पुलिस भी देखकर हैरान, मोबाइल से जुआरियों को फोटो भेजते और नेटवर्क में शुरू हो जाता करोड़ों का सट्टा

मुंबई का मटका और सट्टा कारोबार की तरह भिलाई में भी मोबाइल नेटवर्क के जरिए करोड़ों का जुआ-सट्टा खिलाने का मामला उजागर हुआ है।

भिलाई. मुंबई का मटका और सट्टा कारोबार की तरह भिलाई में भी मोबाइल नेटवर्क के जरिए करोड़ों का जुआ-सट्टा खिलाने का मामला उजागर हुआ है। इसमें कुछ लोग खुद जुआ खेलने बैठते और उसका फोटो मोबाइल नेटवर्क से जुड़े जुआरियों तक भेज देते। इसके बाद नेटवर्क ग्रुप के लोग भी दांव लगाना शुरू कर देते।

मोबाइल पर खेला जा रहा था जुआ
जुआरियों के इस नेटवर्क का फंडाफोड़ शनिवार को हुआ। भट्ठी थाना पुलिस ने मोबाइल पर खेले जा रहे जुए के मामले में बीएसपी कर्मी प्रवीण पटेल और दुकान संचालक राकेश शर्मा को गिरफ्तार किया है। यह सेक्टर-४ चाइना मार्केट में फड़ जमाकर बैठे थे। इनके कब्जे से सैमसंग मोबाइल, केल्कुलेटर और नकदी ६९ हजार ३०० रुपए जब्त किए गए हैं। आरोपियों के खिलाफ धारा 4 (क) जुआ एक्ट के तहत कार्रवाई की गई।

तरीका देखकर रह गई हैरान
मुखबिर ने पुलिस को दो जगह मोबाइल नेटवर्क से जुआ खिलाए जाने की सूचना दी। जुआ खिलाने का जो तरीका बताया गया, उसको सुनकर पुलिस खुद भी हैरान रह गई। यह मोबाइल पर जो भी दाव लगता उसे शब्दों और अंको में सट्टा पट्टी पर लिखते थे। इसके बाद ५२ पत्ती का फोटो खीचकर वाट्सएफ के माध्यम से ग्रुप में भेज देते थे। उनमें से जो चाहता वह अपना दाव लगाता।

मुखबिर की सूचना पर दी दबिश
मरौदा सेक्टर 23 सीएच मार्केट से बीएसपी कर्मी प्रवीण भाई पटेल (46) और रिसाली बीएसपी मार्केट शॉप 18 सी निवासी राकेश शर्मा (53) को जुआ खिलाते पकड़ा गया। प्रवीण के कब्जे से 1 नग सैमसंग मोबाइल, केल्कुलेटर और 54 हजार 280 रुपए नगद सहित करोड़ों की सट्टा पट्टी का लेखा जोखा बरामद किया गया।

राकेश से सैमसंग मोबाइल, केल्कुलेटर और नकदी 15 हजार रुपए सहित करोड़ों की सट्टा पट्टी का लेखा जोखा बरामद किया गया। एएसपी ऑपरेशन डीआर पोर्ते ने बताया कि दो अलग-अलग स्थानों पर मोबाइल नेटवर्र्किंग के जरिए जुआ खेलाने की सूचना मिली थी। शहर में हाईटेक तरीके से जुआ का यह पहला मामला है। दो आरोपियों को मौके से गिरफ्तार किया गया है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned