह मामला अपहरण का नहीं है। बालक कहीं न कहीं ऐसी जगह गया है, जहां का अनुमान लगाना मुश्किल हो रहा है। उसके पास कोई भी फोन भी नहीं है। इससे उसे ट्रेस किया जा सकता था। जानकारी के अनुसार कोतवाली थाने में दर्ज कराई गुमशुदगी रिपोर्ट में मनोज कुमार शर्मा पुत्र रामशरण शर्मा निवासी प्रताप कॉलोनी ने बताया था कि पांच सितंबर को दोपहर करीब एक बजे उसका बेटा रेहान घर से निकल गया था। फुटेज में वह कुम्हेर गेट से ऑटो से रेलवे स्टेशन से पहुंचना पाया गया है। अभी तक पुलिस उस बच्चे का सुराग नहीं लगा पाई है। इधर, बालक के पिता मनोज शर्मा व मां सीमा शर्मा बेटे के लापता होने के बाद से ही गुमसुम है। वे बेटे के दोस्तों, रिश्तेदारों से हर रोज फोन कर पूछ रहे हैं, परंतु बालक का कुछ भी पता नहीं लग पा रहा है।

बड़ी लापरवाही...स्टेशन पर कैमरे ही नहीं लगे, कैसे लगे सुराग

आश्चर्य की बात यह है कि यह कहना संभव है कि सरकारी मशीनरी का काम कब होगा, यह कहना आसान है कि इसका समय बताना असंभव है। करीब दो साल पहले रेलवे स्टेशन पर पांच वर्षीय बालिका को उठाकर ले जाने व बलात्कार का मामला सामने आया था। उस समय भी रेलवे स्टेशन पर कैमरे नहीं लगे होने के मामले को लेकर काफी विरोध हुआ था। उस समय कैमरे लगाने का निर्णय लिया गया था। अब बात करें तो अगर रेलवे स्टेशन पर कैमरे लग गए होते तो रेहान शर्मा का पता चल सकता था कि वह ट्रेन से कहीं गया है या नहीं। इससे पुलिस को जांच में भी मदद मिल सकती थी, लेकिन लापरवाही का आलम यह है कि रेलवे स्टेशन पर ४० प्वांइट्स निर्धारित होने के बाद भी अब तक कैमरे नहीं लग सके हैं।

-अभी बालक के संबंध में कोई खास सुराग हाथ नहीं लगा है। बाकी वह खुद ही घर पर चिट्ठी छोड़कर गया है। कुछ कागज आदि भी साथ लेकर गया है। पुलिस की टीम उसकी तलाश कर रही है। जल्द ही बालक को वापस लाने की कोशिश की जा रही है।
कैलाश मीणा
एसएचओ थाना कोतवाली

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned