भाजपा कर रही राजनीति, एसपी को कहा है वीडियोग्राफी कर करें कार्रवाई

-कैबीनेट मंत्री विश्वेंद्र सिंह बोले

By: Meghshyam Parashar

Published: 07 Mar 2020, 09:44 PM IST

भरतपुर. पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने कहा है कि भाजपा के कुछ लोग इतनी बड़ी विपदा पर भी राजनीति कर रहे हैं। जगह-जगह जाम लगवा रहे हैं। एसपी को भी कहा है कि ऐसे लोगों की वीडियोग्राफी कराई जाए, ताकि कार्रवाई की जा सके। सरकार किसानों के साथ है। उन्होंने पंचायत समिति कुम्हेर के एक दर्जन से अधिक गांवों का दौरा किया। उन्होंने अराजक तत्वों को आगाह किया कि वे इस संवेदनशील मामले में किसानों को भड़का कर सड़क जाम जैसे नियम विरूद्ध कार्य न कराएं, अन्यथा उनके विरूद्ध पुलिस कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि यह विशेष गिरदावरी अभियान 15 दिवस की अवधि तक चलेगा। जिले के किसानों को राहत के लिए विशेष आर्थिक पैकेज देने की वार्ता की है। इस पर मुख्यमंत्री ने सकारात्मक रूख प्रकट किया है। इसमें किसानों को भी साथ देना होगा। सरकार व प्रशासन की कोशिश है कि एक भी किसान मुआवजा मिलने से वंचित नहीं रहे।

भाजपा जिलाध्यक्ष: बौखला रहे हैं कांग्रेस के मंत्री, सरकार फेल
इधर, भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. शैलेष सिंह ने आरोप लगाया है कि सरकार के मंत्री बौखला रहे हैं। सरकार किसानों को राहत पहुंचाने में फेल नजर आ रही है। भाजपा पर जाम लगवाने का आरोप गलत है। अस्तावन मोड पर तहसीलदार व अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में हमने ही जाम खुलवाया था। किसानों को साथ लेकर वहां से निकल गए थे। इसके अलावा भी कुछ स्थानों पर जाम खुलवाया गया है।

फूटा किसानों का गुस्सा...प्रदर्शन, जाम और विशेष पैकेज की रखी मांग
भरतपुर. जिलेभर से. सात दिन के अंदर चौथी बार हुई ओलावृष्टि से आहत किसानों के सब्र का बांध शनिवार को टूट गया। कुछ स्थानों पर किसानों ने जाम लगाकर विरोध प्रदर्शन किया। अफसर व नेताओं ने समझाइश कर मामला शांत कराया। ज्ञात रहे कि 29 फरवरी को भी मौसम का कहर किसानों पर बरसा था। इसके बाद चार व पांच फरवरी की रात और छह फरवरी की शाम को जिले में तेज बारिश के साथ ओलावृष्टि ने किसानों की फसल को तबाह कर दिया था। किसानों की करीब 98 हजार हैक्टेयर फसल में नुकसान पहुंचा है।
बयाना विधानसभा क्षेत्र की अधिकांश सड़कें बदहाल स्थिति में है जिन पर होकर वाहनों का संचालन तो क्या राहगीर भी नहीं निकल सकते है। कई सड़कों पर से तो डामर का नामोनिशान तक मिट चुका है। इसके अलावा करौली जिले में पांचना बांध के बनने के बाद से भरतपुर जिले के बयाना विधानसभा क्षेत्र की प्रमुख गम्भीर एवं कुकंद नदी को सूखे की मार झेलनी पड़ रही हैजिससे बयाना विधानसभा के अधिकांश हिस्सों का जलस्तर काफी नीचे चला गया हैऔर सिंचाई के लिए किसानों को पानी के लिए मशक्कत करनी पड़ती है। विधायक ने बताया कि पांचना के भरने पर तो गम्भीर नदी में पानी छोड़ दिया जाता है जबकि जरुरत पडऩे पर पानी नहीं छोड़ा जाता है। किसानों के हित एवं क्षेत्र की खुशहाली के लिए गम्भीर नदी में पांचना बांध के पानी को छोडऩे की आवश्यकता जताते हुए मांग उठाई।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned