गौशालाओं में गोवंश को बदतर इंतजाम...

भरतपुर. गौशालाओं में गोवंश कड़ाके सर्दी में तड़प कर दम तोड रहा है।

By: pramod verma

Published: 03 Jan 2020, 09:02 AM IST

भरतपुर. गौशालाओं में गोवंश कड़ाके सर्दी में तड़प कर दम तोड रहा है। बावजूद इसके ज्यादातर गौशालाओं में गोवंश को सर्दी से बचाव के व्यापक इंतजाम नहीं हैं इसलिए सर्दी से ठिठुरता बेजुबान या तो दम तोड़ रहा है या बीमारी से ग्रसित है। इसे लेकर पशुपालन विभाग का रवैया अब सख्त हो गया है विभाग ने सर्वे के गौशालाओं के हालात जाने और संचालकों को सख्य निर्देश दिए। कहा कि अब व्यवस्थाएं दुरुस्त नहीं मिली तो अनुदान पर रोक लगा दी जाएगी।

जिले में विभाग से पंजीकृत 15 गौशालाएं हैं, जहां 14 हजार से अधिक गोवंश की देखरेख की जिम्मेदारी गौशाला संचालकों की है। विभागीय टीम ने 13 गौशालाओं में चारा-दाना, पानी आदि की सुविधा के लिए राज्य सरकार करोड़ों रुपए का अनुदान देती है फिर भी व्यवस्थाएं नाकाफी हैं। गौरतलब है कि गत दिनों रुदावल स्थित हनुमान गौशाला में सर्दी के कारण करीब एक दर्जन गोवंश की मौत हो गई थी। इस पर विभाग चेता है।


ऐसे में अब विभाग को चिंता सताई तो गौशालाओं का सर्वे कर स्थिति देखी। टीम ने सर्दी से बचाव को अलाव, ताजा पानी, चारा दाना, रात को गोवंश के बैठने के लिए बोरी, पॉलीथिन, कीचड़ नहीं होना, टीनशैड आदि की व्यवस्थाओं का जायजा लिया।


इस दौरान भुसावर स्थित गौशाला में कीचड़ मिली, जिसे हटवाया और नीचे कड़ब बिछवाई व अलाव की व्यवस्था देखी। वहीं बादीपुर गौशला में दो हजार से अधिक गोवंश मिला, लेकिन अलाव, पानी की व्यवस्था पर्याप्त नहीं थी। वहीं खानपुर गौशाला में टीनशैड आदि के इंतजाम नहीं थे। इस स्थिति में विभाग ने गौशाला संचालकों को व्यवस्थाएं दुरुस्त करने की सख्त हिदायत दी। कहा कि दोबारा सर्वे करने आने पर अगर सुविधाएं नहीं मिली तो अनुदान पर रोक लगाने की शिकायत निदेशालय को भेजी जाएगी।

पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. नगेश चौधरी का कहना है कि विभाग ने 13 गौशालाओं का सर्वे किया, जहां कई गौशालाओं में टीनशैड, सर्दी से बचाव को अलाव, चारा-दाना, पानी आदि की कमियां पाई गईं उन गौशालाओं के संचालकों को सख्त हिदायत दी है। विभाग दोबारा सर्वे करेगा। ऐसी स्थिति मिलती है तो अनुदान पर रोक लगाने की शिकायत करेंगे।

pramod verma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned