कोविड-19 महामारी के दौरान चले गए 7 स्वास्थ्य कर्मी, अब तक नहीं मिली बीमा की रकम

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज का 50 लाख पहुंचा खाता में, पीडि़त परिवार ने सीएमएचओ का जताया आभार.

By: Abdul Salam

Updated: 09 Jun 2021, 10:52 PM IST

भिलाई. जिला में कोविड-19 महामारी के दौरान प्रवासियों का सैंपल लेने के दौरान बड़ी संख्या में स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित हुए। इसी तरह से कोविड केयर सेंटर और आइसोलेशन सेंटर में संक्रमितों की सेवा करते हुए भी बड़ी संख्या में स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित हुए। इसमें से कुछ की तबीयत बिगड़ी तो संभली नहीं। वे परिवार का साथ बीच राह में छोड़कर चले गए। मुखिया के चले जाने से पीडि़त परिवार पूरी तरह से टूट गया। आश्रितों ने इसके बाद अनुकंपा नियुक्ति और प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत पचास लाख बीमा की रकम के लिए आवेदन दिया। सालभर होने को आया अब तक बीमा की रकम नहीं मिली है। जिससे परिवार निराश था। वहीं अब एक परिवार के खाता में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत बीमा की रकम पहुंचने से अन्य पीडि़त परिवार की आस भी जागी है।

एक के खाता में पहुंची बीमा की रकम
कोरोना महामारी के दौरान अपने जान की परवाह किए बिना लोगों की सेवा में लगे रहे स्वास्थ्य कर्मियों में से कुछ संक्रमित हुए और इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इसमें से ही एक विजय कुमार यादव भी थे, जो संक्रमित होने के बाद 25 अगस्त 2020 को दम तोड़ दिए। वे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, निकुम में ग्रेड-1 में पदस्थ थे। केंद्र सरकार ने इस पीडि़त परिवार के खाता में 50 लाख रुपए बीमा का डाल दिया है। इस परिवार के एक आश्रित सदस्य देवेंद्र कुमार यादव को अनुकंपा नियुक्ति भी मिली है। इस पर पीडि़त परिवार ने व्हीएस राव, कार्यकारी प्रांताध्यक्ष, स्वा. व बहु कर्मचारी संघ ने चीफ मेडिकल हेल्थ ऑफिसर डॉक्टर गंभीर सिंह ठाकुर से मिलकर अनुकंपा नियुक्ति और बीमा की रकम दिलवाने में अहम भूमिका निभाने के लिए आभार जताया है।

अनुकंपा और बीमा के लिए तय हो नोडल
कोरोना महामारी के दौरान स्वास्थ्य विभाग में ड्यूटी करते जिन कर्मियों ने संक्रमित होकर या लक्ष्ण आने के बाद अस्पताल में दाखिल होने से पहले ही दम तोड़ दिए। वैसे स्वास्थ्य कर्मियों के परिवार को परेशानी न हो इसके लिए जिला प्रशासन की ओर से एक नोडल अधिकार तय किया जाना था। वह जो भी जरूरी दस्तावेज और आवेदन लेकर परिवार की मदद करता। शासन के नियम की अधिक जानकारी पीडि़त परिवार के सदस्य को नहीं होती है, इसके लिए ठोस पहल करने की जरूरत थे। ऐसा करने से प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज का पचास लाख रुपए की रकम पीडि़त परिवार के खाता में पहुंच जाती।

आश्रित को मिली अनुकंपा नियुक्ति
राज्य सरकार ने अनुकंपा नियुक्ति को लेकर रास्ता साफ कर दिया है। जिसके बाद कोविड-19 महामारी के दौरान प्रवासी मजदूरों के नमूना (सेंपल) लेने का काम सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, ग्राम झीट के दयाराम साहू (32 साल) को दिया गया था। ड्यूटी कर वे 16 मई 2020 को घर लौटे। दरमियानी रात में पत्नी से कहा सांस लेने में तकलीफ हो रही है और अलसुबह करीब 3 बजे उन्होंने दम तोड़ दिया था। उनकी पत्नी अनामिका साहू को अनुकंपा नियुक्ति मिल गई है। उन्होंने बुधवार को ड्यूटी ज्वाइन किया।

जी शंकर राव के परिवार ने किया आवेदन
प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत 50 लाख रुपए बीमा का दिया जाना है, जिसके लिए उप स्वास्थ्य केंद्र, जंजगिरी के स्वास्थ्य कार्यकर्ता जी शंकर राव के आश्रित ने आवेदन किया है। 12 अप्रैल 2021 को उनकी मौत हो गई थी। उन्होंने सोशल मीडिया में बताया था कि किस तरह से स्वास्थ्य कर्मियों के लिए कोरोना जांच और इलाज की अलग से व्यवस्था नहीं होने से दिक्कत पेश आती है।

भरत और दुलारी बाई के आश्रित को भी मिले बीमा की रकम
पीएम गरीब कल्याण पैकेज के तहत कोरोना महामारी के दौरान काम करते हुए संक्रमित होने वाले और मौत के आगोश में चले गए कर्मियों के आश्रित को भी यह रकम मिलनी है। कोविड-19 महामारी के दौरान जिला अस्पताल में कार्यरत वार्ड ब्वाय भरत धेवरिया की भी मौत हुई। इसी तरह से जिला अस्पताल की चपरासी दुलारी बाई भी दुनिया से चले गए। इनके आश्रितों को भी बीमा की रकम दी जानी है।

स्वास्थ्य कर्मी का परिवार हो रहा परेशान
जिला अस्पताल, दुर्ग में इलाज के दौरान लच्छु राम जोशी, 54 साल, सेक्टर सुपरवाइजर, स्वास्थ्य विभाग, कलंकपुर, गुण्डरदेही, ब्लाक बालोद की 28 अप्रैल 2021 को मौत हो गई। पीडि़त परिवार अब जिला अस्पताल में मरीज के इलाज से संबंधित दस्तावेज के लिए चक्कर काट रहा है। बीमा व अनुकंपा नियुक्ति के लिए पूरा दस्तावेज मांगा जा रहा है। अस्पताल में मृतक की फाइल नहीं मिल रही है।

COVID-19 Covid-19 in india
Show More
Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned