इन्हें है पर्यावरण की चिंता.. इसलिए एनसीसी कैडेट्स ने लिया यह निर्णय

प्रकृति को बचाने 37 छत्तीसगढ़ एनसीसी बटालियन ने सोमवारको पांच कॉलेजों में मेगा प्रदूषण जागरुकता पखवाड़े की शुरुआत की। इस पखवाड़े के तहत एनसीसी कैडेट्स खुद प्रदूषण को कम करने काप्रयास करेंगे और फिर लोगों की बीच जाकर उन्हें भी इस अभियान से जागरूक करेंगे।

By: Komal Purohit

Published: 01 Jul 2019, 09:46 PM IST

भिलाई . ग्लोबल वार्मिग और इस साल शहर में पड़ी भीषण गर्मी के बाद अब लोग जलवायु परिवर्तन को महूसस करने लगे हैं। लोगों को समझ आ रहा है कि जब तक हम शुरूआत नहीं करेंगे, दूसरों के बीच जागरुकता नहीं ला सकते। प्रकृति को बचाने 37 छत्तीसगढ़ एनसीसी बटालियन ने सोमवारको पांच कॉलेजों में मेगा प्रदूषण जागरुकता पखवाड़े की शुरुआत की। इस पखवाड़े के तहत एनसीसी कैडेट्स खुद प्रदूषण को कम करने काप्रयास करेंगे और फिर लोगों की बीच जाकर उन्हें भी इस अभियान से जागरूक करेंगे।
रोकना हमारी जिम्मेदारी-
37 छग बटालियन एनसीसी दुर्ग ने अपने पांच महाविद्यालय में मेगा प्रदूषण जागरूकता पखवाडा शुरू किया। बटालियन के कमान अधिकारी कर्नल राजेश सेठी ने कल्याण कॉलेज से इसकी शुरुआत की। उन्होंने कैडेट्स से कहा कि जलवायु में हो रहा बदलाव हमारे पक्ष में नही है और इस परिवर्तन को रोकना ही हमारी जवाबदेही है। उन्होंने कहा कि लोगों के बीच जाने से पहले कैडेट स्वंय अपने शरीर व स्वभाव में परिवर्तन का आंकलन करें, उसके बाद ही वे लोगो के पास जाए तो ज्यादा व्यवहारिक व प्रभावी होगा। इस बीच उन्होंने कैडेटो से प्रदूषण से संबंधित जानकारी दी। इसी प्रकार शासकीय पालीटेक्निक दुर्ग में कर्नल सेठी प्रदूषण के प्रकार बताते हुए इसे तकनीकी रूप से लोगो को जागरूक करने को कहा।

पांच कॉलेज में अभियान
कल्याण कॉलेज के एनसीसी अधिकारी ले. डॉ. हरीश कुमार कश्यप ने बताया कि मेगा प्रदूषण पखवाड़ा कल्याण कॉलेज भिलाई, पॉलिटेक्निक कॉलेज दुर्ग, औघोगिक प्रशिक्षण संस्था पावरहाउस , श्री शंकराचार्य महाविधालय जुनवानी व सेंट थामस महाविधालय रूऑबांधा में शुरू किया गया है। सभी संस्थाओं में प्रदूषण को ख़त्म कर शुद्ध जलवायु उपलब्ध करवाने के लिए स्वयं के साथ परिवार, मित्र व समाज को जागरूक करने शपथ दिलाई गयी। एनसीसी अधिकारी ले0 डॉ0 हरीश कुमार कश्यप, सीटी भुबनेश्वर, सीटी थॉमस, ले डॉ कृष्णा मंडल , ले डॉ लक्ष्मण व डॉ सुरेखा जवादे ने अपनी अपनी संस्थाओं में इस कार्यक्रम की शुरुआत कराई। इस अवसर पर औघोगिक प्रशिक्षण केन्द्र भिलाई में पौधरोपण भी किया गया। इस कार्यक्रम में सभी संस्था से कुल 348 कैडेट्स अपनी भागीदारी निभाएंगे।

Komal Purohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned