यहां महिलाओं को सुविधा की दरकार

भरतपुर. केंद्रीय रोडवेज बस स्टेंड पर महिला शौचालय और सफाई व्यवस्था को लेकर स्थिति दयनीय है।

भरतपुर. केंद्रीय रोडवेज बस स्टेंड पर महिला शौचालय और सफाई व्यवस्था को लेकर स्थिति दयनीय है। जबकि, रोडवेज प्रशासन स्वच्छता के नाम पर हजारों रुपए खर्च करता है फिर भी महिला शौचालय टूटे और दीवारों पर गुटखा के निशान व परिसर में गंदगी देखी जा सकती है।

यहां लोहागढ़ व भरतपुर दोनों डिपो से लगभग 135 बस संचालित हैं। इनमें प्रतिदिन 35 से 40 हजार यात्री यात्रा करते हैं। ऐसे में महिलाओं की सुविधा के लिए चारों ओर से ढका हुआ शौचालय होना अनिवार्य है, लेकिन परिसर में दीवार के सहारे बना महिला शौचालय टूटा पड़ा है। यहां तक की दीवार भी नहीं है। ऐसे महिलाओं को परेशानी होती है या शुल्क देकर शौचालय जाना पड़ता है।

सफाई व्यवस्था पर 16 हजार 500 रुपए प्रतिमाह का ठेका है। वहीं ऊपरी मंजिल पर कार्यालय की सफाई के लिए 02 हजार रुपए महीने अलग से है। इसमें पूरा बस स्टेंड परिसर व कार्यालय की सफाई शामिल है। बावजूद इसके दीवारों पर गुटखा की पीक के निशान व परिसर में कचरा देखा जा सकता है। हालांकि, रोडवेज प्रशासन स्टेंड पर पानी से धुलाई कराता है और कचरा के लिए डस्टबिन लगाए हैं फिर लोग सफाई के ्रप्रति जागरूक नहीं है। यात्रियों को भी जागरूक होना चाहिए।

महिला शौचालय पर नजर डालें तो गंदगी से भरा है और दीवार भी नहीं है। जबकि, रोडवेज प्रशासन की ओर से महीनों से शौचालय की टूटी दीवार का निर्माण शीघ्र कराने की बात कही जा रही है। इस संबंध में उच्चाधिकारियों को पत्र लिख कर अवगत करा दिया है। भरतपुर डिपो के मुख्य प्रबंधक अवधेश शर्मा का कहना है कि सफाई का ठेका दे रखा है और हमने स्वयं भी कई बार बस स्टेंड परिसर में पानी से धुलाई व कचरा पात्र रखे हैं, लेकिन यात्रियों को भी जागरूक होना चाहिए। वहीं महिला शौचालय की दीवार का निर्माण शीघ्र कराएंगे।

pramod verma Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned