शर्मनाक: मतलब जब जलभराव का डर सताया...तब प्रशासन निरीक्षण को आया

-जिला कलक्टर ने ली शहर के ड्रेनेज सिस्टम की जानकारी, हर साल बारिश के समय जलभराव बड़ी समस्या

By: Meghshyam Parashar

Published: 20 May 2021, 02:37 PM IST

भरतपुर. आखिर जब प्रशासन को शहर में जलभराव का डर सताया तो हमेशा की तरह निरीक्षण की बारी आ ही गई। अब जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता ने आगामी बारिश के मौसम को मद्देनजर रखते हुए शहर की परम्परागत ड्रेनेज सिस्टम एवं जलभराव क्षेत्रों का नगर निगम के अधिकारियों के साथ बुधवार को भ्रमण कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।
जिला कलक्टर गुप्ता को शहर के अटलबंध क्षेत्र में जलभराव की स्थिति से अवगत कराते हुए नगर निगम आयुक्त डॉ. राजेश गोयल ने बताया कि क्षेत्र में जलभराव की समस्या के निस्तारण के लिए 9 पम्प लगाये हुए हैं जिनसे क्षेत्र में जलभराव होने की स्थिति में अतिरिक्त जल को फ्लड कंट्रोल ड्रेन में डाल दिया जाता है। उन्होंने बताया कि इस ड्रेन में क्षेत्र की निकटवर्ती पैराडाइज कॉलोनी, इंदिरा कॉलोनी, तिलक नगर सहित अन्य कॉलोनियों से बरसात की वजह से होने वाले जल भराव की निकासी का प्रावधान किया हुआ है। जिला कलक्टर ने हीरादास स्थित कुण्डा के जलभराव की स्थिति एवं पंपहाउस का भी अवलोकन किया तथा स्टेडियम नगर एवं लोहागढ़ स्टेडियम में भरे पानी का जेसीबी से ढलान देकर जलभराव की समस्या को दूर करने के निर्देश दिए। इससे क्षेत्र के आसपास की कॉलोनियों में कचरा न हो सके। उन्होंने चांदपोल एवं जघीना गेट के जलभराव के स्थलों का भी अवलोकन कर नगर निगम के अधिकारियों को जलभराव की समस्या के निस्तारण के निर्देश दिए। नगर निगम आयुक्त डॉ. गोयल ने बताया कि शहर की जलभराव समस्या से निजात दिलाने के लिए राज्य सरकार की ओर से 200 करोड़ रुपए की राशि से नया ड्रेनेज प्लान तैयार कराया जा रहा है। इसका निजी कम्पनी की ओर से ड्रोन के माध्यम से बहुउद्देश्यीय ले-आउट प्लान तैयार करा लिया गया है। भ्रमण के दौरान नगर निगम अधिशाषी अभियंता विनोद चौहान, सहायक अभियंता निशा जिंदल आदि उपस्थित थे।

हर साल ऐसे होती रही खानापूर्ति

अगर शहर के ड्रेनेज सिस्टम को लेकर प्लान की बात करें तो भले ही इस बार राज्य सरकार ने 200 करोड़ रुपए की घोषणा कर दी है, लेकिन अभी भी मामला धरातल पर नहीं है। क्योंकि अभी तक काम भी शुरू नहीं हो सका है। आगामी समय में बरसात का मौसम आने वाला है। हर साल अधिक बारिश होने पर शहर में जलभराव की समस्या का सामना करना पड़ता है। इससे पहले किए जाने वाले नगर निगम व जनप्रतिनिधियों के दावे भी फेल हो जाते हैं।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned