लॉकडाउन में कॉलेज स्टूडेंट्स लिए AICTE ने लॉन्च किया पोर्टल, देश की नामी कंपनियां फ्री में बढ़ाएंगी स्किल्स

Coronavirus lockdown: केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने एनईएटी नाम से पोर्टल बनाया है, जिसमें आपको लॉगइन करना होगा, उसके बाद पोर्टल से ही पढ़ाई शुरू।

By: Dakshi Sahu

Published: 13 Apr 2021, 12:54 PM IST

भिलाई . Covid-19 वायरस की वजह से देश के कई राज्य एक बार फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे है। स्कूल और कॉलेजों को बंद कर दिया गया है। वहीं कॉलेजों के विद्यार्थियों के पास भी इन दिनों करने को कुछ खास नहीं। इसी दिक्कत को समझते हुए अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ( AICTE) ने देश के नामी ऑनलाइन लर्निंग पोर्टल को आपके लिए फ्री कर दिया है। पहले तक आपको इन पोर्टल से कुछ भी सीखने के लिए फीस चुकानी होती थी, लेकिन अब यह पोर्टल नि:शुल्क सेवा देंगे। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने एनईएटी नाम से पोर्टल बनाया है, जिसमें आपको लॉगइन करना होगा, उसके बाद पोर्टल से ही पढ़ाई शुरू। छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय (CSVTU Bhilai) ने भी इसे विद्यार्थियों के लिए फायदेमंद बताया है। विवि ने कहा है कि अभी प्रदेश में लॉकडाउन की स्थिति को देखते हुए विद्यार्थी घरों में हैं। ऐसे में समय का उपयोग करते हुए इस पोर्टल से बहुत कुछ सीखा जा सकता है। साथ ही सभी कॉलेजों को कहा है कि मैसेज के जरिए अपने विद्यार्थियों को इस बारे में बताएं।

विद्यार्थियों को क्या मिलेगी सुविधाएं
MHRD और एआईसीटीई ने एनईटीए में उन चुनिंदा निजी कंपनियों को इसमें रखा है, जो इंजीनियरिंग और तमाम सरीखे कोर्स के लिए बेहतर कंटेंट उपलब्ध कराते हैं। इसके साथ साथ इसमें स्किल को अपग्रेड करने के लिए भी तमाम कोर्स शामिल हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के नए कोर्स से लेकर हर विवि के कोर्स सिलेबस के हिसाब से कंटेंट उपलब्ध कराया है। यह कोर्स पूरी तरह से नि:शुल्क होगा। इसके बाद विद्यार्थी चाहें तो इसमें रहे, या फिर पोर्टल पर बिना शुल्क दिए इसे छोड़ भी सकेंगे। उनको बाद में फीस देने की जबरदस्ती नहीं होगी।

पहले लग रही थी फीस, बाद में फ्री
एनईटीए के पोर्टल पर एआईसीटीई ने नॉमिनल फीस ही रखी है, लेकिन कोरोना वायरस की वजह से विद्यार्थियों को घरों में रोकने के लिए मकसद से इसे नि:शुल्क कर दिया गया। पोर्टल पर सरकारी कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए सीटें रिजर्व हैं। जैसे-जैसे पोर्टल पर निजी कॉलेजों या अन्य छात्र फीस देकर पंजीकृत होते हैं, वैसे ही यह कंपनियां सरकारी कॉलेजों को मुफ्त में सुविधा देने लगती है। यह पोर्टल इसी तरह से लॉन्च किया गया है। इसका मतलब ये है कि जो छात्र फीस चुकाने में सक्षम है, उनके जरिए ऐसे छात्रों को भी सुविधा मिलती है, जो फीस नहीं दे सकते। प्रदेश के सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों में फिलहाल इसकी 25-25 सीटें नि:शुल्क दी गई हैं। खास बात यह है कि इस पोर्टल पर आप फटाफट अंग्रेजी भी बोलना सीख सकते हैं। एमएचआरडी ने एनईएटी के जरिए ही 'इंग्लिश बोलोÓ प्रोग्राम भी लॉन्च किया है।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned