पक्षियों की तरह पार्क में नहीं दिख रहे पर्यटक, चार दिन में 12 सैलानी ही आए

विश्वविख्यात केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान भले ही वापस पर्यटकों के लिए खुल गया हो लेकिन अभी यहां पर पर्यटक न के बराबर हैं।

By: rohit sharma

Updated: 14 Jun 2020, 10:28 AM IST

भरतपुर. विश्वविख्यात केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान भले ही वापस पर्यटकों के लिए खुल गया हो लेकिन अभी यहां पर पर्यटक न के बराबर हैं। हाल ये है कि घना में चार दिन में केवल बारह पर्यटक ही भ्रमण करने पहुंचे हैं। पर्यटकों की आवाजाही से आबाद रहने वाला मुख्य गेट पर इन दिनों वीरानी छाई हुई है, केवल घना कर्मचारी और कुछ रिक्शा चालक बैठे नजर आ जाएंगे। माना जा रहा है कि कोरोना संकट के चलते पर्यटक फिलहाल भ्रमण करने से बच रहे हैं। उधर, घना में फिलहाल नया सीजन शुरू होने में वक्त है। गौरतलब रहे कि प्रदेश में कोरोना संकट के चलते लॉक डाउन लागू होने के बाद से घना को पर्यटकों के लिए गत 17 मार्च से बंद कर दिया गया था।


पहले दिन 8 पर्यटक, दो दिन एक भी नहीं

घना को पर्यटकों के लिए वापस 9 जून से खोला गया है। इसमें पहले दिन उद्यान में 8 पर्यटक भ्रमण करने पहुंचे। लेकिन इसके बाद 10 व 11 जून को एक भी पर्यटक दिनभर में नहीं आया। इसके बाद चार पर्यटक और पहुंचे। फिलहाल गेट कर्मचारी, रिक्शा चालक और नेचर गाइड के अलावा कोई नहीं दिख रहा है। उधर, पर्यटकों के नहीं आने से रिक्शा चालक व नेचर गाइड निराश हैं। इनके परिवार घना पर ही निर्भर हैं। घना डीएफओ मोहित गुप्ता ने बताया कि सीजन नहीं होने की वजह से पर्यटक नहीं आ रहे हैं। वहीं, शहर में कोरोना संक्रमित मरीज ज्यादा होने की वजह से लगे कफ्र्यू के कारण भी पर्यटक आने से बच रहे हैं।


निकले सीजन में आए 1.23 लाख पर्यटक

हाल में निकले सीजन में घना में फरवरी तक करीब 1.23 लाख से अधिक पर्यटक भ्रमण करने पहुंचे थे। इसमें भारतीयों की संख्या 77 हजार 327, विदेशी 19 हजार 523 और विद्यार्थी 26 हजार 523 पर्यटक घना भ्रमण करने पहुंचे थे। हालांकि, मार्च में कुछ और पर्यटक आए थे लेकिन 17 मार्च को बाद में कोरोना माहामारी को लेकर लॉक डाउन के चलते पार्क को बंद कर दिया गया था। हालांकि, मार्च से पर्यटकों की संख्या घट जाती है और अप्रेल तक पक्षियों के रवाना होने से कम संख्या में पर्यटक आते हैं।

rohit sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned