सहकारी बैंक CEO विवाद: संचालकों को बड़ा झटका, HC में याचिका खारिज, जोशी संभालेंगे पदभार

सीईओ पदस्थापना को लेकर 6 माह से चल रहे विवाद में जिला सहकारी बैंक के संचालक मंडल को तगड़ा झटका लगा है।

By: Satya Narayan Shukla

Published: 26 Jan 2018, 07:00 AM IST

दुर्ग . पूर्व सीईओ विनोद गुप्ता के जेल जाने के बाद खाली पद पर पदस्थापना को लेकर 6 माह से चल रहे विवाद में जिला सहकारी बैंक के संचालक मंडल को तगड़ा झटका लगा है। संचालक मंडल ने राज्य सहकारी बैंक द्वारा अपने प्रबंध संचालक एसके जोशी को सीईओ बनाए जाने पर आपत्ति दर्ज कराते हुए हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी। इस पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने राज्य सहकारी बैंक की नियुक्ति को निर्णय तक शून्य घोषित कर दिया। लेकिन अब हाईकोर्ट ने याचिका खारिज कर दी है। इससे जोशी के पदभार ग्रहण का रास्ता साफ हो गया है।

नई पदस्थापना को लेकर यह घमासान चल रहा था
जिला सहकारी बैंक के पूर्व सीईओ विनोद गुप्ता 9 अगस्त को बिल स्वीकृत करने के एवज में स्टेशनरी सप्लायर से रिश्वत लेते पकड़े गए थे। इसके बाद से सीईओ के खाली पद पर नई पदस्थापना को लेकर यह घमासान चल रहा था। जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के संचालक मंडल ने एनके स्वर्णकार को अस्थायी तौर पर सीईओ नियुक्त कर पदभार दे दिया था। वहीं राज्य सहकारी बैंक ने प्रबंध संचालक एसके जोशी को पूर्णकालिक सीईओ नियुक्त कर दिया था। संचालक मंडल ने पहले सीईओ जोशी को बिना पदभार के लौटा दिया था। इसके बाद पंजीयक सहकारी संस्था के हस्तक्षेपर पर उन्हें पदभार दे दिया गया था। बाद में हाईकोर्ट के स्टे के कारण जोशी को वापस लौटना पड़ा था।

संचालकों की जोशी की नियुक्ति पर यह थी आपत्ति
बैंक के संचालक मंडल ने राज्य सहकारी बैंक द्वारा सीईओ की पदस्थापना पर सवाल खड़ा किया था। संचालक मंडल ने कहना था कि बैंक स्वशासी निकाय है और संचालक मंडल को सीईओ की नियुक्ति का अधिकार है। इसी के तहत उन्होंने सर्व सम्मति से डिप्टी मैनेजर स्वर्णकार को सीईओ को बनाया है, जो नियमानुसार है।

राज्य सहकारी बैंक का नियुक्ति पर यह तर्क
संचालक मंडल ने राज्य सहकारी बैंक की नियुक्ति पर सवाल खड़ा करते हुए राज्य सहकारी बैंक को भी पत्र लिखा था।इस पर राज्य सहकारी बैंक के प्रबंधसंचालक एचके नागदेव ने स्थिति स्पष्ट की थी। उनका कहना है कि सीईओ की नियुक्ति छत्तीसगढ़ सहकारी सोसायटी अधिनियम 196 0 की धारा 54 के तहत किया गया है। इसमें अपेक्स बैंक संवर्ग सेवा के अधिकारी को सीईओ नियुक्ति का प्रावधान है।

जोशी ने दी ज्वाइनिंग पर नहीं मिला पदभार
हाईकोर्ट में संचालक मंडल की याचिका खारिज होने के बाद प्रबंध संचालक एसके जोशी गुरुवार की दोपहर जिला सहकारी केंद्रीय बैंक पहुंचे और आमद दी, लेकिन उन्हें सीईओ का पदभार नहीं मिला। दरअसल प्रभारी सीईओ एनके स्वर्णकार जोशी के पहुंचने से पहले ही दौरे पर निकल गएथे। पदभार नहीं मिलने के कारण जोशी गुरुवार को पूरे दिन मुख्य लिपिक कार्यालय में खाली बैठे रहे।

ज्वाइनिंग दे दी

जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के प्रबंध संचालक एसके जोशी ने कहा कि हाईकोर्ट में याचिका खारिज हो जाने के कारण मेरी पदस्थापना आदेश स्वमेव स्टैंड हो गया है। इसलिए मैनें आदेशानुसार आकर ज्वाइनिंग दे दी है। प्रभारी अधिकारी के दौरे में होने पदभार ग्रहण नहीं कर पाया। जल्द पदभार हो जाएगा।

कोर्ट के निर्णय का पालन किया जाएगा

जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के अध्यक्ष प्रीतपाल बेलचंदन ने कहा कि हाईकोर्ट ने याचिका को खारिज कर दी है। कोर्ट के निर्णय का पालन किया जाएगा। प्रभारी सीईओ स्वर्णकार की जगह राज्य सहकारी बैंक द्वारा नियुक्त जोशी को पदभार सौंपा जाएगा।

Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned