दीपावली पर तोहफा: डेढ़ साल से गायब नौ वर्षीय बिटिया को देख छलक उठे मां-बाप के आंसू

-काफी कोशिश करने पर भी नहीं लग पाया था सुराग, बगैर बताए घर से निकल गई थी बालिका

By: Meghshyam Parashar

Published: 13 Nov 2020, 11:32 AM IST

भरतपुर. डेढ़ साल से नौ वर्षीय बेटी का इंतजार करते-करते मां-बाप आस ही छोड़ चुके थे कि वह मिलेगी भी या नहीं, आखिर दीपावली पर उन्हें तोहफा मिल ही गया। बाल कल्याण समिति ने बालिका के परिजनों को बुलाकर उन्हें सुपुर्द कर दिया। डेढ़ साल बाद बेटी को देखकर मां-बाप के भी आंसू छलक पड़े और बोले कि इस दीपावली पर ईश्वर ने उन्हें सही मायने में बड़ी सौगात दी है। जिस बेटी को पाने की उम्मीद ही छोड़ चुके थे वह आज के दिन मिल जाएगी। ऐसा सोचा भी नहीं था।
जानकारी के अनुसार बालिका राखी पुत्री गिर्राज (9) निवासी ऊंट वाली गली भरतपुर दरवाजा जिला मथुरा उत्तरप्रदेश हाल निवासी आनंद नगर बिरला मंदिर पुलिस थाना गोविंद नगर मथुरा 22 मई 2019 को घर से बगैर बताए निकल गई। बालिका राखी पुलिस थाना खोह में पाई गई। जहां से चाइल्ड लाइन टीम की ओर से लाने के बाद बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया था। समिति ने गृह में प्रवेश कराया था। गृह अधीक्षक मां कुसुम बालिका गृह के बार-बार काउंसलिंग करने पर बालिका राखी की ओर से कभी कहीं का पता तो कभी कहां पता बताया। बताए गए स्थानों पर जाकर जानकारी की तो उसके परिजनों का कोई सुराग नहीं लग सका। बाल कल्याण समिति की ओर से मां कुसुम बालिका गृह को बालिका के के बताए गए स्थानों पर जाकर जानकारी करने को पाबंद किया गया। बालिका के पुर्नवास के लिए जब कोशिश की गई तो उसके परिजनों का पता चल सका। जानकारी मिलने पर उसके परिजन बाल कल्याण समिति पहुंचे। जहां परिजनों को बालिका सुपुर्द कर दी गई। इस अवसर पर अध्यक्ष गंगाराम पाराशर, सदस्य अनुराधा शर्मा, मदनमोहन शर्मा, राजाराम भूतौली, नरेंद्रपाल सिंह डागुर उपस्थित थे।

जानिए ऐसे मिला बिटिया को उसका परिवार

नौ वर्षीय बालिका राखी डेढ़ साल बाद दीपावली अपने परिवार के साथ मनाएगी। बालिका के परिवार का पता चलने के पीछे भी कहानी छिपी हुई है। इसमें विभाग के साथ संबंधित यूनिट व समितियों ने भी अच्छी भूमिका निभाई। कुछ दिन पहले बाल कल्याण समिति की ओर से देश के सभी मानव तस्करी विरोधी यूनिट, बाल कल्याण समिति व बाल गृहों आदि को आवासरत बच्चों के फोटो भेजे गए थे। जहां से मानव तस्करी विरोधी यूनिट से हाल में ही इसके बारे में जानकारी दी। इस पर परिजनों को बुलाया गया। पहले वहां की पुलिस से पूरी पड़ताल कराई गई, तब जाकर बालिका परिजनों को सौंपी गई।

समिति अध्यक्ष बोले: सही मायने में इस बार मनाएंगे दीपावली

बाल कल्याण समिति अध्यक्ष गंगाराम पाराशर ने बताया कि पिछले काफी सालों से समाजसेवा और अब संस्था में इस पद का निर्वहन कर रहा हूं, लेकिन इस बार पहली ऐसी दीपावली मनाएंगे, जो कि सही मायने में बहुत अच्छी होगी। क्योंकि संस्था के सभी सदस्य, अधिकारी-कर्मचारी एवं संबंधित सभी संस्था, गृह के सदस्यों के सहयोग से एक बालिका को दीपावली के अवसर पर ही उसका परिवार मिल पाया है।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned