scriptRajasthan Bharatpur lohagarh fort history in hindi | Rajasthan : इस किले पर तोप के गोलों का भी नहीं होता था असर, जानिए खासियत | Patrika News

Rajasthan : इस किले पर तोप के गोलों का भी नहीं होता था असर, जानिए खासियत

locationभरतपुरPublished: Nov 14, 2022 02:30:44 pm

Submitted by:

Kamlesh Sharma

Lohagarh Fort 289 साल पुराना है। इसका निर्माण भरतपुर के जाट वंश के महाराजा सूरजमल ने 19 फरवरी 1733 में कराया था।इसके चारों ओर मिट्टी की दोहरी दीवारें और गहरी खाई है।

Rajasthan Bharatpur lohagarh fort history in hindi

भरतपुर। लोहागढ़ किला 289 साल पुराना है। इसका निर्माण भरतपुर के जाट वंश के महाराजा सूरजमल ने 19 फरवरी 1733 में कराया था।इसके चारों ओर मिट्टी की दोहरी दीवारें और गहरी खाई है। इसे सुजानगंगा कहते हैं। इसमें पानी मोती झील से लाया गया था। किले में दो दरवाजे हैं। उत्तरी द्वार अष्टधातु का बना है, इसे जवाहर सिंह 1765 में दिल्ली विजय के बाद लाल किले से उतारकर लाए थे। भरतपुर राज्य के जाट राजवंश के राजाओं का राज्याभिषेक जवाहर बुर्ज में होता था। इस किले पर कई आक्रमण हुए हैं, लेकिन इसे कोई भी नहीं जीत पाया। सन् 1803 में लार्ड लेक ने बारूद भरकर इसे उड़ाने का प्रयास किया था, लेकिन इसका कुछ नहीं बिगड़ा था।

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.