scriptThe order of the Supreme Court choked the desires of the house | सुप्रीम कोर्ट के आदेश ने घोंटे आशियाने के अरमान | Patrika News

सुप्रीम कोर्ट के आदेश ने घोंटे आशियाने के अरमान

locationभरतपुरPublished: Nov 25, 2022 04:47:18 pm

Submitted by:

Gaurav Saxena

The order of the Supreme Court choked the desires of the house

सुप्रीम कोर्ट के आदेश ने घोंटे आशियाने के अरमान
सुप्रीम कोर्ट के आदेश ने घोंटे आशियाने के अरमान
दायरे से अंजान लेखा-जोखा!
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद खुद दायरे में आने वाले भूखण्डों की नहीं जानकारी

भरतपुर. यूआइटी ने आगरा-जयपुर हाइवे पर मेडिकल कॉलेज (medical college) के पास एक नया शहर बसाने का सपना देखा था। इसके लिए यहां कई आसपास के ग्रामीणों की भूमि का अवाप्त किया गया और इस योजना को नाम दिया गया सेक्टर-13, इसमें यूआइटी का सभी सुविधाओं सहित करीब दो लाख की आबादी बसाने का सपना था। मगर जून 2022 में सुप्रीम कोर्ट ने एक आदेश जारी कर यूआइटी के इस सपने पर पानी फेर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि विश्व धरोहर आदि के एक किमी दायरे में कोई भी नव निर्माण कार्य नहीं हो सकता। इसके बाद विभागीय कर्मचारियों में हलचल हो गई। एक तो यह योजना पहले ही लेट हो रही थी और कोर्ट के आदेश के बाद एक बार फिर यह योजना अटक गई। आश्चर्यजनक बात ये है कि जिम्मेदारों को इस बात की खबर तक नहीं की। विश्व धरोहर केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान से एक किमी दायरे में उनकी ओर से काटे गए कितने भूखण्ड हैं जो विभागीय कार्यशैली पर सवालिया निशान है। दरअसल, इस योजना की शुरुआत करीब डेढ़ दशक पूर्व की गई थी।इसके लिए केंद्र सरकार के लिए ले आउट प्लान भी भेजा गया। इस योजना के तहत 346.86 हेक्टेयर में कॉलोनी काटी गई थी। वहीं इसका 13.40 हेक्टेयर क्षेत्र इको सेंसिटिव जोन में था। इसके लिए जब पर्यावरण विभाग से मंजूरी नहीं मिली थी।वहीं जून माह में सुप्रीम कोर्ट ने विश्व धरोहरों के एक किमी के दायरे में निर्माण पर रोक लगाने का आदेश जारी किया था। मगर जब यूआइटी से एक किमी के दायरे में आने वाले भूखण्डों की जानकारी लेनी चाही तो खुद विभाग भी इससे अनजान था कि कितने भूखण्ड कोर्ट आदेश के दायरे में आ रहे हैं।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.