scriptBhilyan's dominance in the state level competition in pigeon pelting | कबूतरबाजी में प्रदेशस्तर की प्रतियोगिता में भिलायंस का दबदबा | Patrika News

कबूतरबाजी में प्रदेशस्तर की प्रतियोगिता में भिलायंस का दबदबा

11 घंटे तक उड़ता रहा कबूतर,

भिलाई

Updated: May 08, 2022 10:23:58 pm

भिलाई. कबूतरबाजी में प्रदेशस्तर की प्रतियोगिता रविवार को शुरू हुई। मई के माह में बाज आसमान से गायब हो जाते हैं, इस वजह से यह प्रतियोगिता इस माह में हर साल होती है। इसमें प्रदेश के करीब 40 खिलाडिय़ों ने अपने-अपने 11-11 कबूतर उड़ाए। इस प्रतियोगिता में सबसे अधिक खिलाड़ी भिलाई और रायपुर से हिस्सा लेते हैं। जिसमें एक कप अगर राजधानी के हिस्से में जाता है तो दो भिलाई के हाथ आता है। यहां के कबूतरबाज इसके इतने शौकीन हैं कि जो विदेश में नौकरी करने जाते हैं, वे भी इसमें हिस्सा लेने के लिए साल में एक बार वतन लौट आते हैं। अगर नहीं आ पाते हैं तो उनके भाई कबूतर उड़ाकर उनके शौक को पूरा करते हैं। छत्तीसगढ़ स्तर की यह प्रतियोगिता हर साल मई में होती है। कोरोनाकाल के दौरान दो साल तक यह प्रतियोगिता नहीं हो सकी। अब पुन: शुरू हुई है।

कबूतरबाजी में प्रदेशस्तर की प्रतियोगिता में भिलायंस का दबदबा
कबूतरबाजी में प्रदेशस्तर की प्रतियोगिता में भिलायंस का दबदबा

11 घंटे तक उड़ता रहा कबूतर
रविवार को सुबह 6 बजे से कबूतर उड़ाए गए, रायपुर के जिस कबूतर ने यह प्रतियोगिता जीती वह शाम 5 बजे आसमान से उतरा। रायपुर के तन्नू भाई का यह कबूतर था, जो हर साल अलग-अलग प्रतियोगिया में जीत हासिल करते हैं। इन कबूतरों को प्रतियोगिता के लिए पहले तैयार किया जाता है। पहले कबूूतरों को धूप में किस तरह अधिक समय तक उडऩा है, इसका प्रशिक्षण दिया जाता है। कबूतर जब भीषण गर्मी में आसमान पर घंटेभर उड़ान भरता है, तब उस पर नजर रखने वाले कबूतरबाज धूप में आसमान पर टिकटिकी लगाए मौजूद रहते हैं।

नई तकनीक का किया जा रहा इस्तेमाल
प्रतियोगिता के दौरान कबूतरों पर आसमान में घंटों तक नजर ऑनलाइन कैमरे से रखी जाती है। हर घंटे में कबूतर का वीडियो वाट्सएप पर लोड किया जाता है। कबूतरों पर नजर रखने के लिए अंपायर भी हर जगह तैनात रहते हैं। सुपेला निवासी कबूतर उड़ाने के शौकीन राजकुमार ने बताया कि कबूतरबाजी का शौक महंगा है। कबूतर वफादार पक्षी है कितने देर भी आसमान में उड़ता रहे, लौटकर अपने मालिक के पास ही आता है। वह एक बार जिस घर को पहचान लेता है, उसे नहीं छोड़ता। कबूतर जब दो से तीन माह के हो जाते हैं तब से ही उनको प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया जाता है।

भिलाई में अलग-अलग स्थान से उड़ाए कबूतर
भिलाई में सुपेला, खुर्सीपार, रिसाली जैसे अलग-अलग स्थानों से कबूतर उड़ाए गए। लाला खलीफा की टीम के देवेंद्र देशमुख ने भी एक कप इस बार जीता है। लोकेश, चंदन और शाहिद भी बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके पहले भिलाई सेक्टर-1 के लिंकन का जादू चलता था। उन्होंने पांच में से चार प्रतियोगिता अपने नाम की थी।

भिलाई में शौकीनों की नहीं है कमी
देश की प्राचीन परंपरा जहां दम तोड़ रही है। वहीं राजघराने की इस परंपरा को छत्तीसगढ़ के शौकीनों ने आज भी जीवित रखा है। पुराने समय में कबूतरबाजी या कबूतर उड़ाना मनोरंजन का साधन था। भिलाई में भी इसके शौकीनों की कमी नहीं है। यहां शौकीन बेहतर नस्ल वाले कबूतर के जोड़े को 1 से 50 हजार रुपए तक में खरीद कर उनकी खिदमत करते हैं। जिससे वे आसमान में घंटों उड़ते रहें। कबूतर की कीमत उसके नस्ल पर निर्भर करती है। जीतने वाले कबूतर की नस्ल को बढ़ाया जाता है।

पिस्ता, बादाम खिलाने से पंखों में आती है ताकत
प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले कबूतरों के खानपान पर खास ध्यान रखा जाता है, उनको बाजरा, गेंहू से लेकर बादाम, पिस्ता, किशमिश तक लोग खिलाते हैं। कबूतर के पंख में उडऩे के लिए अधिक से अधिक ताकत मौजूद रहे, इसके लिए यह जतन किए जाते हैं। लोग अब घरों में शो वाले कबूतर पालते हैं। आगरा से मसक्ली कबूतर लाकर लोग पाल रहे हंै, जिसकी कीमत जोड़ा 10 हजार रुपए तक हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिवसेना में बगावत के बाद अब उपद्रव का डर! पोस्टर वॉर के बीच एकनाथ शिंदे के गढ़ ठाणे में धारा 144 लागूAmit Shah on 2002 Gujarat Riots: गुजरात दंगों पर SC के फैसले के बाद बोले अमित शाह, PM मोदी को इस दर्द को झेलते हुए देखा हैकेरल में राहुल गांधी के दफ्तर पर हुए हमले के बाद बड़ी कार्रवाई, DSP निलंबित, ADGP करेंगे मामले की जांच25 जून 1983, 39 साल पहले भारत ने रचा था इतिहास, लॉर्ड्स में वर्ल्ड कप जीतकर लहराया तिरंगाकौन हैं तपन कुमार डेका, जिन्हें मिली इंटेलिजेंस ब्यूरो की कमानपाकिस्तान की खुली पोल, 26/11 मुंबई हमले का मास्टर माइंड साजिद मीर जिंदा, ISI ने मोस्ट वांटेड आतंकी को बताया था मराMumbai News Live Updates: उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका, 'शिवसेना बालासाहेब' नाम से शिंदे खेमे ने बनाया नया समूहMaharashtra Political Crisis: एक्शन में शिवसेना! अयोग्य करार देने के लिए डिप्टी स्पीकर को भेजा 4 और MLA के नाम, 16 बागियों पर भी कार्रवाई की तैयारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.