स्कूल संचालक और अकाउंटेंट हत्याकांड के दो आरोपी छात्र में एक नाबालिग, मात्र 20 हजार के लिए वारदात को दिया अंजाम

10 वीं परीक्षा में पास कराने के नाम पर 20 हजार का तगादा करना स्कूल व स्टेशनरी संचालक विजयनंद वानखेडे और एकाउंटेंट आनंद बीबे को भारी पड़ा। हत्यारों ने पैसा देने के बहाने विनायकपुर गांव में बुलाया। वहां योजनाबद्ध तरीके से दोनों को बारी- बारी कर मौैत के घाट उतार दिया।

भिलाई@Patrika. 10 वीं परीक्षा में पास कराने के नाम पर 20 हजार का तगादा करना स्कूल व स्टेशनरी संचालक विजयनंद वानखेडे और एकाउंटेंट आनंद बीबे को भारी पड़ा। हत्यारों ने पैसा देने के बहाने विनायकपुर गांव में बुलाया। वहां योजनाबद्ध तरीके से दोनों को बारी- बारी कर मौैत के घाट उतार दिया। डबल मर्डर से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया था। हालांकि 24 घंटे के भीतर हत्यारे ग्राम तवेरा के पुरेंद्र साहू ( 18 वर्ष) और उसका एक नाबालिग साथी पकड़ लिया गया।

नाबालिग दोस्त के साथ मारने की योजना बनाई

एसएसपी अजय यादव ने पत्रवार्ता में मामले का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि श्रेया पब्लिक स्कूल कोहका के संचालक विजयनंद वानखेड़े पहले गांव में प्रबोध प्रकाशन की किताबें और यूनिफार्म सप्लाई करता था। इसी बीच ग्राम तवेरा के पुरेंद्र साहू से उसकी मुलाकात हुई। पुरेंद्र गांधी विद्यालय रनचिरई में पढ़ाई करता था। 10वीं में तीन बार फेल हो चुका था। विजयनंदा ने पत्राचार से परीक्षा दिलाने पर पास करा देने का भरोसा दिलाया। 20 हजार रुपए पर सौदा तय हो गया। नतीजे आने के बाद विजयनंद और पुरेंद्र से पैसे मांगने गांव गया। पुरेंद्र ने यह कहकर इनकार कर दिया कि मैं पूरक आ गया था। बाद में अपनी मेहनत से पास हुआ हंू। इस दौरान विजयनंद ने पुरेंद्र को उसके ही घर में काफी भला -बुरा कहा। यहां तक कि उसके दादा को भी कुछ अनैतिक शब्द बोल दिया। यह बात पुरेंद्र को नागवर गुजरी। उसने अपने नाबालिग दोस्त के साथ विजयनंद को मारने की योजना बनाई।

Read More : स्कूल संचालक और अकाउंटेंट के अंधेकत्ल के दूसरे दिन दूसरा शव बरामद, लूट की नियत से दो युवकों ने की थी हत्या

स्कूल संचालक और अकाउंटेंट हत्याकांड के दो आरोपी छात्र में एक नाबालिग,  मात्र 20 हजार के लिए वारदात को दिया अंजाम

ऐसे दिया वारदाता को अंजाम
आरोपी पुरेन्द्र अपने दोस्त के साथ बस से गुंडरदेही से अंडा पहुंचा। वहांं विजय और आनंद मिले। आनंद को वहीं रोक दिया। पैसा देने के बहाने विजयनंद को रनचिरई खार की ओर ले गया। वहां पुरेन्द्र और नाबालिग मिलकर हैमर से विजय के सिर पर वार कर दिया। इसके बाद पुरेन्द्र और नाबालिग दोनों स्कूटर से आनंद के पास विनायकपुर पहुंच गए। वहां आनंद को बोला कि विजय अपने साथी के साथ पैसे लेकर चला गया। बचा हुआ पैसा देने के लिए बोला है। फिर आनंद को स्कूटर में बैठाकर विनायकपुर के खेत में ले गया और उसकी भी हत्या कर दी। पूछताछ में पुलिस को सुराग मिल गया कि दोनों युवक विजयनंद और आनंद के साथ देखे गए थे। इसके बाद हिरासत में लेकर पूछताछ की।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Show More
Satya Narayan Shukla
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned