scriptWhen SDM came to investigate, the school got closed, notice was given | एसडीएम जांच करने पहुंचे तो बंद मिला स्कूल, सभी टीचरों को थमाया नोटिस | Patrika News

एसडीएम जांच करने पहुंचे तो बंद मिला स्कूल, सभी टीचरों को थमाया नोटिस

भुसावर उपखंड के नगला बंद स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय का सोमवार को एसडीएम जोगेंद्र सिंह गुर्जर ने औचक निरीक्षण किया। इस दौरान विद्यालय के गेट का बंद मिला।

भरतपुर

Published: February 21, 2022 11:42:52 pm

भरतपुर. भुसावर उपखंड के नगला बंद स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय का सोमवार को एसडीएम जोगेंद्र सिंह गुर्जर ने औचक निरीक्षण किया। इस दौरान विद्यालय के गेट का बंद मिला। एसडीएम ने नगला बंद के लोगों से विद्यालय संचालन संबंधी जानकारी ली। ग्रामीणोंं ने शिक्षकों के देरी से आने की शिकायत की। एसडीएम ने निरीक्षण के समय गैर हाजिर मिले अध्यापक को कारण बताओ नोटिस जारी किया। एसडीएम ने विद्यालय के स्टाफ को समय पर आने के लिए पाबंद करते हुए विद्यालय व्यवस्थाओं में सुधार के निर्देश दिए। एसडीएम ने बताया कि नगला बंद के लोगों की ओर से विद्यालय के समय पर नहीं खुलने विद्यालय का स्टाफ हमेशा देरी से विद्यालय आने की शिकायत कई बार की गई है। लगातार सरकारी विद्यालय के देरी से खुलने और देरी से अध्यापक आने की शिकायत पर नगला बंद के इस विद्यालय का निरीक्षण किया गया।
एसडीएम जांच करने पहुंचे तो बंद मिला स्कूल, सभी टीचरों को थमाया नोटिस
narcoticबॉयलर में डालकर फूंक दिए ढाई करोड़ के चार टन से अधिक मादक पदार्थ,narcoticबॉयलर में डालकर फूंक दिए ढाई करोड़ के चार टन से अधिक मादक पदार्थ,एसडीएम जांच करने पहुंचे तो बंद मिला स्कूल, सभी टीचरों को थमाया नोटिस

राज्यमंत्री बोली- देरी से आने वाले शिक्षकों के खिलाफ हो कार्रवाई


कामां विधायक एवं राज्यमंत्री जाहिदा खान की जनसुनवाई के दौरान ग्रामीणों के विद्यालयों में देरी से पहुंचने और पहले निकल जाने की शिकायत की। जिसपर राज्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश देकर लापरवाह शिक्षकों के विरुद्ध कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। राज्यमंत्री खान ने बताया कि क्षेत्र शिक्षा की दृष्टि से काफी पिछड़ा हुआ था। जहां शिक्षा का स्तर मजबूत करने के लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। शिक्षकों की नियुक्ति कराने के साथ-साथ विद्यालयों को क्रमोन्नत कराने का कार्य किया जा रहा है। विद्यालयों में नए भवन बनवाए जा रहे हैं खेल के संसाधन भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं जिससे शिक्षा का स्तर मजबूत हो। लेकिन जन सुनवाई के दौरान ग्रामीणों ने अवगत कराया है कि ज्यादातर अध्यापक विद्यालय समय के बाद विद्यालय में पहुंचते हैं और विद्यालय समय से पहले ही विद्यालय छोड़ देते हैं। कुछ अध्यापक तो ऐसे हैं कि जाते ही नहीं है और दूसरे दिन जाकर अपने हस्ताक्षर कर देते हैं। ऐसे लापरवाह शिक्षकों के विरुद्ध कार्रवाई करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। साथ ही कांग्रेसी कार्यकर्ताओं की एक निगरानी कमेटी भी गांव गांव में बनाई जा रही है जो शिक्षकों पर निगरानी रखकर उनके बारे में सूचना देंगे जो शिक्षक समय पर विद्यालय नहीं पहुंच रहा है। समय से पहले विद्यालय छोड़ रहे हैं साथ ही कुछ शिक्षक विद्यालय समय के दौरान ज्यादातर मोबाइल पर वार्ता करने में लगे रहते हैं। ऐसे लापरवाह शिक्षक अपनी कार्यप्रणाली सुधार ले, अन्यथा उन्हें चिन्हित कर विभागीय कार्रवाई के साथ-साथ बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। शिक्षा के प्रति किसी भी तरीके से कोई लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.