scriptSaini, Mali and Kushwaha Samaj have called for reservation | सैनी, माली व कुशवाह समाज ने भरी आरक्षण की हुंकार, आगरा-बीकानेर राष्ट्रीय राजमार्ग जाम | Patrika News

सैनी, माली व कुशवाह समाज ने भरी आरक्षण की हुंकार, आगरा-बीकानेर राष्ट्रीय राजमार्ग जाम

-तीन महीने पहले ही चेता चुका था संगठन, लेकिन सरकार व प्रशासन ने नहीं रखा चेतावनी का ध्यान, हाईवे पर यातायात को किया डायवर्ट, हजारों यात्री हो रहे परेशान, गुर्जर व जाट आरक्षण आंदोलन के बाद अब भरतपुर से ही सैनी समाज ने की आरक्षण आंदोलन की शुरुआत

भरतपुर

Published: June 12, 2022 05:42:42 pm

भरतपुर. आरक्षण की मांग को लेकर सैनी समाज का नेशनल हाईवे पर जाम लगाकर प्रदर्शन किया। भारी संख्या में सैनी समाज के लोग गांव अरौंदा-हंतरा के पास आगरा-बीकानेर हाईवे पर एकत्रित हुए। जहां हाथों में लाठी-डंडे लेकर वाहनों को रोक दिया। सैनी समाज के लोग 12 प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। करीब तीन महीने पहले ही समाज ने संबंधित संगठन के नाम से प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन देकर जाम की चेतावनी दे दी थी, लेकिन ध्यान नहीं देने के कारण अचानक जाम की समस्या का सामना आमजन को करना पड़ रहा है। आंदोलन महात्मा ज्योतिवा राव फूले आरक्षण संघर्ष समिति के बैनर तले किया जा रहा है। हजारों की संख्या में आसपास के सभी जिलों से लोग पहुंचे हैं। आंदोलन प्रदेश संयोजक मुरारीलाल सैनी के नेतृत्व में किया जा रहा है।
सैनी, माली व कुशवाह समाज ने भरी आरक्षण की हुंकार, आगरा-बीकानेर राष्ट्रीय राजमार्ग जाम
सैनी, माली व कुशवाह समाज ने भरी आरक्षण की हुंकार, आगरा-बीकानेर राष्ट्रीय राजमार्ग जाम
आंदोलनकारियों ने बताया कि आदि ने बताया कि राजस्थान प्रदेश में माली, सैनी, कुशवाहा, शाक्य व मौर्य समाज की करीब एक करोड़ जनसंख्या है। लेकिन आरक्षण के अभाव समाज राजनैतिक, सामाजिक, शैक्षिक व आर्थिक स्थिति में सबसे पिछड़ा हुआ है। क्योंकि अधिकांश परिवार लघु कृषक व मजदूरी का कार्य करते हैं। समाज के लोगों के पास आय का स्त्रोत नहीं है व अधिकतर लोग गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने के साथ विषम आर्थिक संकट के कारण अपने बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाने में असमर्थ और असहाय बने हुए है। इसके कारण सरकारी सेवा में भागीदारी नगण्य है। उन्होंने जनसंख्या के अनुपात व आर्थिक असमानता के आधार पर सरकारी नौकरियों में समाज को 12 प्रतिशत आरक्षण देने की मांग की गई है।
ये हैं 11 सूत्री मांग

महात्मा फुले कल्याण बोर्ड का गठन कर उसे क्रियान्वित किया जाए। सैनी माली एवं कुशवाह आद समाज को अलग से आरक्षण दिया जाए। राजस्थान के हर शहर व कस्बे में सब्जी ठेले वालों को स्थायी जगह दी जाए। महात्मा फुले बागवानी बोर्ड का गठन किया जाए। महात्मा फुले दंपती के नाम से विश्वविद्यालयों में शोध केंद्रों की स्थापना की जाए। महात्मा फुले जयंती पर राजकीय अवकाश घोषित किया जाए। भारतीय सेना में सैनी रेजिमेंट का गठन किया जाए। सैनी माला व कुशवाह के लिए अलग से एक्ट लाया जाए। इससे अत्याचार करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जाए। फुले दंपती के नाम से संग्रहालय बनाया जाए। महात्मा फुले दंपती को भारत रत्न से नवाजा जाए। इसका प्रस्ताव बनाकर केंद्र सरकार को भेजा जाए।
फरवरी माह से गांव-गांव में की बैठक

संबंधित संगठन की ओर से फरवरी 2022 से ही आरक्षण की हुंकार भरी गई थी। तभी से भरतपुर, करौली, सवाईमाधोपुर, धौलपुर जिले के गांव-गांव में जहां सैनी समाज की संख्या अधिक है, वहां व्यक्तिगत संपर्क कर सूची बनाई गई थी, साथ ही समाज के लोगों को जून माह में प्रस्तावित आरक्षण आंदोलन में शामिल होने के लिए कहा गया था। पिछले दिनों सैनी समाज की हुई महापंचायत में हजारों की संख्या में सैनी समाज के लोग एकत्रित हुए थे। जिला स्तरीय महापंचायत के दौरान जिले के सभी कस्बे, गांव, ढाणी-ढाणी पीले चावल वितरित कर समाज के लोगों को बुलाया गया था। इसके बाद महापंचायत का आयोजन किया गया था। महापंचायत के बाद समाज के लोग कुम्हेर गेट से मुख्य बाजार में होते हुए जिला कलक्ट्रेट तक रैली निकालते हुए पहुंचे थे।
बोले...सरकार का नहीं दिखा सकारात्मक कदम

आंदोलनकारियों ने बताया कि अपनी 11 सूत्रीय मांगों को लेकर सैनी समाज के लोगों ने जयपुर में भी राजस्थान के सभी जिलों से लोग एकत्रित कर एक शिष्ट मण्डल की ओर से अपनी 11 सूत्रीय मांगों को सरकार के सामने रखा गया था, लेकिन इस संबंध में कोई विचार नहीं किया गया। बाद में 27 मार्च को एक प्रांतीय कार्यकारिणी के शिष्ट मण्डल ने वार्ता की, परंतु कोई सकारात्मक परिणाम नहीं निकला। समाज के नेताओं ने अब महापंचायत कर आगे की रणनीति तय की और हाईवे जाम किया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Jammu Kashmir Election: चुनाव आयोग का बड़ा ऐलान, जम्मू कश्मीर में रह रहे बाहरी लोग भी डाल सकेंगे वोटकर्नाटक के बाद येडियूरप्पा के सहारे अब 'मिशन दक्षिण' में जुटी भाजपाJabalpur करोड़पति आरटीओ, आय से 650 प्रतिशत अधिक प्रापर्टी मिलीPro Boxing:  विजेंदर के करारे मुक्कों के आगे पस्त अफ्रीकन लॉयन सुले, 13वीं जीत हासिल कीNSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडोनहीं थम रहा चेतेश्वर पुजारा का बल्ला, लगातार दो शतक के बाद फिर खेली ताबड़तोड़ पारी'रूसी तेल खरीदकर हमारा खून खरीद रहा है भारत', यूक्रेन के विदेश मंत्री Dmytro KulebaAsia Cup 2022: मोहम्मद कैफ ने बताया, क्यों नहीं चुने गए एशिया कप के लिए संजू सैमसन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.