scriptA Village With 25 Cars, 45 ACs, 30 German Shepherd Dogs | 90 घरवाले इस गांव में 25 कारें, 45 एसी, 30 जर्मन शेफर्ड डॉग | Patrika News

90 घरवाले इस गांव में 25 कारें, 45 एसी, 30 जर्मन शेफर्ड डॉग

खेती के बूते आर्थिक रूप से समृद्ध गांव जाताघर्रा, युवाओं ने संभाली खेती की बागडोर, उन्नत तकनीक से लाई आर्थिक समृद्धि

भिलाई

Published: February 24, 2022 10:40:44 am

निर्मल साहू /भिलाई. दुर्ग जिला मुख्यालय से लगभग 49 किमी दूर ग्राम जाताघरा (धमधा), यूं तो यहां पहुंचने से पहले संकरी सड़क से धूल फांकते हुए जाना पड़ता है। गांव में पहुंचकर आपको जाताघर्रा निपट देहात भी लगेगा, मगर लोगों की समृद्धि और लाइफ स्टाइल देखकर आप दंग रह जाएंगे। वह भी सिर्फ खेती के भरोसे। कई किसानों का खेती कारोबार सालाना करोड़ तक पहुंच गया है।
90-100 परिवार या यूं कहें बमुश्किल 700 आबादी वाले इस गांव के हर तीसरे-चौथे घर में आज की जरूरत की वह सभी अत्याधुनिक सुविधाएं हैं जो शहर के नौकरीपेशा व कारोबार वाले बड़े घरों में होती है। मसलन इस छोटे से गांव में 25 कारें हैं। 45 घरों में एसी लगे हैं। बहुत से घरों में मॉड्यूलर किचन है। फ्रिज, कूलर वाशिंग मशीन, मिक्सर ग्राइंडर जैसे इलेक्ट्रानिक उपकरण भी यहां के ज्यादातर घरों में मिल जाएंगे। हर किसी के पास महंगे स्मार्टफोन है। बिजली बचत के लिए लोग सोलर एनर्जी का इस्तेमाल करते हैं। लगभग 30 जर्मन शेफर्ड व लेब्राडोर (डॉग) हैं। 70 ट्रैक्टर व कृषि से संबंधित अन्य मशीनरी हैं।
खेती के भरोसे आई गांव में समृद्धि
गांव में यह समृद्धि खेती से आई है। यूं तो गांव में खेती का कुल रकबा लगभग 1400 एकड़ है। इनमें ज्यादातर खेती पटेल परिवारों के पास ही है। 50 से लेकर 100 एकड़ तक। जिन लोगों के पास दो-चार एकड़ या बिलकुल भी खेत नहीं है, वे दूसरों से रेग में जमीन लेकर खेती करते हैं। ज्यादातर लोग टमाटर, केला, पपीता जैसी नगदी फसलें उगाते हैं। टमाटर की खेती ने यहां के लोगों को लाल कर दिया है। इस साल कई किसान लखपति-करोड़पति बन गए हैं। यहां लोग सिर्फ खाने के लिए 50 एकड़ में धान उगाते हैं। 700 एकड़ में सब्जी और बाकी में सोयाबीन व चने की खेती करते हैं।
यहां कर्म ही पूजा है
यहां के सभ्रांत कृषक जालम सिंह पटेल बताते हैं कि उनका गांव जाताघर्रा हर मामले में छत्तीसगढ़ के अन्य गांवों से अलग है। यहां लोग कर्म को ही पूजा मानते हैं। साल के 365 दिन में कभी खाली नहीं बैठते। छत्तीसगढ़ के गांवों में छत्तीसों त्योहार मनाए जाते हैं, लेकिन यहां त्योहार का मतलब सिर्फ होली और दिवाली है। बाकी दिन काम कभी बंद नहीं होता। यह उनके गांव की विरासत है जिसे आज की पीढ़ी भी बखूबी संभाल रहे हैं।
थकान मिटाने खोलते हैं बैडमिंटन, वालीबॉल
किसान रामावतार वर्मा बताते हैं कि यहां के ज्यादातर लोग दिनभर खेत में काम करते हैं। जब शाम को थक हारकर घर लौटते हैं तो युवा बैडमिंटन, वालीबॉल जैसे खेल से अपनी थकान मिटाते हैं और बड़े-बुजुर्ग देखकर आंनद लेते रहते हैं। ताश, पासा जैसे खेल की लत यहां के लोगों को नहीं है, जो हार-जीत की दांव लगाने की ओर धकेल देते हैं।
आपस में ही सुलह कर निपटा लेते हैं विवाद
ग्राम प्रमुख तुलसीराम वर्मा बताते हैं कि यह गांव सहकारिता का भी एक अच्छा उदाहरण है। जिन लोगों के पास खेत नहीं है या कम रकबा है, उन्हें बड़े लोग अपनी जमीन रेग पर देते हैं। इससे सभी की कमाई हो जाती है। पूरे गांव का जीवन स्तर उठने का यह एक बड़ा कारण है। यूं तो गांव में विवाद नहीं होता, अगर कभी किसी से मनमुटाव हो भी जाए तो गांव के सियान लोग ही आपस में सुलह करा देते हैं। पुलिस थाना तक जाने की नौबत नहीं आती।
बच्चों को दे रहे अच्छी शिक्षा
भले ही यहां के पुराने लोग कम पढ़े-लिखे हैं, लेकिन आज अपने बच्चों को उच्च शिक्षा और उनकी रुचि की विधा में अवसर दे रहे हैं। जैसा कि दीप पटेल राजधानी रायपुर में एमबीए करके लौटे हैं। विवेक ज्योति पटेल ने दुर्ग में रहकर कॉन्वेंट स्कूल में अपनी पढ़ाई की। नीलकमल की रुचि खेल में है। वे इन दिनों नायडू क्रिकेट एकेडमी भिलाई में प्रशिक्षण ले रहे हैं। पढ़ाई में होनहार आजाद वर्मा साजा में मैथ्स और फिजिक्स का कोचिंग सेंटर चला रहे हैं।
सिर्फ दो लोग हैं नौकरी में, बाकी
सब किसानी ही करते हैं
लोधी बहुल वाले इस गांव में गोंड़, राउत, साहू और इक्के-दुक्के यादव, मेहर व सतनामी है। लगभग 80 फीसदी मकान पक्के हैं। इस गांव में सिर्फ दो लोग ही सरकारी नौकरी में हैं। संतोष मरकाम प्रधान पाठक हैं और संदीप वर्मा आरईएस में इंजीनियर। बाकी एक का वकील का पेशा है और धनेश वर्मा ठेकेदार। बाकी पूरा गांव किसानों का है।
90 घरवाले इस गांव में 25 कारें, 45 एसी, 30 जर्मन शेफर्ड डॉग
90 घरवाले इस गांव में 25 कारें, 45 एसी, 30 जर्मन शेफर्ड डॉग

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

IPL 2022 MI vs SRH Live Updates : रोमांचक मुकाबले में हैदराबाद ने मुंबई को 3 रनों से हरायामुस्लिम पक्षकार क्यों चाहते हैं 1991 एक्ट को लागू कराना, क्या कनेक्शन है काशी की ज्ञानवापी मस्जिद और शिवलिंग...जम्मू कश्मीर के बारामूला में आतंकवादियों ने शराब की दुकान पर फेंका ग्रेनेड,3 घायल, 1 की मौतमॉब लिंचिंग : भीड़ ने युवक को पुलिस के सामने पीट पीटकर मार डाला, दूसरी पत्नी से मिलने पहुंचा थादिल्ली के अशोक विहार के बैंक्वेट हॉल में लगी आग, 10 दमकल मौके पर मौजूदभारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगाकर्नाटक के राज्यपाल ने धर्मांतरण विरोधी विधेयक को दी मंजूरी, इस कानून को लागू करने वाला 9वां राज्य बनाSwayamvar Mika Di Vohti : सिंगर मीका का जोधपुर में हो रहा स्वयंवर, भाई दिलर मेहंदी व कॉमेडियन कपिल शर्मा सहित कई सितारे आए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.