बस्तर के माइंस ठेकेदार सुनील लोढ़ा की डौंडी में हत्या, हाथ-पैर बंधा शव बिस्तर में मिला

डौंडी नगर में बीती रात माइंस ठेकेदार 56 वर्षीय सुनील कुमार लोढ़ा को अज्ञात लोगों ने उनके मुख्य बाजार स्थित निवास में रहस्यमय तरीके से मौत के घाट उतार दिया। कमरा अंदर से बंद और उनका हाथ-पैर बंधा हुआ मिला।

By: Satya Narayan Shukla

Published: 25 Nov 2018, 10:36 PM IST

बालोद@patrika. डौंडी नगर में बीती रात माइंस ठेकेदार 56 वर्षीय सुनील कुमार लोढ़ा को अज्ञात लोगों ने उनके मुख्य बाजार स्थित निवास में रहस्यमय तरीके से मौत के घाट उतार दिया। कमरा अंदर से बंद और उनका हाथ-पैर बंधा हुआ मिला। हत्या की घटना से पूरे नगर में सनसनी फैल गई। सूचना पर फोरेंसिक एक्सपर्ट के साथ पुलिस डॉग स्क्वाड के साथ पहुंची थी। शव की स्थिति देखकर ऐसा माना जा रहा है कि उनकी बेरहमी से हत्या कर दी गई है। घर के आस-पास सीसीटीवी कैमरे में लगभग रात ढाई बजे चार लोगों के फुटेज मिले हैं।

घटना की पहली जानकारी मृतक के बेटे के मित्र ने दी
पुलिस के अनुसार इस हाई प्रोफाइल मर्डर की जानकारी मृतक के बेटे के दोस्त ने दी। उसके अनुसार मृतक का पुत्र सुमीत लोढ़ा ने सुबह अपने पिता सुनील को किसी काम के लिए फोन लगाया। फोन रिसिव नहीं करने पर उन्होंने अपने मित्र डौंडी निवासी अंकित तिवारी को फोन से कहा कि पापा फोन नहीं उठा रहे हैं आप घर जाकर देखो। दोस्त अंकित ने बाजार स्थित मकान जाकर दरवाजा खटखटाया, तो अंदर से कोई आवाज नहीं आई। तब बेटे सुमीत ने अंकित से अंदर जाने का माध्यम बताया, तो अंकित ने दीवार फांदकर मकान के अंदर पहुंचा। मृतक के कमरे का दरवाजा खुला हुआ था। मृतक सुनील एक ओर लुढ़के हुए थे, हाथ-पैर बंधा हुआ था। उन्होंने तत्काल इसकी सूचना पुत्र सुमीत के साथ जैन समाज को दी। समाज के प्रमुख लोगों ने पुलिस को इसकी जानकारी दी।

 

 

balod patrika

घटना स्थल पर खुद पहुंचे आईजी जीपी सिंह
सूचना के घंटेभर बाद डौंडी थाना प्रभारी विकास देशमुख घटना स्थल पहुंचे, तो किसी भी को अंदर जाने से मना करते हुए पहले उच्च अधिकारियों से चर्चा की। उसके बाद दल्लीराजहरा सीएसपी व फोरेंसिक अधिकारी डॉग स्क्वाड की टीम पहुंची। टीम ने घटना स्थल की डॉग के साथ बारीकी से जांच की। थोड़ी ही देर में आईजी जीपी सिंह मौके पर पहुंचे और टीम से चर्चा की। उसके बाद शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही वास्तविक कारण का पता चलेगा।

सीसीटीवी में दिख रहे आधा दर्जन लोग
इस संबंध में पुलिस ने रसोइया शैलेष से रात तक की पूरी जानकारी ली है। इसी दिशा में पुलिस घर के आसपास व मार्ग में लगे सीसीटीवी कैमरे की जांच में फूटेज खंगाल रही है। फुटेज में पाया गया कि रात ढाई बजे के आसपास 6 से 7 संदिग्ध लोगों की आवाजाही हुई है, जो फोन में बात करते हुए वहां से गुजरे हैं। फोरेंसिक एक्सपर्ट के अनुसार यदि संदिग्धों द्वारा उस दौरान मोबाइल से बातकी जा रही थी, तो इस एरिया में ट्रेस कर उन तक पहुंचा जा सकता है। बहरहाल पुलिस हर दृष्टि को ध्यान में रखते हुए मामले की तह तक जाने में लगी हुई है।

 

Balod patrika

रात 10.30 बजे तक रसोइया था साथ
जानकारी अनुसार मृतक सुनील को शनिवार की रात करीब सवा 10 बजे कार से आते हुए देखा गया। उसके बाद उन्होंने रसोइया शैलेष जायसवाल से गर्म पानी मांगकर रात लगभग १०.३० बजे भोजन लगाने कहा। उसके बाद रसोइया घर चला गया था।

पिछले साल मृतक के 11 वाहनों को माओवादियों ने लगा दी थी आग
बता दें कि बस्तर के दुर्गुकोंदल के आगे हाहालद्दी माइंस में मृतक सुनील लोढ़ा की 11 वाहनों को पिछले साल नक्सलियों ने आग के हवाले कर दिया था। जानकारी मिली कि मृतक सुनील का परिवार लगभग 10 वर्षों से रायपुर में रहते हैं। परिवार में एक लड़का व एक लड़की और पत्नी है। मृतक सप्ताह में दो-तीन दिनों के लिए डौंडी में आकर रुकता था। माइंस कर्मचारियों को वेतन भुगतान करने लाखों रुपए लेकर निवास स्थान डौंडी आते थे। हत्या को आपसी व्यापारिक प्रतिस्पर्धा से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned