आगरा में 60 लाख का फर्जीवाड़ा करने वाली एजेंसी को भिलाई निगम ने दे दिया कचरा छटाई का ठेका, जांच के बाद होगी FIR

इस्पात नगर भिलाई शहर के कचरे की छंटाई कर खाद बनाने का ठेका लेने वाली ग्वालियर की एजेंसी मेसर्स एसएमआरटी वेस्ट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड डिफाल्टर निकली।

By: Dakshi Sahu

Published: 02 Dec 2020, 11:44 AM IST

भिलाई. इस्पात नगर भिलाई शहर के कचरे की छंटाई कर खाद बनाने का ठेका लेने वाली ग्वालियर की एजेंसी मेसर्स एसएमआरटी वेस्ट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड डिफाल्टर निकली। फर्म ने झूठा शपथ पत्र व जानकारी देकर ठेका हथिया ली थी। मंगलवार को निगम की महापौर परिषद ने ठेकेदार से किए गए अनुबंध व जारी कार्यादेश को निरस्त कर पुन: निविदा बुलवाने की मंजूरी दी। साथ ही उक्त फर्म के खिलाफ थाने में अपराधिक प्रकरण दर्ज कराने का भी संकल्प पारित किया गया।

ठेका निरस्त किया गया
नगर निगम भिलाई ने स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत अपने सभी छह एसएलआरएम सेंटर में रिसायकिल किए जाने योग्य कचरे के पृथकीकरण व गीले कचरे से खाद तैयार करने का ठेका ग्वालियर के मेसर्स एसएमआरटी वेस्ट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड को दिया था। फर्म से अनुबंध हो गया था और कार्यादेश भी जारी कर दिया गया था। इसी दौरान निगम प्रशासन को फर्म के डिफाल्टर होने की जानकारी मिली। आगरा निगम और वहां की पुलिस से पूरी जानकारी मंगाई गई। इसके बाद मंगलवार की शाम महापौर परिषद की बैठक बुलवाई गई। बैठक के एकमात्र एजेंडे की जानकारी आयुक्त ने दी। इसके बाद ठेका निरस्त कर दिया गया।

आगरा के हरीपर्वत थाने में दर्ज है 420 का मामला
आगरा निगम के अपर आयुक्त केबी सिंह की ओर से जारी एक पत्र में लिखा है कि मेसर्स एसएमआरटी वेस्ट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड का नाम काली सूची में दर्ज है। वहां षडयंत्र, बेईमानी और धोखाधड़ी कर 60 लाख 60 हजार रुपए हड़पने का भी उल्लेख है। आगर निगम प्रशासन ने उक्त फर्म के विरूद्ध थाना हरीपर्वत में 420 के तहत एफआईआर भी दर्ज कराई है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned