मोर मकान मोर जमीन, घर तोड़ दिया पर नहीं शुरू किया काम, अधिकारी मिला ऐसा जवाब

Dakshi Sahu

Publish: Nov, 15 2017 04:05:52 (IST)

Bhilai Nagar Nigam Office, Akash Ganga, Bhilai, Chhattisgarh, India
मोर मकान मोर जमीन, घर तोड़ दिया पर नहीं शुरू किया काम, अधिकारी मिला ऐसा जवाब

तीन माह पहले भवन अनुज्ञा विभाग से एनओसी जारी किए जाने के बाद 100 से अधिक लोगों ने अब तक कार्य शुरू नहीं किया है।

भिलाई. प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान निर्माण प्रगति लक्ष्य से पीछे चल रहा है। तीन माह पहले भवन अनुज्ञा विभाग से एनओसी जारी किए जाने के बाद 100 से अधिक लोगों ने अब तक कार्य शुरू नहीं किया है। निगम ने प्रधानमंत्री आवास मोर मकान मोर जमीन योजना अंतर्गत तहत 400 से अधिक लोगों को कच्चा मकान को तोड़कर पक्का मकान बनाने के लिए अगस्त मेंं एनओसी जारी किया है।

हो जाना था छत की ढलाई
पीएम आवास योजना के तहत अब तक छत की ढलाई हो जाना था, लेकिन कई लोगों ने कार्य शुरू ही नहीं किया है। यह जानकारी बुधवार को समीक्षा बैठक में नोडल अधिकारी एसपी साहू ने आयुक्त केएल चौहान को दिया। उन्होंने बताया वे लगातार इस योजना की मॉनीटरिंग कर रहे हैं।

४२६ पट्टाधारियों को मिल रहा योजना का लाभ
नोडल अधिकारी एसपी साहू ने बताया कि मोर जमीन मोर मकान योजना के अंतर्गत निगम ने कोसा नगर, लक्ष्मी नगर, रामगनर, संत रविदास नगर, वृंदा नगर, बैकुंठधाम, संतोषीपारा, शारदपारा क्षेत्र के ४२६ पट्टाधारियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत कच्चा मकान को तोड़कर पक्का मकान बनाने के लिए एनओसी जारी किया है।

इसमें से 170 लोगों ने मकान को तोडऩे के बाद काम शुरू किया है। छत की ढलाई भी कर चुके हैं। फिनिशिंग का कार्य शेष है। कुछ लोगों ने प्लींथ लेबल कर छोड़ दिया है। आयुक्त ने सभी जोन कमिश्नर को हितग्राहियों से संपर्क कर कार्य में प्रगति लाने कहा। जितना हो सके निर्माण पूरा करने है।

यह रहे बैठक में उपस्थित
बैठक में अधीक्षण अभियंता सत्येन्द्र सिंह, कार्यपालन अभियंता आरके साहू, योजना अधिकारी मूर्ति शर्मा, जोन कमिश्नर टीके रणदीवे, बीके देवांगन, संजय बागड़े, आरके पदमवार, संजय शर्मा, सहायक अभियंता सुनील दुबे, कुलदीप गुप्ता, एमपी देवांगन, अखिलेश चंद्राकर मौजूद रहे।

दे रही सरकार 2.50 लाख अनुदान
मोर जमीन मोर मकान योजना के तहत स्वयं की जमीन या पट्टे की जमीन पर बने कच्चा मकान को तोड़कर पक्का मकान बनाने के लिए शासन २.५० लाख रुपए तक अनुदान दिया जाता है। योजना के तहत पहली किश्त कच्चा मकान को तोडऩे पर दिया जाता है। दूसरा छत लेबल तीसरा किस्त मकान की पुताई करने के बाद दिया जाता है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned