दल्ली से किसके प्रचार में पहुंचे नेता, बीएसपी

एसकेएमएस के अध्यक्ष कमलजीत मान ने कहा कि बेहतर वेतन समझौते व लोकल एग्रीमेंट के लिए खदान और बीएसपी संयंत्र की यूनियन को एक होना होगा।

By: Abdul Salam

Published: 07 Jul 2019, 05:01 PM IST

भिलाई. भिलाई इस्पात संयंत्र में संयुक्त खदान मजदूर संघ ने फाउंड्री में कर्मियो से सीधे चर्चा की। एसकेएमएस राजहरा के अध्यक्ष कमलजीत मान, नंदिनी माइंस से श्रीधर ने कहा कि बेहतर वेतन समझौते व लोकल एग्रीमेंट के लिए खदान और बीएसपी संयंत्र की यूनियन को एक होना होगा। संघर्ष के बगैर अच्छे निर्णय होना संभव नहीं है। माइंस में एसकेएमएस ने संघर्ष कर दासा और कैंटीन भत्ता लेकर यह साबित भी किया है।

हर समझौता दिल्ली में नहीं होता
एसकेएमएस राजराह के अध्यक्ष ने कहा की भिलाई में यह भ्रम फैलाया गया है की हर आर्थिक निर्णय दिल्ली में होता है, जबकि माइंस की यूनियन ने अपने आंदोलनों से स्थानीय स्तर पर नए बेसिक का 10 फीसदी डिस्टरबेंस एलाउंस (दासा) और सब्सिडी वाली कैंटीन के साथ साथ कैंटीन भत्ता का समझौता स्थानीय स्तर पर किया है। लोकल एग्रीमेंट कराने के लिए दिल्ली जाने की जरूरत नहीं बल्कि स्थानीय स्तर पर मजबूत यूनियन बनाने की है।

 

लोकल एग्रीमेंट ना कर पाना सीटू की कमजोरी
संघ के उपाध्यक्ष विनोद सगरकर ने कहा की भिलाई में पिछले वेतन समझौते में स्थानीय स्तर पर कोई समझौता नहीं कर पाना मान्यता में रहने वाली यूनियन के कमजोरी है। सीटू और इंटक अपनी नाकामी को छुपाने लगातार कर्मियों को गुमराह कर रहे हैं।

नए लोन के लिए पैसा जमा करने की बाध्यता खत्म
मंच के अध्यक्ष अध्यक्ष भावसिंह सोनवानी ने कहा कि एसकेएमएस प्रतिनिधित्व वाला सीपीएफ ट्रस्ट ने अब उत्तर प्रदेश निवेश जैसे जोखिम निवेश पर पूरी तरह रोक लगा दी है। वहीं कर्मियों के हित में ऐतिहासिक फैसला लेते हुए नए लोन के लिए बकाया पैसा जमा करने वाले नियम को परिवर्तित करने का फैसला लिया है संयुक्त यूनियन ने यह मांग लगातार प्रबंधन के समक्ष उठाई है।

वहां हुई नुकसान
प्रवक्ता प्रदीप विश्वास ने कहा भिलाई में सीटू और इंटक प्रबंधन परस्त यूनियन है और इस्पात कर्मियों को इसकी जानकारी है. दासा हड़ताल सहित अन्य आंदोलनों में सीटू और इंटक नेताओं ने श्रमिक नेताओं के खिलाफ प्रबंधन से लिखित शिकायत की थी, इसका परिणाम दोनों यूनियनों ने खदान के चुनाव में भी भुगता।

Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned