बीएसपी ने जिन कोरोना संक्रमितों को किया निजी अस्पताल में रेफर, उसके खर्च की हो जांच

सीईओ को मृतक बीएसपी कर्मचारी के पिता ने लिखा पत्र. जिला प्रशासन ने निजी अस्पताल के बिल का जांच कर कहा बीएसपी से लिया गया दो लाख अधिक.

By: Abdul Salam

Updated: 05 Feb 2021, 11:59 PM IST

भिलाई. भिलाई इस्पात संयंत्र के जितने भी कार्मिकों को कोरोनाकाल के दौरान निजी अस्पतालों में इलाज के लिए दाखिल किया गया है, उन अस्पतालों को किए गए बिलों के भुगतान की जांच की जाए। एक मामले में जांच के दौरान जिला प्रशासन ने साफ कर दिया है कि निजी अस्पताल बीएसपी से करीब दो लाख रुपए अधिक लिया है। इसके बाद ही यह मांग प्रबंधन से की जा रही है ताकि बीएसपी को निजी अस्पताल कर्मियों के इलाज के नाम पर लाखों का चूना न लगा दें।

बेटे की मौत के बाद पिता ने किया प्रबंधन को आगाह
भिलाई इस्पात संयंत्र के एक युवा कर्मचारी को इलाज के लिए सेक्टर-9 अस्पताल में दाखिल किया गया। जहां से प्रबंधन ने निजी अस्पताल के लिए रेफर किया। इलाज के दौरान उक्त कर्मचारी की मौत हो गई। तब परिवार ने कलेक्टर और चीफ मेडिकल हेल्थ ऑफिसर से मामले की जांच करने मांग की। जांच में पाया गया कि उक्त मामले में बीएसपी से निजी अस्पताल ने करीब 1.92 लाख रुपए अधिक वसूला है।

जिला प्रशासन की तर्ज पर हो जांच
मृतक के पिता ने बीएसपी सीईओ अनिर्बान दासगुप्ता से मांग किया है कि जिस तरह से जिला प्रशासन ने कोरोना मरीजों के लिए तय शुल्क को सामने रख बेड, आईसीयू व दवा के खर्च की जांच की है। वैसे ही बीएसपी प्रबंधन जितने भी कर्मचारी को रेफर किया गया, उनके बिलों की जांच करने के बाद ही बिलों का भुगतान करे। इससे बीएसपी का करोड़ों रुपए बचेगा।

भिलाई से लेकर रायपुर तक किए गए रेफर
भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मियों को सेक्टर-9 अस्पताल से विभिन्न अस्पतालों में रेफर किया गया। जिसमें भिलाई के साथ-साथ रायपुर के अस्पताल भी शामिल हैं। इन कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए शासन से तय गाइड लाइन के मुताबिक ही शुल्क लिया जाना है। शासन से तय नियम से अधिक बिल मांगने पर प्रबंधन को केवल एक पत्र ही जिला प्रशासन को लिखना होता है।

एक मामला सामने आने के बाद भी प्रबंधन क्यों है खामोश
एक पीडि़त ने बच्चे की मौत के बाद मामले में जांच करने जिला प्रशासन को पत्र लिखा और बीएसपी से अधिक बिल लेने की बात सामने आ गई। तब प्रबंधन को खुद मामले को संज्ञान में लेकर तमाम मरीजों से निजी अस्पताल जो बिल ले रहे हैं, उसकी जांच करवाना था, इससे बीएसपी को ही आर्थिक लाभ होगा।

COVID-19
Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned