पर्यटक जल्द ही देख पाएंगे मैत्री बाग में तेजी से बढ़ते इस खूबसूरत जानवर के कुनबे को

मैत्रीबाग में नील गाय का कुनबा बढ़ रहा है। प्रबंधन ने इनकी संख्या के मुताबिक केज की व्यवस्था करना शुरू कर दिया है।

By: Dakshi Sahu

Published: 11 Sep 2017, 04:49 PM IST

भिलाई. मैत्रीबाग में नील गाय का कुनबा बढ़ रहा है। प्रबंधन ने इनकी संख्या के मुताबिक केज की व्यवस्था करना शुरू कर दिया है। पुराने केज के पीछे ही नए केज को तैयार किया जा रहा है। जिसमें तार की फैंसिंग का काम पूरा हो चुका है। अब इसमें गेट लगाया जाना शेष है।

दशकों पहले लाए थे एक जोड़ा
मैत्रीबाग में एक दशक पहले एक जोड़ा नील गाय लेकर आए थे, जिसकी संख्या अब बढ़ कर सात हो गई है। संख्या जिस अनुपात में बढ़ रही है, उस अनुपात में मैत्रीबाग प्रबंधन ने केज को बढ़ाया नहीं था। अब पीछे के हिस्से में नए केज को बढ़ाया जा रहा है।

हर माह आते हैं 50 हजार पर्यटक
मैत्रीबाग में हर माह करीब ५० हजार पर्यटक आते हैं। नील गाय का नया केज बनाया जा रहा है, वह इन पर्यटकों को नजर नहीं आएगा। प्रबंधन नए केज को पीछे के हिस्से में बना रहा है। जिससे नील गाय जू तक चहल कदमी कर सके। मैत्रीबाग में हर वर्ष करीब 6 लाख पर्यटक आते हैं।

 

यह नजर आएगा बदलाव
- मैत्रीबाग का विस्तार किया जा रहा है, जिसके लिए वन्य प्राणियों के प्रकार में बढ़ोत्तरी की जानी है। प्रबंधन विचार कर रहा है कि अन्य जू से जेब्रा, जिराफ, दरियाई घोड़ा, गैंडा को एक्सचेंज में लाया जाए।

पहली पसंद मैत्री एक्सप्रेस (मिनी ट्रेन) है
- जू में रंग-रोगन किया जा रहा है, पुराने मंकी के केज का ऊपरी हिस्सा सड़ चुका था, जिसे बदला जा रहा है।
- जवाहर उद्यान को घेरा लगाकर जोड़ा जा चुका है। अब उसमें वन्य प्राणियों के नए केज तैयार किए जा रहे हैं।

यह सप्ताह में दो दिन ही चलाई जा रही
- मैत्रीबाग आने वाले बच्चों की पहली पसंद मैत्री एक्सप्रेस (मिनी ट्रेन) है, उसे हर दिन चलाने पर विचार किया जा रहा है। वर्तमान में यह सप्ताह में दो दिन ही चलाई जा रही है।

Show More
Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned