आज नामांकन पत्रों की संवीक्षा, तीन दिसंबर को वापस ले सकेंगे नाम

-जिले की आठ नगरपालिकाओं के 255 वार्डों में 1589 प्रत्याशियों ने भरे थे 1948 नामांकन पत्र
-दोनों प्रमुख नाम वापसी की तारीख का कर रहे इंतजार

By: Meghshyam Parashar

Published: 01 Dec 2020, 03:19 PM IST

भरतपुर. जिले की आठ नगरपालिकाओं के 255 वार्डों में चुनावी हलचल तेज हो चुकी है। फिलहाल दोनों ही प्रमुख दल नाम वापसी की तारीख निकलने का इंतजार कर रहे हैं। चूंकि नाम वापसी के बाद चुनावी तस्वीर भी तय हो जाएगी। टिकट वितरण को लेकर जो सियासी घमासान पार्टियों में मचा हुआ है, उसको लेकर अब भी आंतरिक कलह उजागर हो रहा है। ऐसे में दोनों ही दलों की रणनीति निर्दलियों के भरोसे टिकी हुई है। हालांकि राजनीतिक विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि निर्दलियों वाली रणनीति के कारण इस बार भी खरीद फरोख्त की स्थिति बनी रहेगी। इससे पुरानी परंपरा बरकरार रहेगी। इसी बीच कुछ नगरपालिकाओं में इस बार खास यह भी देखने को मिल रही है कि खुद वोटर ही 'इस बार पार्षद...बिकाऊ नहीं टिकाऊ चाहिएÓ का कैंपेन सोशल मीडिया पर चला रहे हैं।
जिला निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के अनुसार नामांकन पत्रों की संवीक्षा एक दिसम्बर, नामांकन वापस लेने की तिथि तीन दिसम्बर, चुनाव चिन्हों का आवंटन चार दिसम्बर निर्धारित की गई है। सदस्य के लिए मतदान 11 दिसम्बर को सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक सम्पन्न होगा। मतगणना 13 दिसम्बर रविवार को सुबह नौ बजे से प्रारंभ होगी। अध्यक्ष पद के लिए लोकसूचना 14 दिसम्बर को जारी होने के साथ ही नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया शुरू होगी। नामांकन पत्र प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 15 दिसम्बर तक प्रत्येक दिन सुबह 10.30 से दोपहर तीन बजे तक, नामांकन पत्रों की संवीक्षा 16 दिसम्बर, नामांकन वापस लेने की तिथि 17 दिसम्बर, चुनाव चिन्हों का आवंटन 17 दिसम्बर निर्धारित की गई है। अध्यक्ष पद के लिए मतदान 20 दिसम्बर को सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक सम्पन्न होकर मतगणना मतदान समाप्ति के तुरन्त पश्चात की जाएगी। आठों निकायों के 255 वार्डों में 1589 प्रत्याशियों ने 1948 नामांकन पत्र दाखिल किए हैं। बयाना में 292, भुसावर में 167, डीग में 211, कामां में 200, कुम्हेर में 137, नदबई में 190, नगर में 296 व वैर में 186 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र भरे हैं। वहीं वैर में कुल 25 वार्डों में से भाजपा ने 16, कांग्रेस ने 20, बयाना में 35 में से भाजपा ने नौ व कांग्रेस ने 15, डीग में 40 में से भाजपा ने 16 व कांग्रेस ने सभी, कामां में 35 में से भाजपा ने चार, कांग्रेस ने 25, भुसावर में 25 में से भाजपा ने 19, कांग्रेस ने 20, कुम्हेर में 25 में से भाजपा ने छह, कांग्रेस ने सभी, नदबई में 35 में से भाजपा ने 29 व कांग्रेस ने 19, नगर में 35 में से भाजपा ने 15 व कांग्रेस ने 24 वार्डों को खाली छोड़ा है।

निर्दलियों पर टिकी है दोनों दलों का भरोसा

जिस तरह से सभी निकायों में टिकटों का आवंटन किया गया है, उससे साफ है कि दोनों ही दलों के कुछ स्थानों पर मजबूत प्रत्याशी नहीं मिल पाए हैं तो कुछ स्थानों पर आपसी फूट के चलते टिकटों का आवंटन नहीं हो पाया है। ऐसे में दोनों ही दलों की पालिकाध्यक्ष बनाने की आस भी अब निर्दलियों पर टिकी हुई है। चूंकि ऐसा इन आठों निकायों में पिछले चुनाव में भी हुआ था। जब पार्टी के प्रत्याशी जीतकर नहीं आए तो दोनों दलों के बीच बाड़ाबंदी और निर्दलियों को अपनी ओर खींचने की मशक्कत हुई थी।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned