जिला में 254 मौत, 7 हजार से अधिक पॉजिटिव केस के बाद जिला 10 दिनों के लिए शटडाउन

आज मिले नए 364 मरीज, 6 ने दम तोड़ा

By: Abdul Salam

Published: 18 Sep 2020, 06:24 AM IST

भिलाई. जिला में कोरोना से अब तक 254 से अधिक की मौत हो चुकी है। वहीं जिला में कुल 7330 से अधिक पॉजिटिव मरीज मिले हैं। सितंबर माह में ही अब तक 168 को करोना अपना शिकार बना चुका है। तब जाकर जिला प्रशासन ने शटडाउन 20 से 30 सितंबर 2020 के लिए लगाया जा रहा है। इस बार जिला प्रशासन इस दौरान सख्ती बरतने की तैयारी में है। राशन से लेकर शराब दुकानें तक इस दौरान बंद रहेंगी। आज जिला में कोरोना के 364 मरीज मिले और 6 ने दम तोड़ा।

एक तिहाई कार्मिकों के साथ चलेगा काम
जिले में मौजूद भारत सरकार और राज्य सरकार के अधीन समस्त शासकीय, अद्र्धशासकीय, निजी कार्यालय एक तिहाई अधिकारी, कर्मचारी की उपस्थिति के साथ निर्धारित समयावधि में संचालित रहेंगे। जिले में समस्त शैक्षणिक संस्थान, कोचिंग संस्थान, ट्यूशन क्लासेस बंद रहेंगे। इस दौरान प्रवेश प्रक्रिया और ऑन लाइन क्लासेस जारी रहेंगे।

यह रहेगें पूरी तरह बंद
इस दौरान सिनेमा हॉल, स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, पर्यटन स्थल, क्लब, जिम, थिएटर, ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल, बंद रहेंगे। धार्मिक स्थलों में पूर्व में जारी निर्देशों के तहत पूजा अर्चना की जा सकेंगी। लेकिन धार्मिक, सांस्कृतिक, सामाजिक कार्यक्रम प्रतिबंधित रहेंगे। जिले के प्रतिबंधित शहरी क्षेत्रों में परिवहन सेवाएं, जिसमें टैक्सी, ऑटो रिक्शा, ई-रिक्शा भी बंद रहेंगे।

शराब दुकानें यहां रहेंगी बंद, होम डिलिवरी चालू
शराब की दुकानें दुर्ग, भिलाई, भिलाई-चरोदा, रिसाली, जामुल और कुम्हारी नगरीय निकाय क्षेत्र में बंद रहेंगे। होम डिलिवरी की अनुमति रहेगी। इसी तरह से सारे ढाबा पूरी तरह से बंद रहेंगे। होटल व रेस्टोरेंट से भी टेक अवे की सुविधा पूरी तरह से बंद रहेगी। केवल होम डिलवरी को निर्धारित समय के मुताबिक अनुमति रहेगी। होटलों में लॉजिंग और बोर्डिंग की सुविधा उपलब्ध रहेगी।

बंद का इन पर नहीं पड़ेगा असर
बंद का असर अंतर जिला व अंतर राज्यों की बस सेवाओं पर नहीं पड़ेगा। मास्क, सेनेटाइजर का परिवहन, दावाईयां, एटीएम वाहन, एलपीजी गैस सिलेंडर, व ऑक्सीजन सिलेंडर का परिवहन करने वाले वाहन अन्य जरूरी वाहनो को अनुमति रहेगी। स्वास्थ्य सेवओं में अस्पताल, मेडिकल कॉलेज, लायसेंस प्राप्त क्लीनिक निर्बाध रूप सेे संचालित रहेंगे। इसी तरह से पहले से विवाह के लिए जिन्होंने अनुमति लिया है, वह मान्य रहेगी। बिजली, पेयजल आपूर्ति, नगर पालिका सेवाएं, सफाई, सिवरेज, कचरे का डिस्पोजल, जेल, अग्निशमन सेवाएं, एटीएम, प्रिंट व इलेक्ट्रानिक मीडिया, टेलीकॉम, इंटरनेट सेवाएं, आईटी, पोस्टल सेवाएं निर्बाध रूप से संचालित रहेंगी।

संगठनों की ओर से उठी मांग
दुर्ग जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन ने 20 से 30 सितंबर तक लॉकडाउन का निर्णय लिया है। इस संबंध में जनप्रतिनिधियों, सामाजिक संगठनों, व्यापारिक संगठनों की ओर से भी आग्रह किया गया था। स्थितियों पर विचार कर जिला प्रशासन ने लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है। कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने लोगों से आह्वान किया है कि लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन करें। इस समय असावधानी बरती गई तो कोरोना संक्रमण की स्थिति को नियंत्रित करने में गंभीर परेशानी हो सकती है।

चेन को तोडऩा है उद्देश्य
कलेक्टर ने कहा है कि लॉकडाउन का उद्देश्य कोरोना संक्रमण को रोकना है। इस समय नागरिकों की भी बड़ी जिम्मेदारी है कि वे संयम का परिचय देते हुए लॉकडाउन को सफल बनाएं, ताकि जिले को संक्रमण से मुक्त करने की बड़ी लड़ाई में सफलता मिल सके। कोरोना वायरस के चेन को तोडऩे के उद्देश्य से लॉकडाउन लगाया जाता है। इसकी सफलता लोगों को अधिक से अधिक समय तक घरों में रखना होता है। दूसरे जिला में जब मरीज सैकड़ों थे तब ही वे लॉकडाउन लगा दिए थे। जिसकी वजह से दुर्ग से वे काफी इस मामले में पीछे है। मुंगेली में मामले हजार में पहुंचे इसके पहले ही लॉकडाउन का फैसला किया गया।

जिला प्रशासन ने समय किया निर्धारित :-
- दूध बांटने वालों के लिए सुबह 6 से 9.30 बजे और शाम 5 से 7 बजे तक अनुमति रहेगी।
- सब्जी, मटन, मछली व फल सुबह 5 से 10 बजे तक,
- डेयरी केवल दूध व्यसाय सुबह 6 से 8 और शाम 5 से 7 बजे तक,
- रेस्टोरेंट और होटल केवल होम डिलीवरी सुबह 10 से रात 10 बजे तक,
- दवा दुकानें, मेडिकल स्टोर्स, चश्मा दुकानें समय की पाबंदी से छूट रहेगी,
- डीजल और पेट्रोल पंप, एलपीजी व सीएनजी शाम 3 बजे तक,
- पेपर वितरण सुबह 6 से 9 बजे तक अनुमति,
- प्रतिबंधित क्षेत्र में साप्ताहिक हाट बाजार बंद रहेंगे,

COVID-19
Show More
Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned