छोटे भाई ने हड़प ली पैतृक जमीन, बंटवारा मांगने पर देता था धमकी, दु:खी होकर फंदे पर लटक गया बड़ा भाई

प्रॉपर्टी विवाद से परेशान बड़े भाई ने आत्महत्या कर ली। जांच के बाद पुलिस ने छोटे भाई के खिलाफ 306 के तहत अपराध दर्ज किया है। मामला पाटन का है।

By: Dakshi Sahu

Updated: 24 Oct 2020, 12:53 PM IST

भिलाई . प्रॉपर्टी विवाद से परेशान बड़े भाई ने आत्महत्या कर ली। जांच के बाद पुलिस ने छोटे भाई के खिलाफ 306 के तहत अपराध दर्ज किया है। मामला पाटन का है। पुलिस ने बताया कि पाटन निवासी प्रीतम देवांगन (40) ने 7 जुलाई 2020 को अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। मर्ग कायम कर विवेचना की गई। पुलिस ने बताया कि जांच में यह पता चला कि मृतक का अपने छोटे भाई मनोज देवांगन के साथ प्रॉपर्टी के बंटवारे को लेकर विवाद था। इसी से परेशान होकर उसने खुदकुशी की। जांच के बाद पुलिस ने छोटे भाई मनोज के खिलाफ अपराध दर्ज कर किया।

हड़प लिया था पैतृक जमीन
पुलिस के मुताबिक आजाद चौक पाटन निवासी प्रीतम देवागंन की मौत के बाद पुलिस ने लक्ष्मी नारायण भाले, गवाह मृतक की पत्नी हेमलता देवागंन व अन्य लोगों से पूछताछ की। घटना स्थल का निरीक्षण किया। पुलिस ने बताया कि साक्ष्यों के आधार पर व गवाहों के कथनों में यह बात सामने आई कि मनोज देवागंन ने पैतृक जमीन को हड़प लिया था। हिस्सा बंटवारा मांगने पर गाली-गलौज करता था। प्रॉपर्टी का बंटवारा नहीं दे रहा था। जिससे प्रताडि़त होकर बड़े भाई ने यह कदम उठाया। पूरी जांच में आरोपी मनोज देवागंन पिता बुधराम देवागंन निवासी आजाद चौक पाटन के खिलाफ प्रथम दृष्टया धारा 306 का अपराध घटित करना पाए जाने से अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

खाते से उड़ाए दिए 9 लाख 1 हजार
भिलाई के कुरुद वार्ड-16 निवासी रामजी निर्मलकर के स्टेट बैंक खाते से 9 लाख 1 हजार रुपए उड़ा दिए। शिकायत पर पुलिस ने धारा 420 के तहत जुर्म दर्ज किया है। जामुल थाना पुलिस ने बताया कि घटना 11 सितंबर की है। रामजी निर्मलकर की औद्योगिक क्षेत्र हाउसिंग बोर्ड स्टेट बैंक की ब्रांच में खाता है। उसके खाते से 9 लाख 1 हजार रुपए बिना किसी सूचना के कहीं ट्रांसफर हो गया। इसकी शिकायत बैंक की ब्रांच में की। जब कोई मदद नहीं मिली तब मामले की शिकायत पुलिस में की।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned