दुर्ग जिले में 9 दिन का टोटल लॉकडाउन, आम लोगों को नहीं मिलेगा पेट्रोल, जानिए क्या खुलेगा, क्या रहेगा बंद

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच आखिरकर दुर्ग जिले में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है। कलेक्टर ने शुक्रवार को आदेश जारी करते हुए कहा कि जिले में 6 से 14 अप्रेल तक संपूर्ण लॉकडाउन रहेगा। (coronavirus lockdown in Durg district)

By: Dakshi Sahu

Published: 03 Apr 2021, 10:31 AM IST

दुर्ग. Covid-19 के बढ़ते संक्रमण के बीच आखिरकर दुर्ग जिले में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है। कलेक्टर ने शुक्रवार को आदेश जारी करते हुए कहा कि जिले में 6 से 14 अप्रेल तक संपूर्ण लॉकडाउन रहेगा। इस दौरान आम लोगों को जहां घर से निकलने की मनाही होगी वहीं टीकाकरण केंद्र में कोविड वैक्सीनेशन जारी रहेगा। इसमें लॉकडाउन का असर नहीं होगा। कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों से नजदीकी टीकाकरण केंद्र में जाकर टीका लगवाने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कहा है कि कोरोना के लक्षण उभरते ही टेस्ट कराएं। साथ ही पॉजिटिव आने पर चिकित्सक की सलाह पर कार्य करें। जिले में संक्रमण के तेज प्रसार को नियंत्रित करने यह बहुत जरूरी है, कि लॉकडाउन के माध्यम से कोरोना की गतिशीलता को नियंत्रित किया जाए। इसके लिए सभी का सहयोग बेहद जरुरी है।

जिले की सीमाएं सील, प्रवेश के लिए ई-पास जरूरी
लॉक डाउन के दौरान जिले की सभी सीमाएं सील कर दी जाएगी। इस दौरान केवल ई-पासधारी वाहनों को ही आवाजाही की अनुमति दी जाएगी। जिले में प्रवेश के लिए आवेदन के आधार पर ई-पास जारी किया जाएगा। जिले में नहीं रूकने वाले इससे अलग रहेंगे।

सामान्य लोगों को नहीं मिलेगा पेट्रोल
लॉकडाउन के दौरान सामान्य लोगों को पेट्रोल-डीजल नहीं दिया जाएगा। तय समय में केवल शासकीय कार्य में लगे वाहन, अस्पताल, मेडिकल इमरजेंसी वाहन एम्बुलेंस, ई-पासधारी वाहन, एडमिट कार्ड अथवा कॉल लेटर दिखाने पर विद्यार्थियों, परिचय पत्र दिखाने पर मीडिया कर्मियों, वाहनों, हॉकर, दुग्ध वाहनों को ही पेट्रोल डीजल दिया जा सकेगा।

सरकारी दफ्तरों में नहीं मिलेगा प्रवेश
लॉकडाउन के दौरान सभी सरकारी कार्यालयों में आम लोगों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। केवल संबंधित कार्यालय के अधिकारी कर्मचारी कार्यालयों में आवाजाही कर सकेंगे। कानून व्यवस्था, स्वास्थ्य सेवा, बिजली सप्लाई, सफाई, सिवरेज से जुड़े कर्मियों पर यह प्रतिबंध लागू नहीं होगा। कोविड कर्मचारियों को भी इस प्रतिबंध से अलग रखा गया है।

वाहन होंगे जब्त, दुकानें होंगी सील
लॉकडाउन के दौरान आपात स्थिति में चार पहिया वाहनों में ड्रायवर सहित तीन और दोपहिया वाहनों में केवल दो व्यक्तियों को अनुमति दी जाएगी। लॉकडाउन अथवा निर्देशों का उल्लंघन करने पर वाहनों को कम से कम 15 दिन के लिए जब्त कर लिया जाएगा। इसी तरह व्यापारिक प्रतिष्ठानों में निर्देशों के उल्लंघन पर 15 दिन के लिए तालाबंदी की जाएगी।

दावा- स्थिति कठिन, संयम से मिलेगी मुक्ति
कलेक्टर ने कहा है कि जिले के समक्ष यह कठिन परिस्थिति है। यदि इस समय पूरे संयम और दृढ़ता से इस परिस्थिति का मुकाबला किया तो निश्चय ही हम अपने परिवारजनों और प्रियजनों को इस विपदा से सुरक्षित रख सकेंगे। उन्होंने कहा कि दुर्ग जिले के नागरिकों ने हमेशा संकट का सामना हिम्मत और धैर्य से किया है। इस बार भी अपने संकल्प से हम इससे विजय प्राप्त करेंगे।

केवल इन्हें रहेगी लॉकडाउन में आवाजाही की छूट
0 जिले की सभी सीमाएं सील रहेगी, केवल ई-पास से मिलेगा प्रवेश।
0 घर-घर जाकर दूध बांटने सुबह 6 से 7 और शाम 6 से 7 बजे।
0 न्यूज पेपर हॉकर सुबह 6 से 8 बजे तक।
0 बैंक व पोस्ट आफिस सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक।
0 दवा दुकानें, मेडिकल स्टोर्स, चश्मा दुकानें, डीजल, पेट्रोल पम्प, एलपीजी, सीएनजी।
0 मास्क, सेनिटाइजर, एटीएम वाहन व अन्य जरूरी सेवाओं के परिवहन में लगे वाहन।
0 बिजली, पेयजल आपूर्ति और नगर पालिका सेवाएं।
0 टेलीकाम, इंटरनेट, आईटी आधारित सेवाएं, मोबाइल रिचार्ज व सर्विसेज की दुकानें।
इन्हें भी दी जाएगी छूट, लेकिन शर्तों का पालन जरूरी
0 पेट्रोल, डीजल, एलपीजी, सीएनजी गैस परिवहन व भंडारण।
0 खाद्य, दवा, चिकित्सा उपकरण, सभी आवश्यक सेवा, ई-कामर्स सप्लाई, सुरक्षा एजेंसियां।
0 सभी औद्योगिक संस्थान व माइनिंग।
0 उद्योगों में न्यूनतम अनिवार्य आवश्यकता तक कर्मचारी।
0 धान परिवहन, उद्योग व निर्माण कार्य।
0 बोर्ड व प्रतियोगी परीक्षाओं का संचालन।
0 पशु चारा, खाद्य सप्लाई से संबंधित परिवहन।
0 विवाह, अंत्येष्ठि, तेरहवीं के लिए पूर्व अनुमति।
0 प्रवेश प्रक्रिया व ऑन लाइन क्लास की अनुमति।

शराब दुकानें भी रहेंगी नौ दिन बंद
जिला प्रशासन के लॉकडाउन के दौरान जिले की सभी शराब दुकानें भी 6 से 14 अप्रैल तक बंद रखी जाएगी। शराब दुकानों में खरीदारों की भीड़ और गाइड लाइन के उल्लंघन संबंधी शिकायतों को देखते हुए इस संबंध में निर्णय किया गया है। कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका को देखते हुए शराब दुकानों को भी बंद करने की मांग उठ रही थी। लॉकडाउन के दिशा-निर्देशों के साथ इस संबंध में भी निर्देश जारी किया गया है।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned