scriptCG Scientist discovered method of measurement of heart rate | छत्तीसगढ़ के युवा वैज्ञानिक ने खोजी न्यूनतम कीमत में हृदयगति मापन की ऐसी विधि, शोध देखकर दुनिया रह गई है हैरान | Patrika News

छत्तीसगढ़ के युवा वैज्ञानिक ने खोजी न्यूनतम कीमत में हृदयगति मापन की ऐसी विधि, शोध देखकर दुनिया रह गई है हैरान

डॉ. अरिंदम ने एआईपी एडवांसेस नामक अंतरराष्ट्रीय प्रकाशन में (प्रकाशक: अमरीकन इंस्टिट्यूट ऑफ फिजिक्स) एक शोध-पत्र प्रकाशित किया है

भिलाई

Published: January 18, 2022 09:12:35 am

भिलाई. छत्तीसगढ़ के भिलाई में पले बढ़े डॉ. अरिंदम कुशाग्र ने अपने साइंटिफिक रिसर्च से एक अतिमहत्वपूर्ण चिकित्सकीय जांच की प्रक्रिया को सरल करने में सफलता पाई है। वर्तमान में किसी भी व्यक्ति के दिल धड़कने के रिदम की जांच करने के लिए भारी भरकम मशीनों की ज़रूरत पड़ती है। डॉ. कुशाग्र ने ऐसी तकनीक ईजाद की है जिसमे यह जांच आसानी से उपलब्ध सामान्य चीजों से हो जाएगी। डॉ. अरिंदम ने एआईपी एडवांसेस नामक अंतरराष्ट्रीय प्रकाशन में (प्रकाशक: अमरीकन इंस्टिट्यूट ऑफ फिजिक्स) एक शोध-पत्र प्रकाशित किया है, जिसमें उन्होंने न्यूनतम कीमत में हृदयगति-मापन विधि का आविष्कार किया है। यह विधि बहुत ही आसानी से हृदयगति-मापन करने में समर्थ है और इसे कोई भी लेटा हुआ व्यक्ति, कहीं भी कर सकता है। आवश्यकता है केवल एक चमकदार वस्तु अथवा एक आईने की, जिसे पेट के ऊपर रखकर इस विधि को सरलतापूर्वक पूरा किया जा सकता है। इस विधि को उन्होंने रिफ्लेक्टोकार्डियोग्राफी (आरसीजी) नाम भी दिया है। इस विधि द्वारा दुर्गम स्थानों पर, जहां मूलभूत चिकित्सा सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं हो पातीं, हृदयघात के मरीजों को भी समय रहते चिन्हित किया जा सकेगा एवं यह विधि चिकित्सकों व चिकित्सा-क्षेत्र से जुड़े शोधकर्ताओं के लिए बेहद रुचिकर साबित होगी।
छत्तीसगढ़ के युवा वैज्ञानिक ने खोजी न्यूनतम कीमत में हृदयगति मापन की ऐसी विधि, शोध देखकर दुनिया रह गई है हैरान
छत्तीसगढ़ के युवा वैज्ञानिक ने खोजी न्यूनतम कीमत में हृदयगति मापन की ऐसी विधि, शोध देखकर दुनिया रह गई है हैरान
सरसों तेल से पीएच मापन प्रणाली का अविष्कार किया
डॉ. अरिंदम लगातार नवीन शोध-कार्यों में संलिप्त रहे हैं और अनेक अंतरराष्ट्रीय शोध-पत्र एवं पेटेंट्स प्रकाशित करते रहे हैं। पूर्व में उन्होंने केवल सरसों के तेल का उपयोग करते हुए पीएच-मापन प्रणाली का आविष्कार किया है एवं तेल-पानी की सम्मिलित सतह का उपयोग करते हुए डीसी वोल्टेज लगाकर अल्टरनेटिंग करंट बनाने का भी आविष्कार किया है।
नैनो टेक्नोलॉजी के असिस्टेंट प्रोफेसर हैं
बीएसपी सीनियर सेकेंडरी स्कूल सेक्टर 10 से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद डॉ. कुशाग्र बायोटेक्नोलॉजी में बीटेक व एम टेक की पढ़ाई करने आईआईटी खडग़पुर चले गए। वहीं से उनका रूझान नवीन शोध-कार्यों की ओर बन गया। पश्चात् उन्होंने पीएचडी एवं पोस्टडॉक की अवधि आईआईटी मुंबई एवं आईआईटी दिल्ली में पूरी की। अभी वे अमिटी विश्वविद्यालय कोलकाता में नैनो टेक्नोलॉजी के असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में कार्यरत हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

वाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर अहम बहस, जानें किन मुद्दों पर हो सकता है फैसलादिल्ली में आज एक बार फिर चलेगा बुलडोजर! सुरक्षा के लिए 400 पुलिसकर्मियों की मांगकांग्रेस नेता कार्ति चिंदबरम के करीबी को CBI ने किया गिरफ्तार, कल कई ठिकानों पर हुई थी छापेमारीभारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगामुस्लिम पक्षकार क्यों चाहते हैं 1991 एक्ट को लागू कराना, क्या कनेक्शन है काशी की ज्ञानवापी मस्जिद और शिवलिंग...योगी की राह पर दक्षिण के बोम्मई, इस कानून को लागू करने वाला नौवां राज्य बना कर्नाटकSri Lanka Crisis: राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे की बची कुर्सी, अविश्वास प्रस्ताव हुआ खारिज900 छक्के, IPL 2022 में रचा गया इतिहास, बल्लेबाजों ने 15वें सीजन में बनाया ऐतिहासिक रिकॉर्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.