नेपाल में सम्मानित हुआ भिलाई का कलाकार

नेपाल में सम्मानित हुआ भिलाई का कलाकार
नेपाल में सम्मानित हुआ भिलाई का कलाकार

Abdul Salam | Updated: 06 Oct 2019, 01:06:59 PM (IST) Bhilai, Durg, Chhattisgarh, India

भिलाई के इस कलाकार को नेपाल में मिला बड़ा सम्मान, अनकेता में है एकता की मिसाल, हर धार्मिक स्थल पर पेश कर चुके कारीगरी.

भिलाई. आधुनिक भारतीय स्थापत्य कला के क्षेत्र में बेहतर योगदान के लिए वीरगंज, नेपाल में साहिब दरबार सेवा संस्थान ने एक कार्यक्रम में भिलाई के कलाकार हॉजी एमएच सिद्दिकी को सम्मान पत्र व शाल देकर सम्मानित किए। यह सम्मान साहिब दरबार सेवा संस्थान, नेपाल के अध्यक्ष राजेश मान सिंह ने किया। इस मौके पर साहिब दरबार सेवा संस्थान, भारत के संस्थापक अध्यक्ष रवींद्र सिंह भी मौजूद थे। इस मौके पर बड़ी तादात में भारत व नेपाल के श्रदालुओं के अलावा कबीर चौरा मगहर के महंत विचार दास, इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स के चेयरमेन डॉ बीएन सिंह, वीरगंज नेपाल की चेयरमेन, प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।

चार दशक से कर रहे कला के क्षेत्र में काम
यह भारतीय कलाकार कला के क्षेत्र में करीब 4 दशक से काम कर रहा है। देशभर में उन्होंने अपनी काबिलियत के झंडे गाड़े हैं। जिसके लिए उनको ढेर सारे पुरस्कार से सम्मानित किए हैं। जिसमें एक और पुरस्कार नेपाल का जुड़ गया।

यहां दिखाई अपनी कलाकृति
इस भारतीय कलाकार ने 1992 में डोंगरगढ़ में गुरुद्वारा का दोहरा गुम्बद, 1990 में भिलाई का ईदगाह, उत्तर प्रदेश के मझौली राज में बाबा भोला शफीशाह का मजार, 2000 से 2010 तक, करामत शाह का मजार छिंदवाड़ा में 1997 से 2000 तक तैयार किया। प्रथम राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद की जन्म स्थली जीरादेई, प्रखंड के एक ग्राम सींघई में आधुनिक भारतीय स्थापत्य कला विशेषज्ञ ने अपनी शील्प कला की अनोखी मिसाल पेश की है। उत्तर प्रदश के गाजीपुर जिले में संत हजरत अमानत रसुलशाह की दरगाह में गुम्बद का निर्माण, सीआईएसएफ-3 बटालियन के शास्त्रागार का तोप, दुर्ग में एकताद्वार, भिलाई का शिवमंदिर, कृष्ण मंदिर, राधा कृष्ण मंदिर, शंकर मंदिर, दल्ली राजहरा में बौद्ध मंदिर निर्माण किया।

इन पुरस्कारों से नवाजा गए यह कलाकार
भिलाई के इस कलाकार को बेहतर कला के लिए धरती पुत्र, तात्काली पर्यटन व संस्कृति मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने दिया, सेक्टर-6 जामा मस्जिद के इमाम अजमलुद्दीन हैदर ने इनको मुजाहिदे मिल्लत सम्मान से सम्मानित किया। कला का जादुगर जैसे सम्मान से भी इनको सम्मानित किया जा चुका है।

देशभर में बिखेरी कला
भिलाई के इस कलाकार ने छत्तीसगढ़ के साथ-साथ मध्य प्रदेश, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, बंगाल, आसाम में अपनी कला का जादू बिखेर चुके हैं। प्रदेश में दुर्ग, भिलाई, कवर्धा, धमतरी, कुरूद महासमुंद, बिलासपुर, रायपुर, गंडई राजनांदगांव में मंदिर, मस्जिद गुरूद्वारा, मदरसा, चर्च को आकर्षक रूप दिए।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned