निजी अस्पताल में युवक की मौत, परिजनों ने लगाया किडनी निकालने का आरोप

कामां कस्बे के कोसी चौराहे के समीप बुधवार देर रात एक अनियंत्रित ट्रक ने बाइक सवार में टक्कर मार दी। हादसे में कस्बा का अब्बास कॉलोनी निवासी युवक गंभीर रूप से घायल हो गया।

By: rohit sharma

Published: 10 Sep 2020, 11:59 PM IST

भरतपुर. कामां कस्बे के कोसी चौराहे के समीप बुधवार देर रात एक अनियंत्रित ट्रक ने बाइक सवार में टक्कर मार दी। हादसे में कस्बा का अब्बास कॉलोनी निवासी युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। परिजनों ने कस्बे के राजकीय अस्पताल में भर्ती कराया। हालत गंभीर होने पर उसे जिला अस्पताल रैफर कर दिया। परिजन उसे भरतपुर के निजी अस्पताल में ले गए, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। युवक का शव परिजनों को सौंपा तो हंगामा हो गया। परिजनों ने अस्पताल संचालक पर मृतक युवक की किडनी निकालने का आरोप लगाते हंगामा कर दिया। बाद में परिजन शव को कामां थाना लेकर पहुंच गए। पुलिस ने उसे अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया। गुरुवार को दिनभर आरोप-प्रत्यारोप के बाद दोपहर में मामला दर्ज होने पर मामला शांत हुआ।


सीओ प्रदीप कुमार यादव ने बताया कि की देर रात को कोसी चौराहे के समीप देर रात को कस्बा के अब्बास कॉलोनी निवासी तस्लीम पुत्र दीनू मेव बाइक से चौराहे स्थित दुकान पर आ रहा था। इसी दौरान केपी ड्रेन के मोड पर कोसी की ओर से आ रहे एक अनियंत्रित ट्रक ने बाइक में टक्कर मार दी। जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना के बाद ट्रक चालक वाहन लेकर मौके से भाग निकला। सूचना पर परिजनों ने घायल तस्लीम को स्थानीय राजकीय अस्पताल में भर्ती कराया। जहां से उसे रैफर कर दिया। परिजनों ने रात में उसे भरतपुर के विजय हॉस्पिटल में भर्ती कराया। यहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। जिस पर हंंगामा हो गया और परिजनों ने मृतक की किडनी निकालने का आरोप लगाया। बाद में परिजन शव को कामां ले गए और थाने पहुंच गए। सूचना पर पुलिस ने शव को मोर्चरी में रखवाया।

मेडिकल बोर्ड से कराया पोस्टमार्टम

परिजन व ग्रामीणों की नाराजगी देखते हुए तहसीलदार सत्यनारायण, नायब तहसीलदार बृजेश मीणा अस्पताल पहुंचे और परिजनों से समझाइश की। बाद में तीन सदस्यीय मेडिकल बोर्ड से मृतक का पोस्टमार्टम करा शव सौंप दिया। घटना को लेकर मृतक के पिता दीनू मेव की तहरीर पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। जिस पर मामला शांत हो पाया। सीओ प्रदीप यादव ने बताया कि दर्ज रिपोर्ट में बताया कि कामां कोसी मार्ग पर हादसा होने के बाद उसने अपने पुत्र को भरतपुर के विजय हॉस्पिटल में भर्ती कराया। भर्ती होने के बाद अस्पताल प्रशासन द्वारा अल्ट्रासाउंड व सीटी स्कैन के नाम पर उनसे 9900 जमा करा लिए गए। इसके उपरांत करीब 20 मिनट बाद अस्पताल प्रशासन ने परिजनों को सूचना दी कि उनके पुत्र की मौत हो गई है। शव परिजनों को परिजनों को सौंप दिया। आरोप है कि मृतक का शव लेते समय परिजनों को उसके पेट के निचले हिस्से में एक गहरे घाव का निशान दिखाई दिया जिसे देखकर परिजन भड़क गए और अस्पताल संचालकों पर मृतक युवक के शरीर से किडनी निकालने का आरोप लगा दिया, जिससे हंगामा हो गया।

rohit sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned