पंजाब में प्रवासी मजदूरों ने पुलिस को दौड़ाया, पथराव, जान बचाकर भागे

- बठिंडा में बन रहे एम्स में काम के लिए लाया था ठेकेदार

-दो महीने से नहीं मिले पैसे, जबरन करवाया जा रहा काम

-धरने पर बैठे मजदूरों को पुलिस के हड़काने पर आक्रोश

By: Bhanu Pratap

Published: 16 May 2020, 06:58 PM IST

बठिंडा। पकड़ो-पकड़ो। मारो-मारो। ये हमें घर जाने नहीं दे रहे। इन्हें छोड़ना मत। यह आवाजें आ रही थीं बठिंडा के एम्स से, जहां काम कर रहे मजदूर घर जाने की मांग को लेकर धरने पर बैठे हुए थे। मौके पर पहुंचे पुलिस कर्मी मजदूरों को धमकाकर उठाने की कोशिश करने लगे। इस पर प्रवासी मजदूर भड़क गए। मौके पर पहुंची थाना सदर की पुलिस पार्टी पर मजदूरों ने पथराव कर दिया। जब मजदूरों ने पुलिस पर पथराव शुरु किया तो चार पुलिसकर्मी अपने एक साथी को छोड़कर गाड़ी लेकर जान बचाते हुए भाग निकले। इस पूरे घटना क्रम की एक वीडियो भी वायरल हुई है।

नहीं मिले पैसे, भूखों मरने की नौबत

मजदूरों के घेराव में फंसे पुलिसकर्मी को मजदूरों ने कोई नुकसान नहीं पहुंचाया। उसे एक साइड में बैठाकर सब अपनी मांगों को लेकर गाड़ी के पीछे दौड़ने लगे। मजदूर रमेश, राकेश, राजेश्वर, अमन अतुल लोकेश ने बताया कि सौ के करीब लोगों को एम्स में काम के लिए एक प्राइवेट कंपनी उन्हें दो माह के लिए बठिंडा लेकर आई थी। इसी दौरान लॉकडाउन हो गया और वह एम्स में ही फंसे है। जब कंपनी के अधिकारियों से उन्होंने बात की तो उन्हें आश्वासन दिया था कि उनकी हाजिरी लगाकर पैसे दिए जाएंगे। हमारे भूखे मरने की नौबत आ चुकी है पर अभी तक ना तो उनकी हाजिरी लगी और न ही उन्हें कंपनी से कोई पैसा मिला, बल्कि ठेकेदार तो यहां आता भी नहीं है।

क्या है समस्या

मजदूरों ने बताया कि जो उनके पास मौजूद पैसे थे वह खर्च हो गए। कंपनी के अधिकारी कहते हैं तुम्हारा ठेकेदार पैसे देगा और वह उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रहे। मजदूरों ने कहा कि अब वह वापस अपने घर जाना चाहते है तो कंपनी मालिक कहते हैं कि काम पूरा करो फिर घर जाओ। जोर जबरदस्ती करने पर अधिकारी हर बार टाल रहे हैं। कहत हैं कि देखते हैं, घर भेज देते हैं। मजदूरों ने आरोप लगाया कि आज वह जब कंपनी के अधिकारी से बात करने के लिए एकत्र हुए तो एम्स में पहुंची पुलिस पार्टी ने उनसे जोर जबस्ती की और उन्हें लाठियां मारकर भगाने का प्रयास किया। इस पर उन्हें पुलिस का विरोध करना पड़ा।

पथराव नहीं हुआ, पुलिस वालों ने कहानी बनाईः एसएसपी

इस पूरे घटनाक्रम को लेकर एसएसपी नानक सिंह का कहना था कि मजदूरों ने पुलिस पर कोई पथराव नहीं किया, यह हमारे ही पुलिस वालों की बनाई हुई कहानी है। हां मजदूर थोड़ा एग्रेसिव हुए थे। एसएसपी ने बताया किसी भी मजदूर पर कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned