चार राज्यों में 180 किमी की मानव श्रृंखला से बनेगा विश्व रिकॉर्ड

-25 दिसंबर को महाराजा सूरजमल के बलिदान दिवस पर आयोजन

By: Meghshyam Parashar

Published: 14 Oct 2021, 04:32 PM IST

भरतपुर. महाराजा सूरजमल मानव श्रृंखला समिति की ओर से 25 दिसंबर को महाराजा सूरजमल के बलिदान दिवस पर गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड में नाम लिखवाने का प्रोजेक्ट बनाया गया है। इसमें भरतपुर से दिल्ली तक 180 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई जाएगी। चार राज्यों के जाट समाज के अलावा विभिन्न समाजों की ओर से इसमें सहयोग दिया जाएगा।
भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष एवं जिला परिषद् सदस्य कुंवर गोरधन सिंह रीठौटी ने बताया कि इस बार महाराजा सूरजमल के बलिदान दिवस पर कुछ अनूठा करने का निर्णय लिया गया था। इसके बारे में पूर्व कैबीनेट मंत्री व डीग-कुम्हेर विधायक विश्वेंद्र सिंह से भी विचार किया गया। वे खुद भी भरतपुर से दिल्ली तक गाड़ी से उस दिन जाएंगे। ताकि मानव श्रृंखला बना रहे वर्ग का उत्साहवर्धन किया जा सके। मानव श्रृंखला बनाने के लिए डीग, कुम्हेर, नंदगांव, कोसी, बरसाना, होडल, पलवल, दिल्ली में संपर्क किया जा रहा है। गांव व तहसीलों में कमेटियां गठित की जा रही हैं। संयोजक जेपी सिंह ने बताया कि ऐसा पहली बार है कि इतनी दूरी की मानव श्रृंखला बनाई जा रही है। इसमें गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड में नाम लिखवाने के लिए भी वहां के प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है।

180 किमी के बीच आएंगे सैकड़ों शहर व हजारों गांव

मानव श्रृंखला बनाने के पीछे उद्देश्य है कि महाराजा सूरजमल के बलिदान व लोहागढ़ के गौरव के बारे में जानकारी दी जाए। इस मानव श्रृंखला में सैकड़ों शहर व हजारों गांव आएंगे। हरेक गांव का नाम सूची में शामिल किया जा रहा है। ताकि रिकॉर्ड व सत्यापन को लेकर कोई परेशानी नहीं आए। वहां के ग्रामीणों का भी मानव श्रृंखला में सहयोग लिया जाएगा।

तीन दिन में डीएपी नहीं तो तालाबंदी करेंगे

किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से डीएपी को लेकर कोई समाधान नहीं किया जा रहा है। अगर तीन दिन के अंदर डीएपी की आपूर्ति डिमांड के अनुसार नहीं की गई तो उपखंड अधिकारी कार्यालय का घेराव कर तालाबंदी की जाएगी।

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned