यहां इंसान नहीं गरमा-गरम खीर का लुत्फ उठाते हैं खूंखार भालू

। इन दिनों भालू के जोड़ों को ठंड के मौसम गरमा-गरम खीर परोसा जा रहा है। इसमें खास तौर पर शहद मिलाया जाता है

भिलाई. मैत्रीबाग जू के वन्य प्राणियों को दिए जाने वाले व्यंजन में मौसम के साथ बदलाव किया जाता है। इन दिनों भालू के जोड़ों को ठंड के मौसम गरमा-गरम खीर परोसा जा रहा है। इसमें खास तौर पर शहद मिलाया जाता है, ताकि ठंड का उन पर असर न पड़े।

गूड़ से बने खीर को भालू बेहद चाव के साथ खाते हैं। मैत्रीबाग में जल्द ही खासा बदलाव भी किया जाएगा। इसके लिए प्रस्ताव प्रबंधन को भेजा जा चुका है। वहां से राशि मिलते ही केज को बदलने तैयारी की जाएगी। मैत्रीबाग में भालू को मौसम में ठंड आने के साथ खानपान में बदलाव किया जा रहा है।

प्रबंधन भालू के लिए खीर में चावल, दूध, शहद, मूंग दाल, कद्दू मिलाकर तैयार करता है। इस जू में मौजूद एक जोड़ा हिमालयन भालू को दिया जाता है। इसके बाद स्लोथ भालू दिया जाता है।

पक्षियों को रखा जाएगा साथ-साथ
मैत्रीबाग में अब तक अलग-अलग प्रजातियों के पक्षियों को अलग-अलग रखा जाता रहा है। नए पिंजरे में व्यवस्था अलग तरह की होगी, उसमें ऐसे पक्षियों को साथ-साथ रखा जाएगा, जो एक-दूसरे को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। वर्तमान पिंजरों से वे बड़े होंगे। पिजरों के भीतर पेड़-पौधे भी लगाए जाएंगे।

तोड़ा जाएगा पुराने पिंजरों को
जू के भीतर प्रवेश करते ही नजर आने वाले पक्षियों व बोनेट मंकी के तमाम पिंजरों को तोड़ा जाएगा। इनको जवाहर उद्यान में बनने वाले नएकेज में शिफ्ट किया जाएगा। सांभरों को भी हिरणों के बाजू से हटाकर जवाहर उद्यान में शिफ्ट करने की योजना है।

पहले चरण में होंगे यह काम
पहले चरण में केजों के अलावा रोड, ब्रिज, कलवर्ट, पानी निकासी की व्यवस्था को तैयार किया जाएगा। अब तक केवल जवाहर उद्यान की बाऊंड्रीवाल व वीआईपी गेट ही बन सका है।

मीडियम जू का दर्जा पाने छटपटाहट
मैत्रीबाग स्थित जू 1972 को अस्तित्व में आया। इसके बाद करीब 4५ वर्षों के दौरान जू को विकसित करने विशेष योजना नहीं बनाई गई। ६ वर्ष पहले जू को नए स्वरूप देने के लिए मास्टर प्लान का मसौदा तैयार कर सेंट्रल जू अथॉरिटी ऑफ इंडिया को भेजा गया। पिंजरों के ले-आउट को मंजूरी मिलने के बाद जू में काम शुरू किया जाएगा।

Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned